लाइव टीवी

भारत में बनी सबसे फास्ट ट्रेन वंदे भारत एक्सप्रेस ने बनाया नया रिकॉर्ड, जानिए इससे जुड़ी सभी बातें

News18Hindi
Updated: February 18, 2020, 6:16 PM IST
भारत में बनी सबसे फास्ट ट्रेन वंदे भारत एक्सप्रेस ने बनाया नया रिकॉर्ड, जानिए इससे जुड़ी सभी बातें
भारत की पहली इंजनलेस एक्सप्रेस ट्रेन वंदे भारत, जानिए कैसे करती है काम

टी-18 नाम से प्रसिद्ध भारत की पहली सेमी हाई स्पीड ट्रेन, जिसे बाद में आधिकारिक तौर पर वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन के नाम से जाना जाता है. वंदेभारत (ट्रेन-18) एक्सप्रेस एक साल की हो गई. मंगलवार सुबह दिल्ली से सेंट्रल स्टेशन पहुंचने पर यात्रियों को फूल और चॉकलेट देकर मुंह मीठा कराया गया. आइए जानें इससे जुड़ी सभी बड़ी बातें...

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 18, 2020, 6:16 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. वंदे भारत एक्सप्रेस (Vande Bharat Express Train) ने एक साल पूरा कर लिया है. ठीक एक साल पहले 15 फरवरी, 2019 को नई दिल्ली और वाराणसी रेल सेवा के रूप में किया गया. वंदे भारत की पहली यात्रा 17 फरवरी, 2019 को शुरू हुई थी. टी-18 नाम से भी प्रसिद्ध भारत की पहली सेमी हाई स्पीड ट्रेन, जिसे टी -18 भी कहा जाता है, को बाद में आधिकारिक तौर पर वंदे भारत एक्सप्रेस के रूप में नामांकित किया गया . इस रेलगाड़ी के रैक का निर्माण, इंटीग्रल कोच फैक्ट्री, चेन्नई द्वारा अक्टूबर 2018 में किया गया था. यह रेलगाडी अनेक तकनीकी खूबियों और आधुनिक यात्री सुविधाओं से लैस है. आपको बता दें कि वंदे भारत ट्रेन भारत की पहली इंजनलेस एक्सप्रेस ट्रेन है. इस ट्रेन को बिजली से पावर मिलती है. यह पावर ऊपर मौजूद तारों से होते हुए ट्रेन पर लगी डिवाइस 'पेंटों' से नीचे पहुंचती है.

ऊपर मौजूद लाइन की पावर 25 हजार वॉट तक होती है, जिससे सीधे ट्रेन नहीं चलाई जा सकती. इसलिए ट्रेन के कोचों के नीचे ट्रांसफॉमर लगे हैं, इनका काम बिजली को कन्वर्ट कर जरूरत के हिसाब से इस्तेमाल करना है.बिना लोकोमोटिव वाली इंजनलेस इलेक्ट्रिक ट्रेन को चलाने के लिए जो पूरा सिस्टम चाहिए वह वंदे भारत की बोगियों में ही फिट है. काम के हिसाब से ट्रेन में मौजूद 16 डिब्बों को अलग-अलग बांटा जा सकता है. ट्रेन को चलाने के लिए ट्रेन की बोगियां तकनीकी रूप से चार तरह बंटी हैं.



मुख्य विशेषताएं-ट्रेन में एंट्री से शुरू करें तो इसमें ऑटोमेटिक स्लाइड वाले दरवाजे हैं. इसके अलावा हर कोच के गेटों के बाहर ऑटो फुट रेस्ट भी है जो स्टेशन आने पर बाहर निकलते हैं. यह प्लैटफॉर्म और ट्रेन के बीच के गेप को भर देते हैं. जिससे आपको 'गेप को माइंड' करने की जरूरत नहीं होती. बैठने की सुविधा के लिए इसमें चेयर और एग्जिक्युटिव कोच हैं. दोनों काफी आरामदायक हैं. इनकी कुर्सियों को सुविधा के हिसाब से मूव भी किया जा सकता है. इसके साथ ही हर सीट के साथ चार्जिंग सॉकेट, पर्सनल रीडिंग लेंप आदि की भी सुविधा है. हर कोच के साथ पैंट्री और प्लेन जैसे वॉशरूम की सुविधा भी है. हर कोच में आपको चार एलईडी टीवी मिलेंगे जिनसे सफर मनोरंजन के साथ आसानी से भी कट जाएगा.



ये भी पढ़ें-मोदी सरकार के लिए खुशखबरी! दुनिया की 5वीं बड़ी इकोनॉमी बना भारत
>> 16 कोच चेयर कार प्रकार विन्यास स्टेनलेस स्टील कार बॉडी
>> अधिकतम गति - 160 किमी प्रति घंटा
>> टेस्ट स्पीड - 180 किमी प्रति घंटे
>> अधिकतम एक्सल लोड - 17 टी
>> डिसेलरैशन - 1 मी / सेकंड 2
>> पूरी तरह से सील गैंगवे
>> ड्राइवर कैब सहित पूरी तरह से वातानुकूलित
>> स्लाईडिंग फुट स्टैप के साथ स्वचालित दरवाजे
>> ट्रेन नियंत्रण और रिमोट मॉनिटरिंग के लिए ऑनबोर्ड कंप्यूटर
>> 50% पावर्ड एक्सल (हर वैकल्पिक कोच पावर्ड)
>> पूरी तरह से सस्पैंडिड ट्रैक्शन मोटर्स
>> सभी प्रणोदन उपकरण नीचे की ओर लटकाए गए हैं



बनाए ये रिकॉर्ड
बिना किसी सेवा बाधा के चलकर बेजोड़ उपलब्धता और विश्वसनीयता के रिकॉर्ड बनाए हैं.  भारत में पहली ट्रेन जो 100 किमी प्रति घंटे से अधिक की वाणिज्यिक गति से चलती है.  अतिरिक्त कोच या अतिरिक्त रेक की उपलब्धता के बिना एकल रेक के साथ सेवा मानकों को बनाए रखा गया है.

अब तक 3.8 लाख किलोमीटर लॉग हो चुके हैं, प्रत्येक दिन लगभग 1500 किलोमीटर प्रति घंटे की लॉगिंग होती है. 100% ऑक्यूपेंसी के साथ 92.29 करोड़ रुपये की आमदनी हुई.  इस रेलगाड़ी का दूसरा रैक नई दिल्ली-वैष्णो देवी कटड़ा के बीच इसी तरह की उच्च गुणवत्ता वाली सेवाएं सफलतापूर्वक प्रदान कर रहा है.

यह रेलगाड़ी नई दिल्ली और वाराणसी के बीच की दूरी 8 घंटे में पूरी करती है तथा प्रत्येक सोमवार तथा वीरवार को छोड़कर सप्ताह में पांच दिन चलती है . वन्दे भारत टी-18 एक्सप्रेस रेलगाड़ी की सेवा के सफलतापूर्वक संचालन का एक वर्ष पूरा होने के अवसर पर दिनांक 17.02.2020 को नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर इस रेलगाड़ी के यात्रियों का उनका रेलगाड़ी में आगमन पर स्वागत किया गया तथा उनसे बातचीत कर सुझाव भी लिए गए.

(दिपाली नंदा, संवाददाता, CNBC आवाज़)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 18, 2020, 6:06 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर