• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • ब्रिटेन में घर मेरे नाम पर नहीं, कोई इन्‍हें छू भी नहीं सकता: विजय माल्‍या

ब्रिटेन में घर मेरे नाम पर नहीं, कोई इन्‍हें छू भी नहीं सकता: विजय माल्‍या

क्यों हुई विजय माल्या की यह हालत: शराब का व्यवसाय उन्हें पिता विट्ठल माल्या से विरासत में मिला था. उन्होंने देश के प्रतिष्ठित मैनेजमेंट संस्थानों से लोगों को चुना और इस शराब उद्योग को एक कार्पोरेट रूप दिया. लेकिन, झटके में नई कंपनियां खरीदने की उनकी आदत और कई बार तो बिना बही-खाते की जांच के ही फैसला लेने की वजह से विजय माल्या की यह हालत हो गई है. माल्या ने किंगफिशर एयरलाइन इस मकसद से शुरू की कि उन्हें शराब कारोबारी नहीं बल्कि शराब उद्योगपति समझा जाए. यही वजह थी कि वो अपनी एयरलाइन में यात्रियों को वो सारे सुख देना चाहते थे, जो कोई और कंपनी सोचती भी नहीं थी.

क्यों हुई विजय माल्या की यह हालत: शराब का व्यवसाय उन्हें पिता विट्ठल माल्या से विरासत में मिला था. उन्होंने देश के प्रतिष्ठित मैनेजमेंट संस्थानों से लोगों को चुना और इस शराब उद्योग को एक कार्पोरेट रूप दिया. लेकिन, झटके में नई कंपनियां खरीदने की उनकी आदत और कई बार तो बिना बही-खाते की जांच के ही फैसला लेने की वजह से विजय माल्या की यह हालत हो गई है. माल्या ने किंगफिशर एयरलाइन इस मकसद से शुरू की कि उन्हें शराब कारोबारी नहीं बल्कि शराब उद्योगपति समझा जाए. यही वजह थी कि वो अपनी एयरलाइन में यात्रियों को वो सारे सुख देना चाहते थे, जो कोई और कंपनी सोचती भी नहीं थी.

बैंकों का कर्ज लेकर देश छोड़ने वाले कारोबारी विजय माल्‍या ने साफ कर दिया कि बैंकों को कुछ मिलेगा नहीं क्‍योंकि उनके परिवार के भव्‍य घर उनके नाम पर नहीं है.

  • Share this:
    बैंकों का कर्ज लेकर देश छोड़ने वाले कारोबारी विजय माल्‍या ने कहा है कि वह ब्रिटिश कोर्ट के आदेश पर पूरी मदद करेंगे. हालांकि माल्या ने कहा कि बैंकों को कुछ मिलेगा नहीं क्‍योंकि उनके परिवार के भव्‍य घर उनके नाम पर नहीं है. ब्रिटिश फॉर्मूला वन ग्रांड प्रिक्‍स में समाचार एजेंसी रॉयटर्स से बातचीत में माल्‍या ने कहा कि वह अपनी ब्रिटिश संपत्ति सौंप देंगे. लेकिन एक लग्‍जरी घर उनके बच्‍चों और लंदन में एक घर उनकी मां के नाम है इसके चलते कोई इन्‍हें छू भी नहीं सकता है.

    माल्या ने कहा, 'मैंने ब्रिटिश कोर्ट को मेरी यहां की संपत्ति से जुड़ा हुआ एफिडेविट दिया है. यह संपत्ति जब्‍त करने के आदेश के अनुसार है, इसे वे बैंकों को दे सकते हैं. कुछ कारें, थोड़े से गहने हैं और मैंने कहा ठीक है. आपको इन्‍हें जब्‍त करने के लिए मेरे घर आने की जरूरत नहीं है. मैं खुद उन्‍हें यह सौंप दूंगा. मुझे समय और जगह बता दो.'

    बता दें कि भारत विजय माल्‍या को प्रत्‍यर्पित करने की कोशिशों में जुटा हुआ है. इस मामले में सितम्‍बर तक फैसला आ सकता है. 31 जुलाई बयान दर्ज करने की आखिरी तारीख है. माल्‍या पर बैंकों का 9000 करोड़ रुपये का लोन बकाया है.

    माल्‍या ने कहा, 'मेरे बेघर होने का कोई सवाल नहीं है क्‍योंकि आखिरकार उन्‍हें वही मिलेगा जो मेरे नाम पर है. वे इससे एक कदम आगे नहीं जा सकते.'

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज