अपना शहर चुनें

States

बड़ी खबर! दिल्ली में सब्जियों के दामों में हो सकती है भारी बढ़ोतरी, जानिए पूरा मामला

सबसे ज़्यादा रुलाएगा आलू
सबसे ज़्यादा रुलाएगा आलू

सोमवार की सुबह किसानों (Farmer) ने चेतावनी दी है कि अगर उनकी मांग नहीं मानी गईं तो वो दिल्ली में आने 5 रास्तों के बॉर्डर पूरी तरह से जाम कर देंगे. जिसका असर यह होगा कि दिल्ली (Delhi) में और दूसरी जरूरी चीजों के साथ ही सब्जियों की सप्लाई ठप्प हो जाएगी. दिल्ली के अंदर होने वाली सब्जियों (Vegetables) के दाम बेहताशा बढ़ जाएंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 30, 2020, 10:49 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. यूपी (UP), राजस्थान और हरियाणा (Haryana) में दिल्ली से लगे बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन चल रहा है. वैसे तो आंदोलन 26 नवंबर से 27 तक दो दिन का था. लेकिन मांगे न माने जाने के चलते किसान बॉर्डर पर डटे हुए हैं. सोमवार की सुबह किसानों (Farmer) ने चेतावनी दी है कि अगर उनकी मांग नहीं मानी गईं तो वो दिल्ली में आने 5 रास्तों के बॉर्डर पूरी तरह से जाम कर देंगे. जिसका असर यह होगा कि दिल्ली (Delhi) में और दूसरी जरूरी चीजों के साथ ही सब्जियों की सप्लाई ठप्प हो जाएगी. दिल्ली के अंदर होने वाली सब्जियों (Vegetables) के दाम बेहताशा बढ़ जाएंगे.

छौंक के बराबर है दिल्ली में होनी वाली सब्जियां-ओखला मंडी में सब्जियों के आढ़ाती हारुन का कहना है कि अगर किसानों ने दिल्ली के बॉर्डर जाम कर दिए तो सब्जियों को लेकर दिल्ली में हाहाकार मच जाएगा. हालांकि होने को तो दिल्ली में भी सब्जी पैदा होती है, लेकिन वो डिमांड की तुलना में छौंक के बराबर है. दिल्ली में कई जगह यमुना के खादरों में में किसान थोड़ी-थोड़ी सब्जी उगाते हैं. लेकिन वो मंडी की जरूरतों के हिसाब से बेहद कम है.

अब आपको अपनी कार-बाइक की करनी होगी वसीयत! जानिए नए नियमों के बारे में सबकुछ



160 से 60 हो गई थी अब फिर बढ़ने लगे दाम -थोक सब्जियों के विक्रेता श्याम बताते हैं कि त्योहारों के बाद मटर के दाम 160 से 60 पर आ गए थे. लेकिन किसान आंदोलन की वजह से फिर दाम बढ़ने शुरु हो गए हैं. शनिवार से मटर थोक में 60 से अब 80 रुपये किलो पर पहुंच गई है. अगर आंदोलन के चलते बॉर्डर सील हो जाते हैं तो मटर के दाम फिर से पुराने रेट पर पहुंच सकते हैं. 110 से 120 रुपये किलो तक बिक रहा लहसन अब 150 रुपये पहुंच गया है.

सबसे ज़्यादा रुलाएगा आलू-आलू किसान और थोक कारोबारी आमिर का कहना है कि यह मौसम नए आलू का है. पंजाब से दिल्ली में 200 गाड़ी तक आलू रोज आता था. लेकिन आंदोलन के चलते यह संख्या घटकर 50 रह गई है. बॉर्डर सील होने पर जो नया आलू 40 रुपये किलो और पुराना आलू 45 से 50 रुपये किलो तक बिक रहा था उसे दाम आसमान छूने लगेंगे. आलू के साथ ही टमाटर भी दाम के मामले में और सुर्ख हो जाएगा. अभी तक थोक में 30 से 32 रुपये किलो तक बिक रहा था. लेकिन इसका भी थोक भाव अगले दो-चार दिन में 60 रुपये से भी ऊपर जाने की आशंका है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज