होम /न्यूज /व्यवसाय /त्‍योहारी सीजन में भी रोजगार का टोटा! अक्‍टूबर में बेरोजगारी दर बढ़कर 7.8% पहुंची, गांवों की स्थिति ज्यादा खराब

त्‍योहारी सीजन में भी रोजगार का टोटा! अक्‍टूबर में बेरोजगारी दर बढ़कर 7.8% पहुंची, गांवों की स्थिति ज्यादा खराब

देश के नौ राज्यों में बेरोजगारी दर राष्ट्रीय औसत के मुकाबले ज्यादा रही.

देश के नौ राज्यों में बेरोजगारी दर राष्ट्रीय औसत के मुकाबले ज्यादा रही.

आंकड़ों के मुताबिक, मध्य प्रदेश में सबसे कम बेरोजगारी दर 0.9 प्रतिशत, इसके बाद छत्तीसगढ़ में 0.9 प्रतिशत, ओडिशा में 1.1 ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

सितंबर में भारत में बेरोजगारी दर चार साल के निचले स्तर पर थी.
इसमें शहरी क्षेत्रों के मुकाबले गांवों की स्थिति ज्यादा खराब है.
शहरी क्षेत्रों में बेरोजगारी दर 7.21 फीसदी तो ग्रामीण इलाकों में 8.4 फीसदी है.

नई दिल्ली. सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सीएमआईई) ने बेरोजगारी के आंकड़े जारी किए हैं. इन आंकड़ों के मुताबिक सितंबर में भारत में बेरोजगारी दर चार साल के निचले स्तर 6.43 प्रतिशत थी, जो अक्टूबर में बढ़कर 7.77 प्रतिशत हो गई है. इसमें शहरी क्षेत्रों के मुकाबले गांवों की स्थिति ज्यादा खराब है. सीएमआईई के अनुसार, शहरी क्षेत्रों में बेरोजगारी दर 7.21 फीसदी रही तो ग्रामीण इलाकों में यह बढ़कर 8.4 फीसदी हो गई है.

सीएमआईई के पास कुल 25 राज्यों के डेटा उपलब्ध हैं. इन 25 में से 6 राज्यों के आंकड़े दहाई अंकों में दर्ज किए गए हैं. ये छह राज्य, बिहार 14.5 प्रतिशत, हरियाणा 31.8 प्रतिशत, जम्मू-कश्मीर 22.4 प्रतिशत, झारखंड 16.5 प्रतिशत, राजस्थान 30.7 प्रतिशत और त्रिपुरा 10.5 प्रतिशत हैं. वहीं देश के नौ राज्यों में बेरोजगारी दर राष्ट्रीय औसत के मुकाबले ज्यादा रही.

ये भी पढ़ें – PM Kisan Yojana: पीएम किसान योजना के लाभार्थियों को हर महीने मिलेंगे ₹3000, जानिए कैसे उठाएं फायदा

एमपी में सबसे कम और हरियाणा में सबसे अधिक बेरोजगारी
आंकड़ों के मुताबिक, मध्य प्रदेश में सबसे कम बेरोजगारी दर 0.9 प्रतिशत, इसके बाद छत्तीसगढ़ में 0.9 प्रतिशत, ओडिशा में 1.1 प्रतिशत और गुजरात में 1.7 प्रतिशत है. वहीं अक्टूबर माह में हरियाणा राज्य में सबसे अधिक बेरोजगारी दर 31.8 प्रतिशत रही. इसके बाद राजस्थान 30.7 प्रतिशत और जम्मू और कश्मीर 22.4 प्रतिशत का स्थान है. वहीं बिहार व झारखंड की स्थिति लगभग एक जैसी है.

शहरी क्षेत्र में कम और ग्रामीण इलाकों में ज्‍यादा बेरोजगारी  
बता दें कि ग्रामीण बेरोजगारी दर सितंबर में 5.84 प्रतिशत से बढ़कर 8.04 प्रतिशत हो गई, जबकि शहरी बेरोजगारी दर पिछले महीने के 7.7 प्रतिशत की तुलना में कम होकर 7.21 प्रतिशत हो गई. CMIE के अनुसार बेरोजगारी दर के मामले में उत्तर प्रदेश, दिल्ली और उत्तराखंड में हालात कुछ बेहतर हैं. यूपी में यह 4.2, दिल्ली में 6.7 और उत्तराखंड में 3.4 फीसदी रही है.

ऐसे गिरे कृषि रोजगार के आंकड़े
एक्सपर्ट के अनुसार, कृषि क्षेत्रों में रोजगार पिछले एक साल से गिर रहा है. सीएमआईई के आंकड़ों से पता चलता है कि नवंबर 2021 में यह 16.4 करोड़ के शिखर पर पहुंच गया था. लेकिन सितंबर 2022 में यह तेजी से गिरकर 13.4 करोड़ के निचले स्तर पर आ गया. वहीं अक्टूबर 2022 में यह कुछ सुधार के साथ 13.96 करोड़ पर आ गया लेकिन फिर भी यह पिछले चार साल में किसी भी अक्टूबर में देखा गया सबसे कम कृषि रोजगार है.

Tags: Business news in hindi, Job and career, Unemployment in India, Unemployment Rate, Uttarakhand Unemployment

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें