अब बनेंगे डिजिटल गांव, घर बैठे मिलेंगे ये सुविधाएं

गांव में एटीएम, इंटरनेट सुविधा, दुकानों पर डेबिट कार्ड और डिजिटल वॉलेट से भुगतान की सुविधा पहुंचाने का रखा है लक्ष्य.

News18Hindi
Updated: February 1, 2019, 7:59 PM IST
अब बनेंगे डिजिटल गांव, घर बैठे मिलेंगे ये सुविधाएं
प्रतीकात्मक तस्वीर
News18Hindi
Updated: February 1, 2019, 7:59 PM IST
वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को मौजूदा सरकार के आखिरी बजट घोषणा में किसानों के लिए कई तोहफे दिए. उन्होंने डिजिटल इंडिया पर बोलते हुए कहा कि आज भारत में सबसे ज्यादा मोबाइल डाटा यूजर्स हैं और साथ ही भारत में सबसे सस्ता इंटरनेट मिल रहा है. वहीं उन्होंने कहा कि अगले 5 सालों में भारत के 1 लाख गांवों को डिजिटल गांव बनाया जाएगा.

यह भी पढ़ें: यहां क्लिक करके जानें अंतरिम बजट 2019 की सारी खास बातें

डिजिटल गांव यानी ऐसा गांव जहां सभी आधुनिक सुविधाएं मिलें. उदाहरण के तौर पर उस गांव में एटीएम हो, इंटरनेट की सुविधा हो, गांव के दुकानों पर डेबिट कार्ड और डिजिटल वॉलेट से भुगतान करने की सुविधा हो. डिजिटल गांव स्कीम के तहत सरकार ऐसे गांवों में मिनी बैंक, मिनी एटीएम, होटल बुकिंग और मोबाइल व डीटीएच रिचार्ज जैसी सुविधाएं देती हैं. डिजिटल गांव स्कीम के तहत गांवों में मोबाइल वाई-फाई, हॉट-स्पॉट मिलता है. डिजिटल विलेज स्कीम के तहत गांव के किसानों को मौसम की तत्काल जानकारी दी जाती है. साथ ही किसानों को इंटरनेट और वीडियो के माध्यम से खेती की विधि बताई जाती है और ऑनलाइन बैंकिंग सुविधाएं दी जाती हैं.



इन योजनाओं के अलावा अलावा वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने किसानों के लिए हर साल 6000 रुपये खाते में डालने के अलावा प्राकृतिक आपदा से जूझ रहे किसानों को ब्याज दर में 2 फीसदी की छूट देने का ऐलान किया है. इसके अलावा समय पर कर्ज चुकाने पर 3 फीसदी अतिरिक्त छूट मिलेगी. वित्त मंत्री ने बजट पेश करते हुए कहा कि पशुपालन और मत्स्य पालन के लिए कर्ज में 2 फीसदी ब्याज में छूट मिलेगी. वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार पशुपालन और मछली पकड़ने के लिए 750 करोड़ रुपये प्रदान करेगी.

यह भी पढ़ें: बजट फैक्ट्स: IB एजेंट्स रखते हैं अधिकारियों पर नजर!
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर