• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • Videocon Industries के वेणुगोपाल धूत इनसाइडर ट्रेडिंग में थे शामिल, SEBI ने 3 पर लगाया 75 लाख रुपये का जुर्माना

Videocon Industries के वेणुगोपाल धूत इनसाइडर ट्रेडिंग में थे शामिल, SEBI ने 3 पर लगाया 75 लाख रुपये का जुर्माना

SEBI ने एनएसई से वीडियोकॉन इंडस्‍ट्रीज के खिलाफ मिली शिकायतों की जांच करने को कहा था.

SEBI ने एनएसई से वीडियोकॉन इंडस्‍ट्रीज के खिलाफ मिली शिकायतों की जांच करने को कहा था.

पूंजी बाजार नियामक सेबी (SEBI) को वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज (Videocon Industries) के स्टॉक में एक साल के दौरान आई गिरावट में गड़बड़ी के आरोप वाली दो शिकायतें मिली थीं. इसके बाद सेबी ने नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) से कंपनी के स्टॉक की जांच करने का आग्रह किया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्‍ली. वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज (Videocon Industries) के संस्‍थापक वेणुगोपाल धूत (Venugopal Dhoot) समेत तीन लोगों पर पूंजी बाजार नियामक सेबी (SEBI) ने मंगलवार को जुर्माना (Penalty) लगाया. धूत पर 25 लाख रुपये और इलेक्ट्रोपार्ट्स व वीडियोकॉन रियल्टी एंड इंफ्रास्ट्रक्चर पर 25-25 लाख रुपये का जुर्माना लगा है. इन्हें आदेश मिलने के 45 दिनों के अंदर जुर्माने का भुगतान करना होगा. इन पर इनसाइडर ट्रेडिंग (Insider Trading) में शामिल होने के लिए जुर्माना लगाया गया है.

    NSE ने सेबी के आग्रह पर की थी जांच
    सेबी को वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज के स्टॉक में एक साल के दौरान आई गिरावट में गड़बड़ी के आरोप वाली दो शिकायतें मिली थीं. इसके बाद सेबी ने नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) से कंपनी के स्टॉक की जांच करने का आग्रह किया था. एनएसई की रिपोर्ट के आधार पर पूंजी बाजार नियामक ने भी इनसाइडर ट्रेडिंग की आशंका और कुछ एंटिटीज की ओर से वॉल्यूम में गड़बड़ी करने की जांच की थी. इसमें इनसाइडर ट्रेडिंग के नियमों (Insider Trading Rules) का उल्लंघन पाया गया था. इस बारे में सेबी ने संबंधित पक्षों को कारण बताओ नोटिस (Show Cause Notice) जारी किया था.

    ये भी पढ़ें- CEA कृष्णमूर्ति सुब्रमण्यम ने बताया, कब आएगा LIC IPO और BPCL-Air India का निजीकरण कब होगा पूरा

    कंपनी ने प्राइस सेंसेटिव जानकारी छुपाई
    मामले की जांच में पता चला कि कंपनी ने कई बैंकों से लगभग 23,070 करोड़ रुपये के लोन और एडवांस (Bank loans/Advances) लिए थे. इनमें से लगभग सभी बैंकों ने वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज के लोन अकाउंट (Loan Account) को नॉन-परफॉर्मिंग असेट्स (NPAs) की कैटेगरी में डाल दिया था. यह कंपनी की वित्तीय स्थिति (Financial Condition) खराब होने का संकेत था. कंपनी के प्रमोटर्स ने इस प्राइस सेंसेटिव जानकारी को छिपाया और इनसाइडर ट्रेडिंग के जरिये मुनाफा कमाने (Profit Booking) की कोशिश की थी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज