अपना शहर चुनें

States

हवाई किराये को लेकर इस दिन बड़ा फैसला लेगी सरकार, हो सकते हैं ये बदलाव

नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी
नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी

सीविल एविएशन मिनिस्टर हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय विमान सेवा शुरू करने से पहले कई तरह के फैक्टर्स को ध्यान में रखना होगा. 24 अगस्त को विमान किराये के अपर और लोवर लिमिट पर​ स्थिति को देखते हुए फैसला लिया जाएगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी (Hardeep Singh Puri) ने शनिवार को कहा कि 'वंदे भारत ​मिशन' के तीसरे और चौथ चरण में घरेलू विमान कंपनियों को 750 फ्लाइट्स के ऑपरेशन की अनुमति दी गई है. सरकरी विमान कंपनी एअर इंडिया (Air India) को इन दोनों चरणों में 300 फ्लाइट्स ऑपरेट करने की अनुमति है.

मंत्री ने कहा, 'लॉकडाउन के दौरान पानी की जहाज और फ्लाइट्स के जरिए विदेशों में फंसे करीब 2,75,000 भारतीयों को वापस लाया जा चुका है' घरेलू फ्लाइट ऑपरेशन पर उन्होंने कहा कि भारत अपने कुल ऑपरेशन को 33 फीसदी भी पूरा नहीं कर पा रहा है. एक दिन में अधिकतम ट्रैफिक 72,000 पैसेंजर्स की है.

यह भी पढ़ें: ये हैं दुनिया के टॉप 10 अरबपति, कुल संपत्ति जानकर हो जाएंगे हैरान!



इंटरनेशनल फ्लाइट से पहले इन बातों पर देना होगा ध्यान
पुरी ने कहा कि अगर प्रति दिन पैसेंजर्स की संख्या 1 लाख तक पहुंचती है तो यह 33 फीसदी क्षमता तक यह आंकड़ा पहुंच जाएगा. उन्होंने यह भी कहा कि जब एक बार घरेलू फ्लाइट्स (Domestic Flights) ऑपरेशन 50 से 55 फीसदी तक पहुंच जाएंगे तो हम अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों पर विचार करेंगे. बॉर्डर और एंट्री पर प्रतिबंध, क्वॉरंटीन की शर्तें आदि कुछ फैक्टर्स हैं, जिन्हें ध्यान में रखते हुए अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों को लेकर फैसला लिया जाएगा.

अमेरिका, ब्रिटेन, ब्राजील, यूएई, सिंगापुर पर एंट्री को लेकर शर्तें हैं. ये देश केवल अपने नागरिकों को ही आने दे रहे हैं.

यह भी पढ़ें:सरकार ने शुरू की 50000 करोड़ की योजना, मजदूरों के पास 25250 रु कमाने का मौका

अन्य देशों को राजी होने के बाद ही लिया जाएगा फैसला
हमारी अंतर्राष्ट्रीय हवाई सेवाएं शुरू करना इस बात पर भी निर्भर करेगा कि क्या अन्य देशों अपने यहां अंतर्राष्ट्रीय विमानों को आने की मंजूरी देते हैं या नहीं. हमारे पास केवल यही विकल्प है कि नियंत्रण के साथ इवैक्युएशन पर ही काम किया जाए. इसके तहत विदेशों में फंसे भारतीयों को वापस लाने का काम चल रहा है. अंतर्राष्ट्रीय विमानों को शुरू करने के​ लिए दोनों पक्षों को तैयार होना होगा.

एअर इंडिया के​ विनिवेश को लेकर आशावादी
मंत्री ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि इंडियन एविएशन दिवाली से लेकर इस साल के अंत तक कोरोना काल के पहले के स्तर तक पहुंच जाएगा. एअर इंडिया के विनिवेश (Air India Disinvestment) को लेकर उन्होंने कहा कि मैं इसे लेकर कॉन्फिडेंट और आशावादी हूं.


यह भी पढ़ें:  गरीब कल्याण रोजगार अभियान लॉन्च, जानें स्कीम की 10 बड़ी बातें

किराये के लोवर और अपर लिमिट पर अगस्त में फैसला
नागर विमान सचिव प्रदीप सिंह खरोला ने कहा कि कोविड-19 स्थिति को देखते हुए 24 अगस्त के बाद विमान किरोय पर अपर और लोवर लिमिट को लेकर कोई फैसला लिया जाएगा. लगभग सभी पैसेंजर्स को बोर्डिंग पास उनके घर पर ही उपलब्ध कराया जा रहा है. पूरे बोर्डिंग प्रोसे को कॉन्टैक्टलेस बनाया गया है. बैगेज ड्रॉप की प्रक्रिया भी कॉन्टैक्टलेस है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज