लाइव टीवी

दुनिया के सबसे बड़े निवेशक वॉरेन बफे ने कहा- 'नहीं है कोरोना वायरस से डरने की जरूरत', यहां बनेगा पैसा

News18Hindi
Updated: February 26, 2020, 12:15 PM IST
दुनिया के सबसे बड़े निवेशक वॉरेन बफे ने कहा- 'नहीं है कोरोना वायरस से डरने की जरूरत', यहां बनेगा पैसा
दिग्‍गज निवेशक वॉरेन बफे का मानना है कि कोरोना वायरस का शेयरों पर कोई असर नहीं पड़ेगा. उन्होंने ये भी कहा कि इसके चलते डर का माहौल है. इस डर के बावजूद यह शेयरों को बेचने का समय नहीं है.

दिग्‍गज निवेशक वॉरेन बफे का मानना है कि कोरोना वायरस का शेयरों पर कोई असर नहीं पड़ेगा. उन्होंने ये भी कहा कि इसके चलते डर का माहौल है. इस डर के बावजूद यह शेयरों को बेचने का समय नहीं है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 26, 2020, 12:15 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिग्‍गज निवेशक वॉरेन बफे (Wareen Buffet) का मानना है कि कोरोना वायरस (Corona Virus) का शेयरों पर कोई असर नहीं पड़ेगा. उन्होंने ये भी कहा कि इसके चलते डर का माहौल है. इस डर के बावजूद यह शेयरों को बेचने का समय नहीं है. सीएनबीसी के साथ इंटरव्‍यू में बर्कशायर के सीईओ ने तमाम विषयों पर खुलकर बातचीत की. कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप पर बफे ने इस 'डराने वाला' बताया. हालांकि, उन्‍होंने यह भी कहा कि इससे उनके शेयरों को चुनने पर असर नहीं पड़ेगा. वह बोले कि मुझे नहीं लगता कि इससे आपकी शेयरों की खरीद-फरोख्‍त पर कोई असर पड़ेगा.

महामारी से लंबी अवधि के आउटलुक में कोई बदलाव नहीं आया है. महामारी के डर के बावजूद यह शेयरों को बेचने का सही समय नहीं है. उन्‍होंने कहा कि 10 से 20 साल की अवधि को ध्‍यान में रखकर अच्‍छी कंपनियों पर फोकस करने वाले निवेशकों को कोई फर्क नहीं पड़ेगा. वे शेयर बाजार में अच्‍छा ही करेंगे.

1 जून से आपके पड़ोस वाली हलवाई दुकान पर भी लागू होंगे मिठाई बेचने के नए नियम!



नहीं भरोसा क्रिप्‍टो करेंसी पर: बफे



बफे में इंटरव्‍यू ने कहा कि क्रिप्‍टो करेंसी में उनकी कोई दिलचस्‍पी नहीं है. उन्‍होंने बताया कि उनके पास क्रिप्‍टोकरेंसी नहीं है. न ही भविष्‍य में कभी होगी. उन्‍होंने कहा कि किप्‍टोकरेंसी में बुनियादी रूप से कोई वैल्‍यू नहीं है. वे कुछ पैदा नहीं करती हैं. बफे दुनिया के सबसे बड़े डिजिटल कॉइन बिट कॉइन की लगातार आलोचना करते रहे हैं.

बफे ने यह भी बताया कि उन्होंने अपना पुराना फीचर फोन बदल लिया है. इसकी जगह उन्‍होंने नया आईफोन लिया है. बफे ने कहा कि मेरा फ्लिप फोन अब जा चुका है. नंबर बदल गए हैं. उन्‍होंने हल्‍के-फुल्‍के अंदाज में यह भी कहा कि अगर वह ऐसा नहीं करते तो मई में बर्कशायर हैथवे की आगामी बैठक में इसे तोड़ देते. माना जाता है कि बफे जानबूझकर स्‍मार्टफोनों से दूर रहते हैं. बजाय इसके वह हाल तक सैमसंग का फ्लिप फोन इस्‍तेमाल करते रहे हैं.

किसान क्रेडिट कार्ड: 20 हजार बैंक शाखाओं में मिलेगा किसानों को 3 लाख का तोहफा!

दुनिया की सबसे मूल्‍यवान कंपनियों में है बफे की कंपनी
हैथवे अमेरिका की सबसे मूल्‍यवान कंपनियों में से एक है. इसकी हैसियत 560 अरब डॉलर से ज्‍यादा है. बफे की कंपनी की कई ब्‍लूचिप कंपनियों में खासी बड़ी हिस्‍सेदारी है. इनमें एप्‍पल, बैंक ऑफ अमेरिका (बीएसी), कोका-कोला (सीसीईपी) और अमेरिकल एक्‍सप्रेस (एएक्‍सपी) शामिल हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इनोवेशन से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 26, 2020, 12:05 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading