नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह ने कहा-मुंबई और कोलकाता से जल्द और उड़ानों को मिलेगी मंजूरी

नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह ने कहा-मुंबई और कोलकाता से जल्द और उड़ानों को मिलेगी मंजूरी
नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी. (फाइल फोटो)

नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री (Civil aviation minister Hardeep Singh Puri ) ने खुलासा किया कि केंद्र सरकार की मुंबई और कोलकाता से अधिक उड़ानों की अनुमति देने की योजना है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 25, 2020, 10:18 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह (Civil aviation minister Hardeep Singh Puri) ने कहा है कि दिवाली तक घरेलू एयर ट्रैफिक कोरोना माहमारी (Coronavirus Pandemic) से पहले जैसा हो सकता है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक,  केंद्र सरकार की मुंबई और कोलकाता से अधिक उड़ानों की अनुमति देने की योजना है. हरदीप सिंह ने कहा कि हम 33 फीसदी क्षमता तक पहले ही पहुंच चुके हैं और हर हफ्ते 5000 यात्रियों की बढ़ोत्तरी हो रही है.

1 सितंबर से महंगी हो जाएगा हवाई सफर-आपको बता दें कि सिविल एविएशन मिनिस्ट्री ने एविएशन सिक्योरिटी फी में बढ़ोतरी का फैसला किया है. घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उड़ान, दोनों में एविएशन सिक्योरिटी फीस में बढ़ोतरी होगी. इससे विमान यात्रा थोड़ी महंगी हो जाएगी. इससे एक सितंबर से विमान किराये महंगे हो सकते हैं. अधिकारियों के मुताबिक घरेलू उड़ानों में एविएशन सिक्योरिटी फीस बढ़ कर अब 160 रुपये हो जाएगी वहीं. अंतराष्ट्रीय उड़ानों में यह बढ़ कर 5.2 डॉलर हो जाएगी.

बड़े संकट में फंसा है एविएशन सेक्टर-कोरोना वायरस महामारी (Covid-19 pandemic) से बुरी तरह प्रभावित घरेलू उड्डयन उद्योग को अपना वजूद बचाए रखने के लिए करीब पांच अरब डॉलर के पूंजी निवेश की आवश्यकता पड़ सकती है. इसकी वजह यह है कि पूरे विमानन उद्योग को मिलाकर इस वित्त वर्ष में छह से साढ़े छह अरब डॉलर का घाटा हो सकता है.

विमानन क्षेत्र में परामर्श देने वाली एक कंपनी ने यह अनुमान जताया है. सेंटर फोर एशिया पैसिफिक एविएशन (सीएपीए) ने एक प्रजेंटेशन में बताया कि मौजूदा अनिश्चितता समेत संरचनात्मक दिक्कतें विमानन उद्योग को कच्चे तेल की कम कीमतों और भारत व वैश्विक दोनों स्तर पर अधिशेष पूंजी से मदद नहीं लेने दे सकती है.

विमानन उद्योग सबसे कमजोर स्थिति में है और कुछ कंपनियां बंद होने के कगार पर हैं. उसने कहा कि वित्त वर्ष 2020-21 में करीब छह से साढ़े छह अरब डॉलर के घाटे के अनुमान को देखते हुए विमानन व सहायक उद्यमों को साढ़े चार से पांच अरब डॉलर के पूंजी निवेश की जरूरत पड़ सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading