इंडिया के साथ एजुकेशन व्यापार को बढ़ाने के लिए अमेरिका को करना होगा ये काम, जानें क्या कहा USISPF ने...

अमेरिका वीजा

अमेरिका वीजा

अमेरिका के एक शीर्ष व्यापार समूह ने कहा है कि यदि वाशिंगटन छात्रों की मुक्त आवाजाही के लिए वीजा और प्रवेश प्रतिबंध जैसी बाधाओं को खत्म कर दे, तो दोनों देशों के बीच शिक्षा सेवाओं के द्विपक्षीय व्यापार में तेजी आ सकती है.

  • Share this:
नई दिल्ली: अमेरिका के एक शीर्ष व्यापार समूह ने कहा है कि यदि वाशिंगटन छात्रों की मुक्त आवाजाही के लिए वीजा और प्रवेश प्रतिबंध जैसी बाधाओं को खत्म कर दे, तो दोनों देशों के बीच शिक्षा सेवाओं के द्विपक्षीय व्यापार में तेजी आ सकती है. अमेरिका भारत रणनीतिक एवं साझेदारी मंच (यूएसआईएसपीएफ) ने कहा कि ‘अंतरराष्ट्रीय शिक्षा आदान-प्रदान पर 2020 मुक्त द्वार रिपोर्ट’ के मुताबिक 2019-20 के शैक्षणिक वर्ष के दौरान भारत, अमेरिका में अंतरराष्ट्रीय छात्रों का दूसरा सबसे बड़ा स्रोत था.

इस दौरान भारतीय छात्रों की संख्या में चार प्रतिशत की गिरावट हुई, लेकिन 193,124 छात्रों के साथ अमेरिका में उच्च शिक्षा पा रहे अंतरराष्ट्रीय छात्रों में भारत की 18 प्रतिशत हिस्सेदारी थी. मुक्त द्वार रिपोर्ट को हाल में अमेरिकी गृह मंत्रालय के शिक्षा एवं संस्कृति मामलों और अंतरराष्ट्रीय शिक्षा संस्थान के ब्यूरो ने जारी किया था.

यह भी पढ़ें: 8 साल के उच्चतम स्तर पर पहुंची महंगाई दर, जानें कितनी बढ़े सब्जियां और दाल के रेट्स?

यूएसआईएसपीएफ ने कहा कि दोनों देशों के बीच व्यापार और निवेश के लिहाज से उच्च शिक्षा खंड में अपार संभावनाएं हैं और जो दोनों देशों की आर्थिक वृद्धि के लिहाज से भी महत्वपूर्ण है.
इंटरनेशनल एजुकेशनल एक्सचेंज 2019 ओपन डोर रिपोर्ट के अनुसार, भारत अमेरिका में विदेशी छात्रों के लिए मूल का दूसरा सबसे बड़ा देश है- और लगातार, दस वर्षों से है. 2018-19 में, COVID-19 महामारी के प्रकोप से पहले, 200,000 से अधिक भारतीय छात्र स्नातक, गैर-डिग्री और वैकल्पिक व्यावहारिक प्रशिक्षण (OPT) कार्यक्रमों को आगे बढ़ाने के लिए अमेरिका आए थे. साल 2017 के बाद इसमें 2.9 प्रतिशत की वृद्धि हुई है.

यह भी पढ़ें: 7th Pay Commission: 1 जुलाई को हो रहा बड़ा बदलाव! DA में इजाफे के बाद जानें कितनी बढ़ जाएगी आपकी सैलरी?

आपको बता दें OPT कार्यक्रम अपने पाठ्यक्रमों के पूरा होने के बाद अंतर्राष्ट्रीय छात्रों को अमेरिका में काम करने की अनुमति देता है. यूएसआईएसपीएफ ने कहा कि 2015 से 2019 तक, भारतीय छात्रों द्वारा अमेरिका की शैक्षिक यात्रा पर खर्च की जाने वाली राशि 45 प्रतिशत बढ़कर लगभग USD7.7 बिलियन हो गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज