मशहूर उद्योगपति हर्ष गोयनका ने बताई 5 वजहें, क्यों वे भारत में कभी क्रिप्टोकरेंसी में निवेश नहीं करेंगे

हर्ष गोयनका ने क्रिप्टोकरेंसीज के बारे में कही ये बात.

Harsh Goenka on Cryptocurrency: हर्ष गोयनका के अनुसार क्रिप्टोकरेंसीज किसी भी ऐसेट से अपना वैल्यू डेराइव नहीं करते हैं. उन्होंने कहा कि फिर भी आप अगर क्रिप्टोकरेंसीज में निवेश करना चाहते हैं. तो आप अपने पूरे पोर्टफोलियो का 5% से अधिक हिस्सा इसमें निवेश नहीं करें.

  • Share this:
    नई दिल्ली.  आरपीजी एन्टरप्राइजेज़ (RPG Enterprises) के चेयरमैन और मशहूर उद्योगपति हर्ष गोयनका (Harsh Goenka) क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने के पक्ष में नहीं हैं और उन्होंने निवेशकों को भी क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने से बचने का सुझाव किया है. हर्ष गोयनका ने एक वीडियो ट्वीट करके वो 5 वजहें बताईं कि क्यों वे कभी भारत में बिटक्वाइन (Bitcoin) जैसी क्रिप्टोकरेंसीज में निवेश नहीं करेंगे. हर्ष गोयनका ने कहा कि क्रिप्टोकरेंसीज की कामतों में लगातार होने वाली उठापटक (Volatility) और रेगुलेटरी कारणों के अलावा और भी कई वजहें हैं, जिसके कारण क्रिप्टोकरेंसीज में निवेश से बचना चाहिए.
    उन्होंने कहा कि क्रिप्टोकरेंसीज किसी भी ऐसेट से अपना वैल्यू डेराइव नहीं करते हैं. उन्होंने कहा कि फिर भी आप अगर क्रिप्टोकरेंसीज में निवेश करना चाहते हैं तो आप अपने पूरे पोर्टफोलियो का 5% से अधिक हिस्सा इसमें निवेश नहीं करें.

    यह भी पढ़ें: कोरोना काल में Credit Card का बिल भरने में हो रही है परेशानी, अपनाएं ये तरीके

    इन वजहों से नहीं करें निवेश

    हर्ष गोयनका ने कहा कि दूसरे फाइनेंशियल इंस्ट्रूमेंट या करेंसी की तरह क्रिप्टोकरेंसीज किसी भी ऐसेट से अपनी वैल्यू derive नहीं करते हैं.

    क्रिप्टोकरेंसी काफी उतार-चढ़ाव और उठापटक वाला है, साथ ही इसकी कीमत किसी के ट्वीट से ऊपर-नीचे हो जाती है, उनका इशारा एलॉन मस्क (Elon Musk) की तरफ था.

    यह भी पढ़ें: PF अकाउंट से फंड निकालने में आ रही है परेशानी, इन नंबरों पर करें शिकायत

    इसे रेगुलेट करना काफी मुश्किल काम है और दुनिया की अधिकतर कंपनियां इसे स्वीकार नहीं करती हैं और करने को तैयार भी नहीं हैं.

    दूसरी करेंसीज में अगर कोई नुकासान होता है तो उसका दावा या शिकायत आप किसी सरकारी अथॉरिटी से कर सकते हैं, लेकिन क्रिप्टोकरेंसीज के साथ ऐसा नहीं है, इसकी जवाबदेही लेने वाला कोई नहीं है.

    भारत की बात करें तो RBI ने इसे लीगल टेंडर यानी वैध मुद्रा मानने से इनकार कर दिया है और इस पर प्रतिबंध लगाने की बात हो रही है. इसे बैन करने के लिए सरकार कानून भी ला रही है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.