अमेरिका-ईरान की 'जंग' से भारत को लग सकता है झटका! आम आदमी पर भी होगा असर

अमेरिका-ईरान की 'जंग' से भारत को लग सकता है झटका! आम आदमी पर भी होगा असर
ब्रेंट क्रूड के दाम कुछ ही मिनटों में बढ़ें

ईरानी जनरल कासिम सुलेमानी पर गुरुवार देर रात को हमले के बाद शुक्रवार को स्टॉक मार्केट (Stock Market) से लेकर सोना और डॉलर के मुकाबले रुपये पर भी असर पड़ा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 3, 2020, 7:58 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अमेरिका (America) ने ईरान के क़ुद्स फोर्स के कमांडर जनरल कासिम सुलेमानी (General Qasem Soleimani) को एक हवाई हमले में मार दिया. यह हमला गुरुवार देर रात ईराक की राजधानी बगदाद में किया. विदेशी में मीडिया में इस मामले पर कहा जा रहा है कि सुलेमानी का काफिला बगदाद एयरपोर्ट की ओर बढ़ रहा था, तभी अमेरिका ने हवाई हमला किया. इस हमले में पॉप्‍युलर मोबलाइजेशन फोर्स के डिप्टी कमांडर अबू मेहदी अल मुहांदिस के भी मारे जाने की भी खबरें है.

डोनाल्ड ट्रंप ने दिया था आदेश
अमेरिका के रक्षा मंत्रालय (UD Department of Defence) ने इस मामले की पुष्टि करते हुए कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (US President Donald Trump) ने ‘विदेश में अमेरिकी कर्मियों की सुरक्षा के लिए स्पष्ट रक्षात्मक कार्रवाई' करते हुए ईरान के रिवॉल्युशनरी गार्ड्स कमांडर कासिम सुलेमानी को मारने का आदेश दिया था. रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा, 'जनरल सुलेमानी इराक में अमेरिकी राजनयिकों और सैन्य कर्मियों पर हमले की सक्रिय रूप से योजना बना रहा था. जनरल सुलेमानी और उसका क़ुद्स फोर्स सैकड़ों अमेरिकी और अन्य गठबंधन सहयोगियों के सदस्यों की मौत और हजारों को जख्मी करने के लिए जिम्मेदार हैं.'

यह भी पढ़ें: रुपये में आई इस साल की सबसे बड़ी गिरावट, आम आदमी पर होगा ये असर



कच्चे तेल की कीमतों में बड़ी तेजी
अमेरिका द्वारा इस हमले के बाद शुक्रवार को कच्चे तेल की कीमतों में बड़ी तेजी देखने को मिली. ब्रेंट क्रुड ऑयल का भाव 3 फीसदी चढ़कर 68.25 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया है. वहीं, WTI क्रुड ऑयल के भाव में भी 2.71 फीसदी का इजाफा देखा गया, जिसके बाद इसका भाव भी 62.84 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच गया.

 

डॉलर के मुकाबले रुपये पर असर
फॉरेक्स मार्केट (Forex Market) में भी डॉलर के मुकाबले रुपये में 42 पैसे तक की गिरावट देखी गई. शुक्रवार को दिनभर के कारोबार के बाद एक अमेरिकी डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपया 71.80 के स्तर पर बंद हुआ.

यह भी पढ़ें: अमेरिका की वजह से सोना और चांदी खरीदना हुआ महंगा, फटाफट चेक करें नए रेट्स

ऑयल मार्केटिंग कंपनियों के शेयर्स में गिरावट
​इस जियोपॉलिटिकल टेंशन (Geo-Political Tension) की वजह से ही शुक्रवार को कई भारतीय कंपनियों के स्टॉक्स में भी गिरावट आया है. ऑयल मार्केटिंग कंपनी हिंदुस्तान पेट्रोलियम के शेयर्स बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) 2.5 फीसदी लुढ़ककर 262.85 रुपये प्रति शेयर के भाव पर बंद हुआ. भारत पेट्रोलियम (Bharat Petroleum) के शेयर्स भी 1.6 फीसदी लुढ़ककर 479.4 रुपये प्रति शेयर के इंट्राडे न्यूनतम स्तर पर पहुंच गया. इसी प्रकार इंद्रपस्था ​गैस लिमिटेड, इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (IOCL) के शेयर्स में गिरावट दर्ज की गई है.

एशियाई बाजार भी लाल निशान पर
घरेलू स्टॉक मार्केट (Stock Market) समेत एशियाई मार्केट में भी आज गिरावट दर्ज की गई. घरेलू बाजार में BSE सेंसेक्स 119 अंक की गिरावट के साथ 41,508.21 के स्तर पर बंद हुआ. जापान से लेकर चीन तक के शेयर बाजार में गिरावट देखने को मिला.

यह भी पढ़ें: अमेरिका ने हवाई हमले में ईरान के क़ुद्स फ़ोर्स के कमांडर जनरल सुलेमानी को मारा, राष्ट्रपति ट्रंप ने दिया था मारने का आदेश

निवेशक के तौर पर आपको क्या करना चाहिए?
शेयर बाजार और अर्थव्यवस्था से जुड़े कई जानकारों का मानना है कि अमेरिका और ईरान के बीच चल रहे इस जियो-पॉलिटिकल टेंशन से भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) की रिकवरी को धक्का लग सकता है.

बढ़ सकती है महंगाई
बिजनेस स्टैंडर्ड ने अपनी एक रिपोर्ट में एक एक्सपर्ट के हवाले से कहा है कि अगर दोनों देशों के बीच यह तनाव अगले कुछ महीनों के लिए जारी रहता है तो इससे भारतीय अर्थव्यवस्था पर भी असर पड़ेगा. कच्चे तेल की कीमतों में तेजी से घरेलू बाजार पर असर पड़ेगा. अगर ब्रेंट क्रुड ऑयल का भाव 80 डॉलर प्रति बैरल के पार जाता है तो महंगाई भी बढ़ेगी और कॉरपोरेट मार्जिन पर भी बुरा असर पड़ेगा. कई अन्य स्टॉक ब्रोकर्स का कहना है कि इस तनाव से भारत में महंगाई पर असर पड़ेगा. हालांकि, उन्होंने कहा कि अगर असर पड़ता है तो यह छोटी अवधि के लिए ही होगा.

यह भी पढ़ें: अमेरिकी हमलों के बाद आया क्रूड कीमतों में बड़ा उछाल, भारत पर होगा ये असर

महंगे होंगे सु​रक्षित निवेश के विकल्प
एक अन्य एक्सपर्ट के हवाले से कहा गया है कि ईरान के पास अमेरिका पर जवाबी कार्रवाई करने के दो तरीके हैं. पहला तो यह कि वो सीधे अमेरिका से इसका बदला है. वहीं, ईरान के पास दूसरा विकल्प है कि वो ईराक, यमन, सीरिया या लेबनान में मौजूदा खुफिया हितैशियों की मदद से अमेरिका या इस क्षेत्र में उसे बेहतर संबंध रखने वाले सउदी अरब, यूएई या कुवैत जैसे देशों को नुकसान पहुंचाने की कोशिश करें. अगर ऐसा होता है तो पारस की खाड़ी के क्षेत्रों सप्लाई रास्ते पर खतरा बढ़ सकता है. इससे सोना, स्विस फ्रैंक और जापानी मुद्रा येन के भाव में तेजी आएगी.

सोना की कीमतों में तेजी
शुक्रवार को दिल्ली सर्राफा बाजार में 10 ग्राम सोने का भाव 39900 रुपये से बढ़कर 40,652 रुपये हो गया है. अंतरराष्ट्रीय बाजार न्यूयॉर्क में सोना 1,547 डॉलर प्रति औंस पर और चांदी 18.20 डॉलर प्रति औंस पर पहुंच गई है. सोने की तरह चांदी के भाव में भी तेजी आई है. चांदी की कीमत 47,910 रुपये बढ़कर 48,870 रुपये प्रति किलोग्राम हो गई है. इस दौरान कीमतों में 960 रुपये प्रति किलोग्राम का उछाल आया है

यह भी पढ़ें: नए साल में SBI ने शुरू की नई सुविधा! बिना कैश-कार्ड दुकान पर ऐसे करें पेमेंट
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading