अब टैक्स फ्री नहीं रही ULIP की मैच्योरिटी पर मिलने वाली रकम, जानें डिटेल्स

यूलिप एक यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्रोडक्ट है जहां इंश्योरेंस और निवेश लाभ एक साथ मिलता है.

यूलिप एक यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्रोडक्ट है जहां इंश्योरेंस और निवेश लाभ एक साथ मिलता है.

अगर आप यूलिप (ULIP) में एक साल में 2.5 लाख रुपये से ज्‍यादा के प्रीमियम का भुगतान करते हैं तो सेक्‍शन 10 (10डी) के तहत उपलब्‍ध टैक्‍स एग्‍जेम्‍पशन हटा दिया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 10, 2021, 4:50 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस पॉलिसी यानी यूलिप (Unit linked Insurance Policy) में निवेश करने वालों के लिए जरूरी खबर है. अगर आप यूलिप (ULIP) में एक साल में 2.5 लाख रुपये से ज्‍यादा के प्रीमियम का भुगतान करते हैं तो सेक्‍शन 10 (10डी) के तहत उपलब्‍ध टैक्‍स एग्‍जेम्‍पशन हटा दिया गया है. हालांकि यह नियम मौजूदा यूलिप पर लागू नहीं होगा. हालांकि 1 फरवरी 2021 के बाद के बाद बेची गई पॉलिसियों पर यह प्रभावी होगा.

बजट और यूलिप

यूलिप पर हुए कैपिटल गेंस पर उसी तरह से टैक्स लगेगा, जैसे कि म्यूचुअल फंड पर लगाया जाता है. किसी एक फाइनेंशियल ईयर में 1 लाख रुपये से ज्यादा के गेन्स पर 10 फीसदी लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स टैक्स लगता है. अब से 2.5 लाख रुपये से ज्यादा के सालाना प्रीमियम वाली यूलिप पर टैक्स छूट का ये फायदा नहीं मिलेगा.

ये भी पढ़ें- FM निर्मला सीतारमण ने कहा-केंद्र क्रिप्‍टोकरेंसी पर पाबंदी को लेकर अडिग, सिर्फ सरकारी ई-करेंसी को दी जा सकती है छूट
क्या है ULIP?

यूलिप एक यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्रोडक्ट है जहां इंश्योरेंस और निवेश लाभ एक साथ मिलता है. इन्हें बीमा कंपनियों द्वारा पेश किया जाता है. जब यूलिप का प्रीमियम का भुगतान करते हैं, तो इसका एक हिस्सा इंश्योरेंस कंपनी द्वारा आपको इंश्योरेंस कवरेज प्रदान करने के लिए प्रयोग किया जाता है और बाकी का कर्ज और इक्विटी में निवेश करने के लिए उपयोग किया जाता है. यूलिप में इंश्योरेंस और निवेश का कॉम्बिनेशन 5 साल के लॉक-इन पीरियड के साथ आता है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज