विस्तारा ने एयरबस से खरीदा A320neo Aircraft, कंपनी का 46वां विमान दिल्ली पहुंचा

इस विमान के साथ विस्तारा के बेड़े में विमानों की संख्या 46 हो गई

विस्तारा के बेड़े में सात A320ceo, 29 A320neo, दो बोइंग B787-9 और छह बोइंग 737-800NG विमान हैं. इनमें से दो बी787-9, एक A320नियो विमान खरीदे जा चुके हैं और बाकी लीज पर हैं.

  • Share this:

    नई दिल्ली. एयरलाइन कंपनी विस्तारा (Vistara) के जहाजों के बेड़े में शनिवार को A320neo Aircraft भी जुड़ गया. कंपनी ने इसे एयरबस (Airbus) से खरीदा है. यह विमान CFM इंटरनेशनल्स के लीप इंजन से लैस है. इसके बाद विस्तारा का यह 46वां विमान बन चुका है. कंपनी ने 46 में से 43 विमान लीज पर लिए हैं, जबकि तीन उनके अपने हैं. एयरलाइंंस की ओर से कहा गया है कि खरीदा गया A320neo Aircraft विमान 13 एयरबस में से एक है, जिसे विस्तारा ने 2018 में A320neo परिवार के कुल 50 विमानों के बड़े ऑर्डर के हिस्से के रूप में खरीदा था. विस्तारा के बेड़े में सात A320ceo, 29 A320neo, दो बोइंग B787-9 और छह बोइंग 737-800NG विमान हैं. इनमें से दो बी787-9 और एक A320नियो विमान खरीदे जा चुके हैं और बाकी लीज पर हैं. बयान में कहा गया है, “A320नियो विमान का नया सेट जिसे विस्तारा अपने बेड़े में शामिल कर रही है, वह उच्च रेंज क्षमता (अधिकतम टेक-ऑफ वजन का 77 टन) के साथ आता है, जिससे एयरलाइन पेलोड प्रतिबंधों के बिना लंबे क्षेत्रीय अंतरराष्ट्रीय मार्गों पर उड़ान भर सकती है.”


    विमानन क्षेत्र बुरी तरह प्रभावित
    डिलीवरी ऐसे समय में हो रही है जब भारत और उसका विमानन क्षेत्र कोरोनावायरस संक्रमण की दूसरी लहर की चपेट में आ गया है. पिछले कुछ हफ्तों के दौरान देश में घरेलू हवाई यात्रा में भारी कमी आई है. 28 फरवरी को लगभग 3.13 लाख घरेलू हवाई यात्रियों ने भारत में यात्रा की. जबिक 25 मई को, भारत में घरेलू उड़ानें सिर्फ  39,000 यात्रियों के साथ संचालित हुईं.  


    ये भी पढ़ें - 1 जून से लागू होगा EPFO का नया नियम! शर्तें पूरी नहीं कीं तो पीएफ सब्‍सक्राइबर्स को होगा तगड़ा नुकसान


    एक जून से महंगा हो रहा है हवाई सफर
    दूसरी तरफ हवाई सफर फिर से महंगा होने जा रहा है. दरअसल, सरकार ने डोमेस्टिक फ्लाइट्स किराए की लोअर लिमिट को 13 से 16 फीसदी बढ़ाने का फैसला किया है. इससे पहले मार्च में सिविल एविएशन मिनिस्ट्री (Ministry of Civil Aviation) ने डोमेस्टिक फ्लाइट्स किराए की लोअर लिमिट को 5 फीसदी बढ़ाने का फैसला किया था. फरवरी में लोअर प्राइस बैंड में 10 फीसदी और हायर बैंड में 30 फीसदी का इजाफा किया गया था. हवाई यात्रा किराए में यह वृद्धि एक जून से प्रभाव में आ जाएगी. हवाई किराये की ऊंची सीमा को हालांकि, पूर्ववत रखा गया है सरकार के इस कदम से एयरलाइन कंपनियों को मदद मिलेगी. कोविड-19 की दूसरी लहर के कारण हवाई यात्रियों की संख्या में भारी कमी आई है जिसकी उनकी आय घटी है.