होम /न्यूज /व्यवसाय /अब शेयर बाज़ार में शुरू हुई पानी की ट्रेडिंग, जानिए इसके बारे में सबकुछ

अब शेयर बाज़ार में शुरू हुई पानी की ट्रेडिंग, जानिए इसके बारे में सबकुछ

गाजियाबाद में बोतल बंंद पानी जांच में खराब निकला-सांकेतिक तस्वीर

गाजियाबाद में बोतल बंंद पानी जांच में खराब निकला-सांकेतिक तस्वीर

अमेरिका के शेयर बाजार (Wall Street) में कमोडिटी की तरह अब पानी की भी ट्रेडिंग शुरू हो गई है. इसके लिए एक खास इंडेक्स भी ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्ली. कीमती धातुओं और कच्चे तेल की तरह ही अब पानी की ट्रेडिंग भी कमोडिटी मार्केट (Commodity Market) में शुरू हो गई है. पानी की कमी को देखते हुए वॉल स्ट्रीट (Wall Street) पर इसकी ट्रेडिंग (Water Trading) शुरू की गई है. इसका मतलब है कि किसान, निवेशक और नगर पालिका पानी की ट्रेडिंग कर सकेंगे. दुनियाभर में पानी एक ऐसा रिसोर्स बनता जा रहा है, जिसकी कमी लगातार बढ़ा रही है. संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक, साल 2050 तक दुनियाभर में पानी की कमी से करीब 5 अरब लोग प्रभावित होंगे. अमेरिका के शिकागो स्थिति सीएमई ग्रुप ने इस वॉटर ट्रेडिंग कॉन्ट्रैक्ट (Water Trading Contract) को लॉन्च किया है. एक रिपोर्ट में बताया गया है कि इस ग्रुप ने कैलिफोर्निया के 1.1 अरब डॉलर के स्पॉट मार्केट का करार किया है.

    शुरू हो चुकी है पानी ट्रेडिंग
    अमेरिका के कई इलाकों में बढ़ती गर्मी और जंगलों में आग लगने के बाद कैलिफोर्निया करीब 8 साल के सूखे से गुजर रहा था. इसी को देखते हुए सितंबर महीने में ही वॉटर ट्रेडिंग शुरू किए जाने का ऐलान किया गया. पिछले कुछ साल में कैलिफोनिर्या में पानी के दाम में कई गुना इजाफा हुआ है. बीते सप्ताह 7 दिसंबर को इसी ट्रेडिंग शुरू कर दी गई है.

    यह भी पढ़ें: कल से 24 घंटे मिलेगी बैंक की ये सर्विस, घर बैठे ही सबसे तेजी से भेज सकेंगे बड़ी रकम

    तय हो चुका है वॉटर इंडेक्स
    कैलिफोर्निया स्पॉट वॉटर के आधार पर सीएमई ग्रुप (CME Group) कॉन्ट्रैक्ट जारी करेगी. इसके लिए एक इंडेक्स भी तैयार कर लिया गया है, जिसका नाम रखा NQH2O गया है. सीएमई ग्रुप का कहना है कि नये अग्रीमेंट से पानी की कमी के प्रबंधन में मदद मिलेगी.




    अमेरिका में हर रोज 332 बिलियन गैलन पानी की खपत
    बता दें कि चीन के बाद अमेरिका ही दुनिया में सबसे ज्यादा पानी की खपत करता है. संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक, कई देशों में करीब 2 अरब लोग ऐसे है, जो हर रोज पानी की कमी की समस्या से जूझते हैं. अमेरिका में हर रोज करीब 332 बिलियन गैलन पानी की खपत होती है.

    यह भी पढ़ें: 1 जनवरी से बदल जाएगा आपके डेबिट और क्रेडिट कार्ड से जुड़ा यह नियम, पढें इसकी पूरी जानकारी

    धरती पर करीब 71 फीसदी हिस्सा यानी करीब 326 ​मिलियन ट्रिलियन गैलन पानी ही है. लेकिन, इसमें से 96.5 फीसदी पानी समुद्र में पाया जाता है. धरनी पर केवल 3.5 फीसदी पानी ही फ्रेश वॉटर है. इसमें से 69 फीसदी ग्लेसियर के रूप में है. अन्य 30 फीसदी पानी जमीन के अंदर है. इस प्रकार 1 फीसदी पानी यानी 114 मिलियन बिलियन गैलन पानी से ही पूरी दुनियाभर में कृषि, औद्योगिक और आवासीय काम चलता है.

    Tags: Business news in hindi, USA share market, Water

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें