विसाका इंडस्ट्रीज ने बनाया इको-फ्रेंडली सोलर रूफ, छत के रूप में कर सकते हैं इस्तेमाल

विसाका इंडस्ट्रीज ने बनाया इको-फ्रेंडली सोलर रूफ, छत के रूप में कर सकते हैं इस्तेमाल
विश्व की पहली इको-फ्रेंडली बिजली उत्पन्न करने वाली एकीकृत सोलर रूफ

एटीयूएम एक ऐसा छत है जो बिजली पैदा करता है. यह एक पूरी तरह से एकीकृत, सीवनहीन सोलर रूफ है जो पॉली या मोनो क्रिस्टलीय सोलर सेल और सीमेंट बोर्ड - एक बेहद टिकाऊ छत निर्माण सामग्री से बनाया गया है जो इसे दुनिया का ऐसा पहला सोलर पैनल (Solar Panel) बनाता है जिसे सीधे छत के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 15, 2020, 8:26 PM IST
  • Share this:
हैदराबाद. विसाका इंडस्ट्रीज लिमिटेड (Visaka Industries Ltd) को अपने एटीयूएम सोलर रूफ (ATUM Solar Roof) के लिए 20 साल का पेटेंट मिला है. ये पेटेंट 'ईको-फ्रेंडली एनर्जी जनरेटिंग रूफ' नाम के आविष्कार के लिए दिया गया है. एटीयूएम एक ऐसा छत है जो बिजली पैदा करता है. यह एक पूरी तरह से एकीकृत, सीवनहीन सोलर रूफ है जो पॉली या मोनो क्रिस्टलीय सोलर सेल और सीमेंट बोर्ड - एक बेहद टिकाऊ छत निर्माण सामग्री से बनाया गया है जो इसे दुनिया का ऐसा पहला सोलर पैनल (Solar Panel) बनाता है जिसे सीधे छत के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है.

एटीयूएम को इंटरनेशनल इलेक्ट्रोटेक्निकल कमीशन (IEC) के मानकों के अनुसार प्रतिष्ठित यूएल प्रमाणन प्राप्त है. कैंपबेल कॉर्पोरेशन ने भी एटीयूएम को प्रमाणित किया है कि यह 780 पाउंड प्रति वर्गफुट का यूनिफार्म लोड, 2200 पाउंड का लोड उठाने में सक्षम है और इसका जॉइंटिंग मैकेनिज्म अमेरिकन सोसाइटी फॉर टेस्टिंग एंड मैटेरियल (एएसटीएम) के मानकों के अनुसार एक पेटेंट कराया लीक प्रूफ सिस्टम है. यह छत क्लास ए फायर रेटेड है और इसे 150 किमी प्रति घंटे से अधिक तेज हवा में टिके रहने के लिए डिज़ाइन किया गया है जो इसे तूफ़ान-रोधी बनाता है. एटीयूएम ग्रीनप्रो प्रमाणित सामग्री का उपयोग करता है जिससे यह अत्यधिक टिकाऊ, विश्वसनीय और सुरक्षित सोलर रूफ बनता है.

यह भी पढ़ें- कोरोना महामारी के बावजूद रेलवे ने लॉकडाउन में बनाया रिकॉर्ड बनाए 150 रेल इंजन



बाजार में उपलब्ध कई पारंपरिक सोलर टाइलों की तरह एटीयूएम के लिए किसी नींव की जरूरत नहीं है, यह एक स्टैंडअलोन छत है. एक छत के रूप में इसमें ऐसे यांत्रिक गुण हैं जो टाइलों / पारंपरिक पैनलों से कहीं बेहतर हैं. एटीयूएम किसी दिए गए क्षेत्र में 20-40% उच्च क्षमता प्रदान करता है जो इसे सौर ऊर्जा उत्पन्न करने के लिए छत का क्षेत्र इस्तेमाल करने में एक आसान उत्पाद बनाता है. यह पारंपरिक सोलर रूफ की तुलना में 20- 40% अधिक बिजली भी उत्पन्न करता है. एटीयूएम सौंदर्य की दृष्टि से भी आकर्षक दिखता है और अतिरिक्त फ्लोर स्पेस देता है जो पारंपरिक प्रणालियों के साथ संभव नहीं है. इससे एटीयूएम की आरओआई 4 साल से कम और यह एक अत्यधिक आकर्षक निवेश बन जाता है. इसलिए, एक उपभोक्ता 4 साल से कम समय में ब्रेक-ईवन की उम्मीद कर सकता है और अगले 25 वर्षों तक मुफ्त में बिजली का आनंद ले सकता है.


इस मुकाम को हासिल करने के बारे में बात करते हुए विसाका इंडस्ट्रीज लिमिटेड के संयुक्त प्रबंध निदेशक, वाम्सी गद्दाम ने कहा, “एटीयूएम - दुनिया की पहली सोलर रूफ जो बिजली उत्पन्न करती है का आविष्कार, एक ऐसा विचार है जिसपर मैं 2016 से काम कर रहा था. हमने मार्च 2017 में पेटेंट के लिए आवेदन किया जिसके बाद वैश्विक उद्धरणों के खिलाफ कई सुनवाई हुईं, जो हमें प्रमाणित करने थे और एटीयूएम के नवोन्मेष के संबंध में बातें साबित करनी थी. आज, हमारे पास सौर उद्योग के लिए सही मायने में एक मेड इन इंडिया उत्पाद है. एटीयूएम– हमारे इंटीग्रेटेड सोलर रूफ के लिए पेटेंट प्राप्त करने की मुझे ख़ुशी है. एटीयूएम विश्व की पहली इको-फ्रेंडली बिजली उत्पन्न करने वाली छत है और यह सतत और हरित प्रौद्योगिकियों में नवोन्मेष, ध्यान केंद्रित करने और 'आत्मनिर्भर' भारत बनाने की हमारी दृष्टि को और मजबूत करता है.

एक पारंपरिक छत का जीवनकाल 15 वर्ष है जबकि एटीयूएम का जीवनकाल 30 वर्ष है. चेन्नई
(तमिलनाडु), मुंबई (महाराष्ट्र), और हैदराबाद (तेलंगाना) सहित भारत के कई स्थानों पर एटीयूएम सफलतापूर्वक स्थापित किया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading