Home /News /business /

अर्थशास्त्रियों के साथ हुई बैठक में PM मोदी की अपील- सरकार की खामियां बताएं, हम सुधार करेंगे

अर्थशास्त्रियों के साथ हुई बैठक में PM मोदी की अपील- सरकार की खामियां बताएं, हम सुधार करेंगे

अर्थशास्त्रियों का कहना है कि ग्रामीण इलाकों में खर्च बढ़ाने की जरुरत है.

अर्थशास्त्रियों का कहना है कि ग्रामीण इलाकों में खर्च बढ़ाने की जरुरत है.

आम बजट (Budget 2020) से पहले अर्थशास्त्रियों के साथ हुई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बैठक के बाद अर्थशास्त्री चरण सिंह का कहना है कि ग्रामीण इलाकों में खर्च बढ़ाए जाने की जरूरत है. ना कि इनकम टैक्स में रियायत दी जानी चाहिए. प्रधानमंत्री ने बैठक में कहा है कि अगर सरकार की नीति में कोई खामी है तो अर्थशास्त्री हमें बताएं हम सुधार करने के लिए तैयार हैं.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के दूसरे आम बजट 2020 से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने मैराथन बैठक की. इसके बाद अर्थशास्त्री चरण सिंह का कहना है कि ग्रामीण इलाकों में खर्च बढ़ाए जाने की जरूरत है ना कि इनकम टैक्स में रियायत देने की. उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री ने बैठक में कहा है कि अगर सरकार की नीति में कोई खामी है तो अर्थशास्त्री हमें बताएं हम सुधार करने के लिए तैयार हैं. इसका सभी अर्थशास्त्रियों ने स्वागत किया है. आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आर्थिक वृद्धि को गति देने के लिए उपायों और अर्थव्यवस्था की स्थिति पर चर्चा के लिए नीति आयोग में अर्थशास्त्रियों और विशेषज्ञों के साथ बैठक की है. यह बैठक ऐसे समय में हुई, जब मौजूदा वित्त वर्ष में आर्थिक वृद्धि दर के पांच प्रतिशत से नीचे रहने की आशंका जताई जा रही है.

    बैठक में क्या हुआ- बैठक के बाद उद्योगपति अरविंद मेलिगिरी ने बताया कि विभिन्न सेक्टर के लोगों ने अलग-अलग सुझाव दिए हैं. प्रधानमंत्री ने हम सभी के सुझाव बहुत सकारात्मक तरीके से सुने. मैंने भी प्रोजेक्ट की मंजूरी को और सरल बनाने पर सुझाव दिया है.

    ये भी पढ़ें-बुजुर्गों के लिए मोदी सरकार की खास योजना! इन इनकम पर नहीं लगेगा कोई Tax

    इससे पहले, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को देश के टॉप बिजनेसमैन  के साथ अर्थव्यवस्था की स्थिति पर चर्चा की थी. बैठक में रतन टाटा, मुकेश अंबानी और गौतम अडानी समेत 11 बिजनेस शामिल थे. इस दौरान आर्थिक विकास दर और रोजगार के मौके बढ़ाने के उपायों पर चर्चा हुई.



    इस बैठक में गृह मंत्री अमित शाह और अन्य मंत्रियों के अलावा नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार , मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत भी शामिल हुए. प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद के चेयरमैन बिबेक देबरॉय भी इस बैठक में मौजूद थे. सरकार 2020-21 के लिए बजट प्रस्ताव तैयार करने में जुटी है.

    वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण एक फरवरी को अपना दूसरा आम बजट पेश करेंगी, जिसमें देश की आर्थिक वृद्धि को फिर से पटरी पर लाने की बड़ी चुनौती होगी.



    बता दें कि वित्त वर्ष 2019-20 में जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) के पांच फीसदी होने का अनुमान जाहिर किया गया है. यह 2018-19 के दौरान 6.8 फीसदी थी. सरकार ने मंगलवार को यह जानकारी दी थी.

    आंकड़े वृद्धि दर में भारी गिरावट प्रदर्शित करते हैं. उद्योग व कोर सेक्टर में भी मंदी है. दूसरी तिमाही में वृद्धि दर घटकर 4.5 फीसदी हो गई थी.

    ये भी पढ़ें-SBI फ्री में देता है अपने ग्राहकों को ये सर्विस, घर बैठ कर सकते हैं सभी काम

    Tags: Budget 2020, India economy, Indian economy, Modi government, Modi Government Budget, Rural economy, Sixth largest economy

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर