होम /न्यूज /व्यवसाय /

आज से NSE IFSC पर ट्रेड होंगे Google, Apple, Tesla के शेयर, जानें आप कैसे उठा सकते हैं फायदा?

आज से NSE IFSC पर ट्रेड होंगे Google, Apple, Tesla के शेयर, जानें आप कैसे उठा सकते हैं फायदा?

NSE IFSC पर आज से US बाजार में लिस्टेड कुछ चुनिंदा स्टॉक्स में ट्रेडिंग का काम शुरू हो गया है.

NSE IFSC पर आज से US बाजार में लिस्टेड कुछ चुनिंदा स्टॉक्स में ट्रेडिंग का काम शुरू हो गया है.

NSE IFSC पर आज से US बाजार में लिस्टेड कुछ चुनिंदा स्टॉक्स में ट्रेडिंग का काम शुरू हो गया है. इसका सबसे बड़ा फायदा उन लोगों को होगा, जिन्हें लगता है कि ऐपल, गूगल और टेस्ला जैसी कंपनियों के शेयर बहुत तेजी से ऊपर जाएंगे और उनमें निवेश करना चाहिए.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. Buy US Stocks From India : NSE IFSC पर आज से US बाजार में लिस्टेड कुछ चुनिंदा स्टॉक्स में ट्रेडिंग का काम शुरू हो गया है. अब भारत में बैठे लोग नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) के इंटरनेशनल एक्सचेंज से इन शेयरों में ट्रेडिंग कर सकते हैं. इसका सबसे बड़ा फायदा उन लोगों को होगा, जिन्हें लगता है कि ऐपल, गूगल और टेस्ला जैसी कंपनियों के शेयर बहुत तेजी से ऊपर जाएंगे और उनमें निवेश करना चाहिए.

बता दें कि NSE IFSC दरअसल NSE का इंटरनेशनल एक्सचेंज (NSE International Exchange) है. यह एनएसई की एक पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी है. पिछले साल अगस्त में NSE International Exchange ने ऐलान किया था कि NSE IFSC प्लेटफॉर्म के जरिए चुनिंदा अमेरिकी स्टॉक में ट्रेडिंग की सुविधा दी जाएगी. निवेशक इस प्लेटफॉर्म के जरिए अमेरिकी स्टॉक खरीद सकेंगे और शेयरों के बदले डिपॉजिटरी रिसीट जारी कर सकेंगे.

ये भी पढ़ें – ट्रिक: IRCTC पर इस तरीके से करें तत्काल बुकिंग, टिकट कन्फर्म न हो तो कहना

इस प्लेटफॉर्म पर 50 स्टॉक्स के रिसीट की ट्रेडिंग की अनुमति मिली है. इनमें से आठ 3 मार्च से ट्रेडिंग के लिए उपलब्ध होंगे. इन स्टॉक्स में Alphabet Inc (Google), Amazon Inc, Tesla Inc, Meta Platforms (Facebook), Microsoft corporation, Netflix, Apple और Walmart के नाम शामिल हैं. ये सभी अमेरिका के बड़े और नामी स्टॉक्स हैं.

बाकी स्टॉक्स के लिए अलग से जारी होगा सर्कुलर
बाकी स्टॉक्स की ट्रेडिंग शुरू होने की तारीख के बारे एक अलग सर्कुलर के जरिए सूचित किया जाएगा. इस प्लेटफॉर्म पर US स्टॉक्स की ट्रेडिंग, क्लीयरिंग, सेटलमेंट और होल्डिंग की पूरी प्रक्रिया IFSC अथॉरिटी के रेगुलेटरी ढांचे के तहत पूरी होगी.

ये भी पढ़ें – राकेश झुनझुनवाला के पास अब इस कंपनी के 75 लाख शेयर, क्या आपको खरीदना चाहिए?

भारतीय रिटेल निवेशक NSE IFSC के प्लेटफॉर्म के जरिए Liberalized Remittance Scheme (LRS) लिमिट के तहत कारोबार कर सकेंगे. बता दें कि LRS का प्रावधान आरबीआई ने किया है.
NSE IFSC के मुताबिक, इस प्लेटफॉर्म के जरिए अंतराष्ट्रीय निवेश काफी आसान हो जाएगा और इसकी लागत भी ज्यादा नहीं होगी. इस प्लेटफॉर्म पर निवेशकों को आंशिक क्वांटिटी (Fractional Quantities) में भी निवेश की सुविधा होगी.

Tags: Google, Stock Markets, Tesla

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर