Union Budget 2021: आज होगा पारंपरिक हलवा सेरेमनी का आयोजन, ये गेस्ट होंगे शामिल

आज होगी पारंपरिक हलवा सेरेमनी

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा आगामी वित्त वर्ष के लिए पेश किए जाने वाले आम बजट (Union Budget 2021) के पहले होने वाली हलवा सेरेमनी (Halwa Ceremony) का आज शनिवार को आयोजन किया जाएगा.

  • Share this:
    नई दिल्ली. वित्त मंत्रालय द्वारा आज शनिवार को पारंपरिक हलवा सेरेमनी (Halwa Ceremony) का आयोजन किया जाएगा. नार्थ ब्लॉक में आयोजित होने वाले इस कार्यक्रम में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर, वित्त मंत्रालय के सचिव और अन्य वरिष्ठ अधिकारी शामिल होंगे. गौरतलब है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण एक फरवरी को आगामी वित्त वर्ष का आम बजट (Union Budget 2021) पेश करेंगी. बता दें कि इससे पहले खबरें थीं कि इस साल हलवा सेरेमनी का आयोजन नहीं किया जाएगा, हालांकि वित्त मंत्रालय ने तत्काल ही उन मीडिया रिपोर्ट्स का खंडन किया था.

    आज मनाई जाएगी 'हलवा सेरेमनी'
    सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, बजट सेरेमनी का आयोजन किया जाएगा. अधिकारियों ने बताया कि इस समारोह के बाद बजट निर्माण की प्रक्रिया में शामिल रहे कर्मचारियों को बजट पेश होने तक 10 दिन तक नॉर्थ ब्लॉक के बेसमेंट में रखा जाएगा. बजट तैयार करने वाली टीम हलवा सेरेमनी के बाद किसी के संपर्क में नहीं रहती है, जब तक बजट तैयार नहीं हो जाता है. यहां तक कि परिवार के लोग भी उनसे संपर्क में नहीं रहते हैं.

    हलवा सेरेमनी


    29 जनवरी 15 फरवरी तक चलेगा बजट सत्र
    बजट सत्र का पहला चरण 29 जनवरी से शुरू होगा और 15 फरवरी को समाप्त होगा. वहीं बजट का दूसरा सत्र 8 मार्च से 8 अप्रैल तक चलेगा. 29 जनवरी को राष्ट्रपति के अभिभाषण के साथ ही बजट सत्र की शुरुआत की जाएगी. 1 फरवरी को बजट पेश किया जाएगा. केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने बताया है कि बजट सत्र का दूसरा चरण 8 मार्च से 8 अप्रैल तक होगा. उन्होंने कहा कि सत्र के दौरान कोविड-19 प्रोटोकॉल का अनिवार्य रूप से ध्यान दिया जाएगा.

    ये भी पढ़ें: Budget 2021: रियल एस्टेट सेक्टर की उम्मीद, अफोर्डेबल हाउसिंग की अपर लिमिट बढ़ने से होगा डिमांड में इजाफा

    इस साल कोविड-19 की वजह से बजट की कागज पर प्रिंटिंग नहीं होगी. इसके अलावा आर्थिक समीक्षा (इकोनॉमिक सर्वे) की भी कागजों पर छपाई नहीं होगी. आर्थिक समीक्षा 29 जनवरी को संसद के पटल पर रखी जाएगी. इस साल ये दोनों दस्तावेज इलेक्ट्रॉनिक रूप में सासंदों को दिए जाएंगे.

    बजट से हैं ये उम्मीदें
    सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) विकास दर भी चालू वित्तवर्ष के आखिर में पांच फीसदी रहने की उम्मीद की जा रही है. आर्थिक आंकड़े खराब रहने के इस हालात में आम बजट 2020-21 से रोजगार सृजन, उपभोग और मांग में वृद्धि की उम्मीद की जा रही है.

    वर्तमान में इनवकम टैक्स एक्ट 80 CCE के तहत सेक्शन 80C, 80CCC और 80CCD(1) के तहत एक साल में कुल 1.50 लाख रुपये की आमदनी पर आयकर से छूट मिलती है. इसे बढ़ाकर 3 लाख रुपये करने की उम्मीद लोग वित्त मंत्री से लगाए हुए हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.