राहत: शहरी इलाकों में गिरी बेरोजगारी दर, जानिए किस राज्य का कैसा है हाल?

शहरी इलाकों में बेरोजगारी दर (Unemployment rate) में गिरावट आई है.
शहरी इलाकों में बेरोजगारी दर (Unemployment rate) में गिरावट आई है.

पिछले साल की दूसरी तिमाही में शहरी इलाकों में बेरोजगारी दर (Unemployment rate) में गिरावट आई है. सांख्यिकी मंत्रालय की ओर से बेरोजगारी दर से आंकड़े जारी किए गए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 20, 2020, 2:01 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: पिछले साल की दूसरी तिमाही में शहरी इलाकों में बेरोजगारी दर (Unemployment rate) में गिरावट आई है. सांख्यिकी मंत्रालय की ओर से बेरोजगारी दर से आंकड़े जारी किए गए हैं. इन आंकड़ों के मुताबिक, जुलाई-सितंबर 2019 में बेरोजगारी की दर गिरकर 8.4 फीसदी पर पहुंच गई है. वहीं, जून तिमाही में ये दर 8.9 फीसदी थी. पीरियडिक लेबर फोर्स सर्वे (PLFS) के आंकड़ों के मुताबिक ही सांख्यिकी मंत्रालय (MoSPI) ने ये जानकारी दी है.

इन राज्यों के शहरी इलाके में है ज्यादा बेरोजगारी
शहरी इलाकों की बात करें तो यहां पर 15 से 29 साल तक के लोगों में बेरोजगारी दर करीब 21 फीसदी थी. वहीं, केरल, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, आंध्र प्रदेश, दिल्ली, बिहार, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और तेलंगाना के शहरी इलाकों में बेरोजगारी दर काफी ज्यादा है. पिछले साल की दूसरी तिमाही में ये दर करीब 9.4 फीसदी दर्ज की गई थी.

यह भी पढ़ें: Bullet Train: पीएम मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट को बनाएगी ये भारतीय कंपनी, जानिए सबकुछ
किसे माना जाता है बेरोजगार?


आपको बता दें साल 2019 में जनवरी से लेकर सितंबर तक की तीन तिमाही में शहरी बेरोजगारी की दर में कमी आई है. केंद्र सरकार की ओर से जारी की गई साप्ताहिक रिपोर्ट के मुताबिक, अगर कोई भी व्यक्ति किसी भी हफ्ते में एक घंटा भी काम नहीं करता है तो उसको बेरोजगार मान लिया जाता है.

कितने फीसदी हैं पुरुष और महिलाएं?
इंडिया के शहरी इलाकों की बात करें तो यहां पर पुरुषों की बेरोजगारी दर करीब 8 फीसदी दर्ज की गई है. वहीं, महिलाओं की 9.7 फीसदी दर्ज की गई है.

सिर्फ 1.76 लाख लोगों से की गई बातचीत
इस सर्वें में करीब 1.76 लाख लोगों से बातचीत की गई थी, जिसके आधार पर ये रिजल्ट निकाला गया है. सितंबर में समाप्त तिमाही में सर्वे करने के लिए 44,471 घरों से बातचीत की गई. अप्रैल-जून 2019 की अवधि में सर्वे करने के लिए सैंपल साइज 1.80 लाख लोगों का था, जबकि उसमें 45,288 घरों से बातचीत की गई थी. कामकाज में श्रम भागीदारी 36.2 फ़ीसदी से बढ़कर 36.8 फ़ीसदी हो गई. इसके साथ ही वर्कर पॉपुलेशन रेश्यो भी जून तिमाही के 32.9 फ़ीसदी से बढ़कर 33.7 फ़ीसदी हो गई.

किस राज्य में इस समय कितनी है बेरोजगारी दर
आंकड़ों के मुताबिक, हरियाणा में बेरोजगारी दर 19.7 फीसदी है. वहीं, हिमाचल प्रदेश में ये दर 12 फीसदी, उत्‍तराखंड में 22.3 फीसदी, त्रिपुरा में 17.4 फीसदी, गोवा में 15.4 फीसदी और जम्‍मू-कश्‍मीर में 16.2 फीसदी है.

यह भी पढ़ें: इस मामले में बिहार है दिल्‍ली-हरियाणा से बेहतर, इन 10 राज्‍यों का है सबसे बुरा हाल

बंगाल और पंजाब का हाल जानिए
बेरोजगारी दर के मामले में पश्चिम बंगाल और पंजाब की स्थिति कुछ बेहतर है. पश्चिम बंगाल में जहां बेरोजगारी दर 9.3 फीसदी है तो पंजाब में 9.6 फीसदी है. वहीं, सितंबर 2020 में राष्‍ट्रीय बेरोजगारी दर (National Rate) 6.67 फीसदी रहा है. ये अप्रैल 2020 की 23.52 फीसदी और मई 2020 की 21.3 फीसदी से बहुत नीचे आ चुकी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज