लाइव टीवी

विरल आचार्य ने सरकार को दिया सुझाव, कहा- यहां से जुटाएं पूंजी

भाषा
Updated: November 4, 2019, 5:32 PM IST
विरल आचार्य ने सरकार को दिया सुझाव, कहा- यहां से जुटाएं पूंजी
विरल आचार्य

RBI के पूर्व डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य (Viral Acharya) ने कहा है कि भारत सरकार को बांड बाजार पर निर्भरता को कम कर विनिवेश कार्यक्रम पर अधिक ध्यान देना चाहिए.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के पूर्व डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य (Viral Acharya) का मानना है कि भारत सरकार को बांड बाजार पर अपनी निर्भरता को कम करना चाहिए. आचार्य ने कहा कि भारत सरकार को एक बड़ा विनिवेश कार्यक्रम चलाने के साथ भूमि, श्रम और कृषि क्षेत्रों में तत्काल सुधार करने की जरूरत है. कोलंबिया विश्वविद्यालय में शुक्रवार को ‘भारतीय अर्थव्यवस्था: अगले पांच वर्ष’ विषय पर एक परिचर्चा में आचार्य ने आगे चलकर भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए कुछ संभावित उपायों और सुझावों का जिक्र किया.

क्या है विरल आचार्य का सुझाव
उन्होंने कहा, ‘‘आने वाले वर्षों के लिए मेरा प्रमुख सुझाव यह है कि हमें सावधानी से कुछ कम करने की जरूरत है. मेरा मानना है कि जहां तक सरकार के कार्यक्रमों का सवाल है तो मौजूदा समय में कम करना भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए अधिक होगा.’’ आचार्य ने कहा, ‘‘संभवत: पहले से घोषित कुछ कार्यक्रमों को वापस लेना आसान नहीं होगा. लेकिन ऐसी स्थिति कुछ ऐसे बड़े कार्यक्रमों को तर्कसंगत बनाने की जरूरत होगी जो अपने लक्षित उद्देश्यों को पूरा नहीं कर पा रहे हैं.’’

ये भी पढ़ें: SBI खाताधारकों के लिए अलर्ट! 30 नवंबर तक नहीं जमा किया ये फॉर्म, तो अटक जाएगा पैसा


​उर्जिज पटेल के बाद विरल आचार्य ने दिया था इस्तीफा
आचार्य न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय के स्टर्न स्कूल आफ बिजनेस में अर्थशास्त्र के प्रोफेसर हैं. वह जनवरी, 2017 से जुलाई, 2019 तक रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर रहे थे. उन्होंने अपना कार्यकाल पूरा होने से 6 महीने पहले ही इस्तीफा दे दिया था. विरल आचार्य की तरफ से यह इस्तीफा आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल के इस्तीफे के कुछ दिन बाद ही आया था.
Loading...

ये भी पढ़ें: LIC पॉलिसीधारकों के लिए खुशखबरी! बंद हुई पॉलिसी से जुड़े बदल गए ये नियम, जानिए आपको कैसे होगा फायदा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 4, 2019, 5:32 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...