• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • Warren Buffett के वैल्यूएशन इंडिकेटर से देश के इक्विटी मार्केट को मिल रही चेतावनी, जानिए क्या है मामला  

Warren Buffett के वैल्यूएशन इंडिकेटर से देश के इक्विटी मार्केट को मिल रही चेतावनी, जानिए क्या है मामला  

मर्केट में स्टॉक्स के अधिक वैल्यूएशन का संकेत मिल रहा

मर्केट में स्टॉक्स के अधिक वैल्यूएशन का संकेत मिल रहा

देश के इक्विटी मार्केट का वैल्यूएशन मशहूर इनवेस्टर वॉरेन बफेट के एक इंडिकेटर के लिहाज से बहुत अधिक है. इस इंडिकेटर में मार्केट कैपिटलाइजेशन की तुलना ग्रॉस डोमेस्टिक प्रोडक्ट (GDP) रेशो का इस्तेमाल किया जाता है.

  • Share this:

    मुंबई. देश के इक्विटी मार्केट का वैल्यूएशन मशहूर इनवेस्टर वॉरेन बफेट (Warren Buffett) के एक इंडिकेटर के लिहाज से बहुत अधिक है. इस इंडिकेटर में मार्केट कैपिटलाइजेशन की तुलना ग्रॉस डोमेस्टिक प्रोडक्ट (GDP) रेशो का इस्तेमाल किया जाता है. यह रेशो अपने कई वर्षों के एवरेज से काफी अधिक है. बफेट ने कहा था कि यह वैल्यूएशन का लेवल जानने के लिए एक बहुत अच्छा तरीका है.

    ब्रोकरेज फर्म मोतीलाल ओसवाल सिक्योरिटीज लिमिटेड ने बताया कि यह अभी 104 प्रतिशत पर है जो 79 प्रतिशत के एवरेज से कहीं अधिक है. एनालिस्ट्स का कहना है कि इससे देश में स्टॉक्स के अधिक वैल्यूएशन का संकेत मिल रहा है. हालांकि, इसमें इकोनॉमी में आगामी महीनों में होने वाली रिकवरी को शामिल किए जाने की संभावना है.

     स्टॉक मार्केट में बहुत अधिक तेजी
    देश की GDP ग्रोथ में सुधार हो रहा है लेकिन स्टॉक मार्केट में बहुत अधिक तेजी आने से यह रेशो बढ़े हुए स्तर पर रह सकती है. एनालिस्ट्स ने कहा कि कॉरपोरेट रिजल्ट्स में सुधार होने में देरी और कोरोना की तीसरी लहर आने की आशंका स्टॉक मार्केट में तेजी पर रोक लगाने वाले कारण बन सकते हैं.

    यह भी पढ़ें- Vijaya Diagnostic IPO अगले सप्ताह खुलेगा, निवेश करने से पहले जान लीजिए जरूरी बातें

    स्टॉक मार्केट में वैल्यूएशंस में उच्च स्तर से कुछ कमी आई है लेकिन अधिकतर इमर्जिंग मार्केट्स की तुलना में यह अभी भी ज्यादा है. अमेरिकी फेडरल रिजर्व के राहत पैकेज में कटौती करने, डॉलर की मजबूती, हाल में कुछ IPO की कमजोर लिस्टिंग से स्टॉक मार्केट में इनवेस्टर्स की दिलचस्पी कुछ कम हो सकती है.

    आईपीओ मार्केट में रिकॉर्ड तेजी 
    इस साल रिकॉर्ड संख्या में आईपीओ आ रहे हैं. साथ ही रिकॉर्ड फंड भी जुटा रहे हैं. एक अनुमान के मुताबिक इस साल एक लाख करोड़ रुपए से ज्यादा फंड आईपीओ के जरिए कंपनियां जुटाएंगी. अब तक इस साल के पहले चार महीनों में लगभग 40 आईपीओ लिस्ट हो चुके हैं.

    मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड (एमओएफएसएल) के ब्रोकिंग और वितरण कारोबार के मुताबिक पिछले पूरे साल के 5.1 लाख के मुकाबले वित्त वर्ष 22 के केवल पहले चार महीनों में 5.7 लाख निवेशक क्लाइंट (ग्राहकों) ने आईपीओ को सब्सक्राइब किया. एमओएफएसएल ने बताया कि निवेशकों के निवेश में कई गुना वृद्धि 17 आईपीओ में किए गए निवेश पर आधारित है. पिछले वित्त वर्ष में ऐसे आईपीओ की संख्या 36 थी. कुल आईपीओ ग्राहकों में से करीब दो तिहाई ग्राहक मुख्य तौर पर गुजरात, राजस्थान और महाराष्ट्र से हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज