होम /न्यूज /व्यवसाय /Unemployment Rate: अक्टूबर-दिसंबर 2020 में बेरोजगारी दर बढ़कर 10.3 प्रतिशत रही

Unemployment Rate: अक्टूबर-दिसंबर 2020 में बेरोजगारी दर बढ़कर 10.3 प्रतिशत रही

बेरोजगारी दर (Unemployment Rate)

बेरोजगारी दर (Unemployment Rate)

शहरी क्षेत्रों में सभी उम्र के लिए बेरोजगारी दर (Unemployment Rate) अक्टूबर-दिसंबर 2020 में बढ़कर 10.3 प्रतिशत हो गई, ज ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्ली. शहरी क्षेत्रों में सभी उम्र के लिए बेरोजगारी दर (Unemployment Rate) अक्टूबर-दिसंबर 2020 में बढ़कर 10.3 प्रतिशत हो गई, जबकि इससे एक साल पहले के इन्हीं महीनों में यह 7.9 प्रतिशत थी. राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (NSO) द्वारा किये गए आवधिक श्रम बल सर्वेक्षण (Periodic labour force survey) में यह आंकड़ा सामने आया है.

    बेरोजगारी या बेरोजगारी दर (यूआर) को श्रम बल में बेरोजगार व्यक्तियों के प्रतिशत के रूप में परिभाषित किया जाता है. नौवें आवधिक श्रम बल सर्वेक्षण (पीएलएफएस) के अनुसार शहरी क्षेत्रों में सभी उम्र के लिए बेरोजगारी दर जुलाई-सितंबर 2020 में 13.3 प्रतिशत थी.

    सर्वेक्षण के पाया गया कि शहरी क्षेत्रों में सभी उम्र के लिए श्रम बल भागीदारी दर अक्टूबर-दिसंबर, 2020 तिमाही में 37.3 प्रतिशत थी. जबकि इससे एक वर्ष पहले की इसी अवधि में यह 37.2 प्रतिशत थी और जुलाई-सितंबर, 2020 तिमाही के दौरान यह 37 फीसदी थी.

    ये भी पढ़ें: सस्ता घर खरीदने का मौका! कोटक महिंद्रा बैंक ने Home Loan पर ब्याज दर घटाई

    श्रम बल का मतलब जनसंख्या के उस भाग से है जो वस्तुओं और सेवाओं के उत्पादन के लिए आर्थिक गतिविधियों को आगे बढ़ाने के लिए श्रम की आपूर्ति करता है. इसलिए इसमें रोजगार प्राप्त और बेरोजगार दोनों व्यक्ति शामिल हैं.

    NSO ने अप्रैल 2017 में पीएलएफएस की शुरुआत की थी. पीएलएफएस के आधार पर श्रम बल संकेतकों का अनुमान देते हुए एक तीन महीने का बुलेटिन तैयार किया जाता है. इसमें यूआर, श्रमिक जनसंख्या अनुपात (डब्ल्यूपीआर), श्रम बल भागीदारी दर (एलएफपीआर), वर्तमान में रोजगार और काम के उद्योग में व्यापक स्थिति के आधार पर श्रमिकों का वितरण और साप्ताहिक स्थिति (सीडब्ल्यूएस) जैसे संकेतक शामिल होते हैं.

    Tags: Unemployment, Unemployment in India, Unemployment Rate

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें