लॉकडाउन के चलते मंदी की चपेट में ब्रिटेन, दूसरी तिमाही में अर्थव्यवस्था में 20% की गिरावट

लॉकडाउन के चलते मंदी की चपेट में ब्रिटेन, दूसरी तिमाही में अर्थव्यवस्था में 20% की गिरावट
ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था आधिकारिक रूप से मंदी की चपेट में

UK in record recession: ब्रिटेन में लगातार दो तिमाही के दौरान नकारात्मक विकास दर होने पर अर्थव्यवस्था को आधिकारिक रूप से मंदी की चपेट में माना जाता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 12, 2020, 2:32 PM IST
  • Share this:
लंदन. ब्रिटेन में कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) पर काबू पाने के लिए लागू किए गए लॉकडाउन (Lockdown) के चलते दूसरी तिमाही में जीडीपी में 20.4 प्रतिशत की कमी आई, जिसके साथ ही अर्थव्यवस्था आधिकारिक रूप से मंदी की चपेट में आ गई है. ब्रिटेन में लगातार दो तिमाही के दौरान नकारात्मक विकास दर होने पर अर्थव्यवस्था को आधिकारिक रूप से मंदी की चपेट में माना जाता है.

राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय के आंकड़ों के मुताबिक वर्ष 2020 की पहली तिमाही में अर्थव्यवस्था 2.2 प्रतिशत घटी थी. दूसरे देशों के विपरीत ब्रिटेन की सांख्यिकी एजेंसी तिमाही आंकड़ों के साथ ही मासिक आंकड़े भी जारी करती है और इन आंकड़ों से पता चलता है कि अर्थव्यवस्था में सुधार की उम्मीद दिख रही है. ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था जून में गैर-मूलभूत वस्तुओं की दुकानों को फिर से खोलने की इजाजत देने के बाद 8.7 प्रतिशत की दर से बढ़ी. ब्रिटेन की सरकार को उम्मीद है कि अर्थव्यवस्था को खोलने और कामकाज को आसान बनाने के चलते आगे सुधार होगा.

यह भी पढ़ें- GST Council Meeting: जल्द पान मसाला-सिगरेट हो सकते हैं महंगे, सेस बढ़ाने की तैयारी



एक महीने में 1.4 लाख हुए बेरोजगार
ब्रिटेन में एक महीने में 1.4 लाख (one lakh and Fourty thousand) लोगों की नौकरियां चली (Job Lost) गई हैं. इन आंकड़ों के अनुसार जून में 139,000 से अधिक नौकरियां चली गईं हैं. इन्सॉल्वेंसी सर्विस द्वारा बेकारी के ये भयावह आँकड़े उस समय जारी किये गए हैं जब कुछ दिनों बाद ही ब्रिटेन के आधिकारिक रूप से मंदी में फंसने की घोषणा किये जाने की संभावना जताई जा रही है.

वर्क फ्रॉम होम से अर्थव्यवस्था को हो रहा नुकसान
संघर्षरत सिटी सेंटर फर्मों की मदद के लिए जीडीपी उठाने वाली कंपनियों को वापिस ऑफिस आने जाने का अनुरोध किया जा रहा है. ऐसी आशंका है कि घर से काम करने से अर्थव्यवस्था को भारी नुकसान हो रहा है क्योंकि व्यस्त कार्यालयों पर निर्भर रहने वाले व्यवसाय जैसे सैंडविच की दुकानों और पब से लेकर ड्राई क्लीनर और हेयरड्रेसर तक सभी काम धंधे से वंचित हो गए हैं क्योंकि लोग ऑफिस नहीं आ रहे और घर से ही ऑफिस का काम कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading