किसान आंदोलन के बीच अचानक क्यों सस्ती हो गईं सब्जियां

किसान आंदोलन के बीच अचानक क्यों सस्ती हो गईं सब्जियां

किसान आंदोलन के बीच अचानक क्यों सस्ती हो गईं सब्जियां

अच्छी खबर यह है कि 12 दिन के किसान आंदोलन के बाद भी दिल्ली में अचानक से सब्जियां (Vegetables) सस्ती हो गई हैं. देश की राजधानी दिल्ली और उसके आसपास के राज्यों में बिक रही सब्जियां के दाम एक हो गए हैं. जबकि दिल्ली में सब्जियां हरियाणा (Haryana) और यूपी (UP) से आती हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 8, 2020, 4:41 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. किसान आंदोलन (Farmer Movement) को दिल्ली के अलग-अलग बॉर्डर पर 12 दिन पूरे हो चुके हैं. आज किसानों ने भारत बंद बुलाया है. लेकिन भारत बंद में भी ज़रूरी चीजों की सप्लाई के लिए छूट दी गई है. लेकिन अच्छी खबर यह है कि 12 दिन के किसान आंदोलन के बाद भी दिल्ली में अचानक से सब्जियां (Vegetables) सस्ती हो गई हैं. देश की राजधानी दिल्ली और उसके आसपास के राज्यों में बिक रही सब्जियां के दाम एक हो गए हैं. जबकि दिल्ली में सब्जियां हरियाणा (Haryana) और यूपी (UP) से आती हैं.

आलू 28 तो मटर बिक रही है 40 रुपये किलो-आज भारत बंद है, फिर भी गाज़ीपुर सब्जी मंडी में कहीं-कहीं सब्जियां बिक रही हैं. लेकिन अच्छी बात यह है कि बंद और किसान आंदोलन के चलते सब्जियां महंगी के बजाए सस्ती बिक रही हैं. रिटेल में आलू 28 रुपये किलो बिक रहा है. मटर 40 रुपये बिक रही है. वहीं प्याज़ 40 रुपये, मूली 10 रुपये किलो, गोभी 16 रुपये किलो बिक रहा है. वहीं टमाटर 30 रुपये किलो बिक रहा है तो घिया 15 रुपये किलो बिक रहा है.

Youtube Video


इसलिए भी सस्ती हो गई हैं बाज़ार में सब्जियां
रोहतक सब्ज़ी मंडी में हरी सब्जी के थोक कारोबारी विजय हरवीरा ने बताया कि आमतौर पर हम बड़े कैंटर में सब्ज़ियां दिल्ली-एनसीआर में भेजते हैं. लेकिन आंदोलन के चलते अब मेन रोड पर बड़ी गाड़ियों को रास्ता नहीं मिल पा रहा है. 250 से 300 बड़ी गाड़ियां रास्ते में फंसी हुई हैं. इसलिए अब हम मेन रोड से गाड़ी न भेजकर गांवों के अंदर से गुजरने वाले रास्तों से सब्जी की गाड़ियों को दिल्ली-एनसीआर भेज रहे हैं. इसके लिए हम एक टन तक की क्षमता वाली गाड़ियों का इस्तेमाल कर रहे हैं. डिमांड पूरी करने के लिए ट्रांसपोर्टर दूसरे ज़िलों से भी गाड़ियां मंगा रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज