अच्‍छी खबर! अब इस कंपनी की कोरोना वैक्‍सीन का शुरू हो रहा है ह्यूमन ट्रायल

अच्‍छी खबर! अब इस कंपनी की कोरोना वैक्‍सीन का शुरू हो रहा है ह्यूमन ट्रायल
अमेरिकी कंपनी की बनाई कोरोना वैक्‍सीन के अब तक के सभी ट्रायल सफल होने के बाद जुलाई में ह्यूमन ट्रायल शुरू करने जा रही है.

जॉनसन एंड जॉनसन (Johnson & Johnson) ने कोरोना वैक्‍सीन के लिए अमेरिकी सरकार (US Government) साथ पहले ही सौदा कर लिया है. सौदे के तहत कंपनी कोरोना वैक्‍सीन (Corona Vaccine) की 1 अरब डोज बनाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 10, 2020, 11:00 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) के प्रकोप के बीच दुनियाभर के वैज्ञानिक, शोधकर्ता और कंपनियां इससे मुकाबले के लिए वैक्‍सीन बनाने की कवायद में दिनरात जुटी हैं. कई देश कोरोना वैक्‍सीन (Corona Vaccine) बना चुके हैं और ट्रायल के अलग-अलग चरणों में पहुंच चुके हैं. इसी बीच अमेरिका की कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन (Johnson & Johnson) ने बुधवार को बताया कि उसकी बनाई कोविड-19 वैक्‍सीन के अब तक के ट्रायल सफल रहे हैं. अब कंपनी आधी जुलाई गुजरने के साथ ही वैक्‍सीन का ह्यूमन ट्रायल (Human Trial) शुरू कर देगी.

दो महीने पहले वैक्‍सीन का ह्यूमन ट्रायल करने जा रही है कंपनी
जॉनसन एंड जॉनसन ह्यूमन ट्रायल के लिए पहले तय किए समय से दो महीने तेजी से काम कर रही है. यानी कंपनी ने अब तक का काम काफी तेजी से निपटाया है. कंपनी ने वैक्‍सीन बनाने के लिए अमेरिकी सरकार (US Government) के साथ पहले ही सौदा कर लिया है. सौदे के मुताबिक, कंपनी वैक्‍सीन की 1 अरब डोज बनाएगी. बता दें कि अब तक किसी भी देश के पास कोविड-19 का ना तो कोई एक कारगर इलाज है और ना ही कोई अब वैक्‍सीन बना पाया है. अब तक दुनियाभर में 4 लाख से संक्रमितों की मौत हो चुकी है.

ये भी पढ़ें- SBI ग्राहकों के लिए बड़ी खबर! बैंक में जमा आपकी सिर्फ इतनी राशि ही है सुरक्षित
अमेरिका और बेल्जियम में 1,045 लोगों पर किया जाएगा ट्रायल


अमेरिकी कंपनी ह्यूमन ट्रायल के दौरान 18 से 55 साल के 1,045 लोगों पर वैक्‍सीन का ट्रायल करेगी. इस ट्रायल में 65 साल या ज्‍यादा उम्र के भी कुछ लोग शामिल किए जाएंगे. कंपनी ने बताया कि ह्यूमन ट्रायल अमेरिका (America) और बेल्जियम (Belgium) में किए जाएंगे. अमेरिका की बायोटेक कंपनी मॉडर्ना (Moderna Inc) कोविड-19 वैक्‍सीन मामले में काफी आगे चल रही है. कंपनी 600 मरीजों पर अपनी वैक्‍सीन का ट्रायल शुरू कर चुकी है.

ये भी पढ़ें- अब इन दो सरकारी बैंकों ने ग्राहकों को दिया तोहफा, कल से इतना सस्‍ता मिलेगा लोन

अगले 12 से 18 महीने में दुनिया को मिल सकती है वैक्‍सीन
कोविड-19 वैक्‍सीन बनाने की होड़ में एस्‍ट्राजेनेका, सनोफी, फाइजर और ग्‍लैक्‍सोस्मिथक्‍लाइन भी शामिल हैं. इनकी बनाई वैक्‍सीन भी ट्रायल के अलग-अलग चरणों में हैं. इस समय दुनियाभर में करीब 10 कोरोना वैक्‍सीन का ह्यूमन ट्रायल चल रहा है. अनुमान लगाया जा रहा है कि अगले 12 से 18 महीने के भीतर दुनिया को एक सुरक्षित और प्रभावी कोरोना वैक्‍सीन मिल जाएगी. ब्रिटेन की ऑक्‍सफोर्ड यूनिवर्सिटी की कोरोना वैक्‍सीन का पहला ह्यूमन ट्रायल सफल हो चुका है. उसने भारत की सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया के साथ निर्माण समझौता किया है.



ये भी पढ़ें-अब बाज़ारों का भी बदलेगा रंग-रूप, पैदल चलने वालों के लिए केंद्र सरकार बना रही हैं नए रूल्स, जरूरी होगा पालन करना

ये भी पढ़ें- 166 साल के इतिहास में रेलवे ने किया सबसे बड़ा कारनामा! सरकार ने दी इसकी जानकारी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज