• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • #IndiaWantsCrypto: निश्चल शेट्टी पिछले 1,000 दिन से चला रहे कैंपेन, पढ़ें अब तक की पूरी कहानी

#IndiaWantsCrypto: निश्चल शेट्टी पिछले 1,000 दिन से चला रहे कैंपेन, पढ़ें अब तक की पूरी कहानी

क्रिप्टो एक्सचेंज WazirX के फाउंडर और सीईओ निश्चल शेट्टी (Nischal Shetty).

क्रिप्टो एक्सचेंज WazirX के फाउंडर और सीईओ निश्चल शेट्टी (Nischal Shetty).

#IndiaWantsCrypto: WazirX को मार्च 2018 में तीन युवा तकनीकी उद्यमियों निश्चल शेट्टी, समीर म्हात्रे और सिद्धार्थ मेनन द्वारा लॉन्च किया गया था.

  • Share this:

    नई दिल्ली. क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) को लेकर देशभर में चर्चा गर्म है. निवेशकों में खासकर युवाओं में इसको लेकर उत्साह है. उत्साह हो भी क्यों न डिजिटल करेंसी ने पिछले एक साल में गजब का प्रदर्शन किया है. इसके अलावा निवेशकों को यह इसलिए भी पसंद आ रहा है क्योंकि क्रिप्टोकरेंसी रातोंरात लोगों को अमीर बना रहा है. हालांकि, इसमें काफी जोखिम है. बावजूद भारत समेत दुनियाभर के निवेशकों में क्रेज है. भारतीय निवेशक क्रिप्टोकरेंसी में निवेश के लिए क्रिप्टो एक्सचेंज वजीर एक्स (WazirX) का सबसे ज्यादा इस्तेमाल करते हैं.

    तीन युवाओं ने मिलकर बनाया था WazirX
    WazirX को मार्च 2018 में तीन युवा तकनीकी उद्यमियों निश्चल शेट्टी, समीर म्हात्रे और सिद्धार्थ मेनन द्वारा लॉन्च किया गया था. इसकी स्थापना के तीन हफ्तों के भीतर ही खबर आई कि भारत में क्रिप्टोकरेंसी पर प्रतिबंध लग सकता है, जो कि न सिर्फ निवेशकों के लिए झटका था बल्कि क्रिप्टो एक्सचेंज के उद्यमियों के लिए भी बड़ा झटका था. दरअसल, 2018 में RBI ने क्रिप्टोकरेंसी को लेकर एक सर्कुलर जारी किया था. इसमें RBI ने सभी वित्तीय संस्थानों से क्रिप्टोकरेंसी से जुड़ी सेवा प्रदान करने पर रोक लगा दी थी. RBI की ओर से रोक लगाने के बाद यह मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा था. बावजूद कदम पीछे करने की बजाय निश्चल शेट्टी अपने साथियों के साथ इसपर इनोवेशन करना शुरू कर दिया. आए दिन वजीर एक्स अपने क्रिप्‍टो-एक्‍सचेंज (Crypto-Exchange)प्लेटफाॅर्म पर खरीद-फरोख्‍त को आसान बनाने के लिए नई-नई सुविधाएं जोड़ रहे हैं. जो न सिर्फ ट्रेडिंग को आसान बनाता है बल्कि पारदर्शिता को भी बनाए रखता है. यही वजह है कि आज के समय में WazirX भारत के सबसे बड़े क्रिप्टो एक्सचेंज (Crypto Exchange) में शुमार है. वजीर एक्स ने हाल ही में नया पीयर-टू-पीयर क्रिप्टोक्यरेंसी ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म लॉन्च किया है.

    क्रिप्टो इंडस्ट्री को बढ़ावा देना है मकसद
    1 नवंबर, 2018 को, WazirX के सीईओ निश्चल शेट्टी (WazirX CEO Nischal Shetty ) ने ट्विटर पर #IndiaWantsCrypto नामक एक अभियान शुरू किया था. इस अभियान के तहत, निश्चल ने हर दिन एक ट्वीट पोस्ट करना शुरू किया, जिसमें दिलचस्प तथ्यों (interesting facts ) से लेकर क्रिप्टोकरेंसी के बारे में यूनिक जानकारियां तक शामिल होते हैं. उनका मकसद क्रिप्टो की दुनिया में लोगों के बीच जागरूकता पैदा करना है. साथ ही सरकार तक इस बात को पहुंचाना है कि क्रिप्टोकरेंसी किस तरह भारतीय अर्थव्यस्था के लिए भी लाभदायक है. इस इंडस्ट्री से हजारों नौकरियां पैदा होंगी.

    ये भी पढ़ें- ₹2 करोड़ जीतने का आखिरी मौका, 31 जुलाई है लास्ट डेट, फटाफट चेक करें क्या करना होगा?

    निश्चल शेट्टी लगातार चला रहे हैं मुहिम
    निश्चल शेट्टी ने अपने पहले ट्वीट में, तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली और प्रधानमंत्री कार्यालय (Prime Minister’s Office) को टैग करते हुए सरकार से क्रिप्टोकरेंसी के लिए सकारात्मक रेगुलेशन लाने का आग्रह किया था. शेट्टी का कहना है कि यह भारत के युवाओं के लिए पैसे कमाने का नया तरीका है और यह महत्वपूर्ण इसलिए भी है कि इससे हजारों नौकरियां पैदा होंगी, क्योंकि सभी के लिए पर्याप्त नौकरियां नहीं है. शेट्टी ने अपने फाॅलोवर्स से मंत्रियों, मीडियाकर्मियों, क्रिप्टो निवेशकों समेत अन्य व्यक्ति को टैग करने का भी आग्रह किया था.
    बता दें कि 100 दिन बाद ही निश्चल का #IndiaWantsCrypto पर 1.5 मिलियन इंप्रेशन रिकॉर्ड दर्ज किए गए थे. उन्होंने फिर लिखा था कि हमें जवाब मिलने तक हमें हर दिन अपने मंत्री को ट्वीट करने की जरूरत है. जितना अधिक हम ट्वीट करते हैं, उतनी ही अधिक हमारी आवाज सुनी जाती है. क्रिप्टो को लेकर भारत में पाॅजिटिव रेगुलेशन जारी किया जा सकता है.

    लगातार ट्वीट के बाद जगी उम्मीद
    शेट्टी यही नहीं रूके उन्होंने 20 मई, 2019 को करीब 200 दिन के बाद फिर लिखा, “हमें अभी तक अपने मंत्रियों से जवाब सुनना बाकी है. इसी दिन NDA सरकार सत्ता में वापस आई थी. हालांकि, 300 दिन के बाद भी किसी भी सांसद की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई थी. इसके बाद 303 दिन के बाद राजीव चंद्रशेखर, जिन्हें बाद में कौशल विकास और उद्यमिता और इलेक्ट्रॉनिक्स व सूचना प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री नियुक्त किया गया था उन्होंने शेट्टी को सीधे संदेश के माध्यम से उनसे संपर्क करने के लिए कहा.

    शेट्टी बार-बार कर रहे थे ट्वीट
    करीब 365 दिन के बाद 1 नवंबर 2019 तक शेट्टी के इस अभियान को एक लाख से अधिक रीट्वीट और लाइक मिल चुके थे. शेट्टी ने फिर ट्वीट किया और लिखा “हम कुछ कारोबारियों से मिले हैं, लेकिन हमें अभी तक अपने PM (प्रधानमंत्री) और FM (वित्त मंत्री) से कोई जवाब नहीं मिला है.” उसी समय, सुप्रीम कोर्ट भारत में क्रिप्टोकरेंसी के RBI के प्रभावी प्रतिबंध की वैधता पर एक मामले की सुनवाई कर रहा था.

    ये भी पढ़ें- खुशखबरी: Paytm 35 हजार रुपये की सैलरी पर 20 हजार अंडरग्रेजुएट्स को करेगी हायर, जानें कैसे करें आवेदन 

    सुप्रीम कोर्ट के फैसले से मिली राहत
    489 दिन बाद साल 2020 में सुप्रीम कोर्ट ने 2018 के RBI सर्कुलर को रद्द कर दिया. कोर्ट ने RBI की ओर से लगाए गए प्रतिबंध को खारिज करते हुए क्रिप्टोकरेंसी में लेनदेन को मंजूरी दे दी थी. सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से क्रिप्टोकरेंसी पर एक कानून लाने का भी आग्रह किया. इसके बाद भारत के एक आम क्रिप्टो निवेशक, श्रीकर पाराशर ने RBI कार्यालय के सामने एक पोस्टर के साथ खड़ा हुआ जिसमें हैशटैग #IndiaWantsCrypto और ‘We Won’ लिखा था. बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद भारत में क्रिप्टोकरेंसी में कारोबार हो रहा है.

    बजट में क्रिप्टो को लेकर चर्चा
    इसके बाद 1 फरवरी, 2021 को जब बजट पेश किया गया. उसमें सरकार ने ‘द क्रिप्टोकरेंसी एंड रेगुलेशन ऑफ ऑफिशियल डिजिटल करेंसी बिल-2021’ नाम का एक बिल पेश किया, जिसमें कुछ को छोड़कर “भारत में सभी निजी क्रिप्टोकरेंसी को प्रतिबंधित करने” और “क्रिप्टोकरेंसी की अंतर्निहित तकनीक को बढ़ावा देने के लिए” एक केंद्रीय बैंक डिजिटल मुद्रा शुरू करने की मांग की गई थी. RBI की ओर से पेमेंट सिस्टम्स को लेकर एक बुकलेट जारी की गई थी. इस बुकलेट में कहा गया था कि केंद्रीय बैंक नई डिजिटल करेंसी या रुपए के डिजिटल वर्जन को क्रिप्टोकरेंसी का दर्जा देने की संभावनाएं तलाशेगा.

    निर्मला सीतारमण बैन के पक्ष में नहीं..
    बता दें कि सांसदों से सकारात्मक प्रतिक्रिया मिलने के बाद शुरू किया गया यह अभियान अब तक की सबसे बड़ी सफलता है. इसके बाद CNBC-TV18 इंडिया बिजनेस लीडर अवार्ड्स में, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने क्रिप्टोकरेंसी को लेकर साकारात्मक संकेत दिए. उन्होंने कहा हम यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि क्रिप्टो दुनिया में होने वाले सभी प्रकार के प्रयोगों के लिए एक विंडो उपलब्ध हो. निर्मला सीतारमण साफ कर चुकी हैं कि सरकार की योजना क्रिप्टो करेंसी पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाने की नहीं है.

    ये भी पढ़ें- 5 रुपये के शेयर ने किया कमाल, निवेशक हुए मालामाल! साल भर में ₹1 लाख बन गए ₹35.30 लाख, आज भी है तेजी

    अब मिली बड़ी सफलता..
    निश्चल के पहले ट्वीट के करीब 995 दिन बाद यह खबर आई कि भारत में डिजिटल करेंसी वास्तविकता बन सकती है. दरअसल, कुछ दिन पहले ही RBI के डिप्टी गवर्नर टी रविशंकर ने संकेत दिया है कि भारत में आरबीआई खुद की सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC) लाने पर विचार कर रहा है. आरबीआई के डिप्टी गवर्नर टी रबिशंकर ने कहा कि आरबीआई भारत में डिजिटल मोनेट्री एसेट (डिजिटल मौद्रिक संपत्ति) को चरणबद्ध योजना के तहत लाने की रणनीति पर काम कर रहा है.
    बहरहाल, अब शेट्टी ने ट्वीट किया कि इस निर्णय से भारत में क्रिप्टोकरेंसी के बारे में जागरूकता और समझ फैलाने में मदद मिलेगी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज