Vodafone-Idea को मिली नई पहचान, अब कहलाएगा Vi, महंगे हो सकते हैं रिचार्ज प्लान

Vodafone-Idea को मिली नई पहचान, अब कहलाएगा Vi, महंगे हो सकते हैं रिचार्ज प्लान
Vodafone-Idea को मिली नई पहचान लॉन्च किया नया ब्रांड, अब कहलाएगा Vi

टेलीकॉम कंपनी वोडाफोन आइडिया (Vodafone Idea) ने आज अपनी रिब्रांडिंग की घोषणा की है. इस कंपनी को अब Vi नाम से जाना जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 7, 2020, 2:18 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. टेलीकॉम कंपनी वोडाफोन आइडिया (Vodafone Idea) ने आज अपनी रिब्रांडिंग की घोषणा की है. इस कंपनी को अब Vi नाम से जाना जाएगा. इस कंपनी का मालिकाना हक ब्रिटेन की वोडाफोन और आदित्य बिड़ला ग्रुप के पास है. 2018 में कंपनियों ने आपस में विलय कर दिया था और वोडाफोन आइडिया नाम से कंपनी अस्तित्व में आई थी. इसमें V वोडाफोन और i आइडिया के लिए है. आज एक नई ब्रांडिंग का ऐलान करते हुए कंपनी ने कहा कि इन दो ब्रांड का विलय दुनिया का अब तक सबसे बड़ा टेलीकॉम इंट्रीग्रेशन है. इसके साथ ही कंपनी ने अब टैरिफ में भी बढ़ोतरी के संकेत दिए हैं.

कंपनी के सीईओ रविन्दर टक्कर ने नए ब्रांड को लांच करते वक्त कहा कि वोडाफोन आइडिया का विलय दो साल पहले हुआ था. हम तबसे दो बड़े नेटवर्क, हमारे लोगों और प्रोसेस के एकीकरण की दिशा में काम कर रहे थे. आज Vi ब्रांड को पेश करते हुए मुझे काफी खुशी हो रही है. कंपनी के सीईओ ने कहा कि यह अहम कदम है. इसका साथ ही एकीकरण की प्रक्रिया पूरी हो गई है.

टैरिफ में बढ़ोतरी के दिए संकेत
रविन्दर के मुताबिक कंपनी पहले कदम के तौर पर टैरिफ में बढ़ोतरी के लिए तैयार है. नए टैरिफ से कंपनी को एआरपीयू सुधारने में मदद मिलेगी. यह अभी 114 रुपये है जबकि एयरटेल और जियो का एपीआरयू क्रमशः 157 रुपये और 140 रुपये है.
25,000 करोड़ रुपये जुटाने के प्रस्ताव को कंपनी के बोर्ड ने दी मंजूरी 


कंपनी के बोर्ड ने हाल में इक्विटी शेयर जारी करके या ग्लोबल डिपोजिटरी रिसीट, अमेरिकन डिपोजिटरी रिसीट, फॉरेन करेंसी बॉन्ड्स, कंवर्टिबल डिबेंचर्स के जरिए 25,000 करोड़ रुपये जुटाने के प्रस्ताव को अपनी मंजूरी दे दी थी. इससे नकदी संकट में फंसी कंपनी को काफी राहत मिलने की उम्मीद है. कंपनी के सब्सक्राइबर्स की संख्या में लगातार कमी आ रही है. साथ ही इसके एवरेज रेवेन्यू पर यूजर में भी कमी आई है. कंपनी को बकाया एजीआर के रूप में सरकार को 50,000 करोड़ रुपये का भुगतान करना है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज