पटरी पर लौट रही हैं कारोबारी गतिविधियां! जून में हर दिन निकाले गए 14 लाख से ज्‍यादा ई-वे बिल

पटरी पर लौट रही हैं कारोबारी गतिविधियां! जून में हर दिन निकाले गए 14 लाख से ज्‍यादा ई-वे बिल
लॉकडाउन में ढील से देश में कारोबारी गतिविधियां भी धीरे-धीरे पटरी पर लौट रही हैं.

गुड्स एंड सर्विस टैक्‍स नेटवर्क (GSTN) के मुताबिक, जून 2020 में कुल 4.27 करोड़ ई-वे बिल (E-way Bills) निकाले गए. इससे पहले मार्च में 11.43 लाख करोड़ रुपये के 4 करोड़ बिल निकाले गए थे.

  • Share this:
नई दिल्ली. कोविड-19 महामारी (Covid-19) की रोकथाम के लिए लगाए गए लॉकडाउन (Lockdown) में ढील के बाद कारोबारी गतिविधियां पटरी पर लौटती हुई दिख रही हैं. गुड्स एंड सर्विस टैक्‍स नेटवर्क (GSTN) ने बताया कि जून 2020 में हर दिन 14 लाख से ज्‍यादा ई-वे बिल (W-way Bills) निकाले गए, जो लॉकडाउन से पहले के स्तर का करीब 77 फीसदी है. बता दें कि 50,000 रुपये से अधिक के माल के ट्रांसपोर्टेशन के लिए ई-वे बिल जरूरी होता है.

मार्च में निकाले गए 4 करोड़ ई-वे बिल
जीएसटीएन ने बताया कि कंपनियों और ट्रांसपोर्टरों ने जून 2020 में 12.40 लाख करोड़ रुपये के माल के लिए 4.27 करोड़ ई-वे बिल निकाले, यानी हर दिन औसतन 14.26 लाख ई-वे बिल निकाले गए. जीएसटीएन के मुताबिक, मार्च में 11.43 लाख करोड़ रुपये के मूल्य वाले 4 करोड़ ई-वे बिल निकाले गए थे. साफ है कि अब कारोबारी गतिविधियां (Business Activities) धीमे-धीमे पुराने ढर्रे पर लौट रही हैं. जीएसटीएन ने भी कहा कि लॉकडाउन में ढील के बाद यह आर्थिक गतिविधियों में सुधार का स्‍पष्‍ट संकेतक है.

ये भी पढ़ें- अभी नहीं होगा BSNL-MTNL का विलय! समिति ने पहले कई ठोस कदम उठाने की सिफारिश की
फरवरी में 5.63 करोड़ बिल निकाले गए


अप्रैल में 3.90 लाख करोड़ रुपये के 84.53 लाख और मई में 8.98 लाख करोड़ रुपये के ई-वे बिल निकाले गए थे. वहीं, सरकार के पोर्टल से फरवरी में 15.39 लाख करोड़ रुपये के 5.63 करोड़ और जनवरी में 15.71 लाख करोड़ रुपये के 5.61 करोड़ बिल निकाले गए थे. आंकड़ों के अनुसार 25 जनवरी से 24 मार्च, 2020 के दौरान हर दिन औसतन 18.49 लाख ई-वे बिल निकाले गए. लॉकडाउन के पहले चरण में 25 मार्च से 14 अप्रैल के दौरान यह आंकड़ा गिरावट के साथ 1.72 लाख बिल प्रतिदिन पर आ गया था.

ये भी पढ़ें- पिछली कंपनी के PF का पैसा नए अकाउंट में घर बैठे कैसे कर सकते हैं ट्रांसफर, यहां जानें पूरा प्रोसेस

लॉकडाउन 2.0 में हर दिन 3.51 लाख बिल
जीएसटीएन के मुताबिक, लॉकडाउन 2.0 के दौरान 15 अप्रैल से 3 मई तक हर दिन औसतन 3.51 लाख ई-वे बिल निकाले गए थे. वहीं, तीसरे चरण यानी 4 मई से 14 मई के दौरान प्रतिदिन 6.75 लाख ई-वे बिल निकाले गए. लॉकडाउन के चौथे चरण में 15 से 31 मई तक हर दिन औसतन 9.84 लाख ई-वे बिल निकाले गए. जून में अनलॉक 1.0 के दौरान यह आंकड़ा बढ़कर 14.26 लाख ई-वे बिल रोजाना पर पहुंच गया. बता दें कि कोरोना वायरस पर काबू पाने के लिए देश में 25 मार्च को सख्‍त लॉकडाउन लागू कर दिया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading