लाइव टीवी

वेडिंग इंश्योरेंस में मिलता है शादी कैंसल होने से लेकर जेवर चोरी होने तक का क्लेम, आइए जानें इससे जुड़े सभी सवालों के जवाब

Himani Gupta | News18Hindi
Updated: December 14, 2019, 11:59 PM IST
वेडिंग इंश्योरेंस में मिलता है शादी कैंसल होने से लेकर जेवर चोरी होने तक का क्लेम, आइए जानें इससे जुड़े सभी सवालों के जवाब
शादी पर होने वाले खर्च से लेकर खुद को भी सुरक्षित कर सकते हैं

शादी कैंसल होने पर, आपके जेवर चोरी होने पर, शादी के अचानक बाद एक्‍सीडेंट होने पर वेडिंग इंश्‍योरेंस की सहायता से आप सुरक्षा लें सकते हैं. ऐसा करने से आप शादी में होने वाले खर्च से थोड़ा बच सकते हैं. आइए जानें वेडिंग और मैरिज इंश्योरेंस से जुड़े सभी सवालों के जवाब.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 14, 2019, 11:59 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. आपने अब तक कार, हेल्थ और कंपनियों के इंश्योरेंस के बारे में सुना होगा. लेकिन भारत में अब वेडिंग इंश्योरेंस (Wedding Insurance) की शुरुआत भी हो गई है. देश की कई बड़ी और जानी-मानी इंश्योरेंस कंपनियां वेडिंग इंश्योरेंस करती है. वेडिंग इंश्योरेंस से जुड़े कई सवालों को जानने के लिए हम वित्तीय सलाह के पास गए तो उन्होंने मुस्कराते हुए कहा कि यूं शादी में कोई गड़बड़ी नहीं हो इसकी बहुत तैयारी की जाती है, लेकिन इसके बावजूद कई चीजें ऐसी होती है जिन पर इंसान का रोल नहीं होता. जैसे कई बार सुनने में आता है मौसम ख़राब होने की वजह से शादी कैंसिल करनी पड़ी है. ऐसे हालातों में लोगों के पैसे लाखों रुपए ख़राब हो जाते हैं, जो किसी आम आदमी के लिए भारी नुकसान होता है.

आइए जानें वेडिंग इंश्योरेंस (Wedding Insurance or Marriage Insurance) से जुड़े सभी सवालों के जवाब....

सवाल- आखिर क्यों वेडिंग इंश्योरेंस पॉलिसी लेना जरूरी है?
जवाब- वित्तीय सलाहकार कहते हैं कि शादी कैंसल होने पर, आपके जेवर चोरी होने पर, शादी के अचानक बाद एक्‍सीडेंट होने पर वेडिंग इंश्‍योरेंस की सहायता से आप सुरक्षा लें सकते हैं. ऐसा करने से आप शादी में होने वाले खर्च से थोड़ा बच सकते हैं.

बि‍ना डॉक्यूमेंट बनवा सकते हैं अपना Aadhaar कार्ड! UIDAI के नए नियम जारी

सवाल- वेडिंग इंश्योरेंस में किन चीजों का इंश्योरेंस होता है?
जवाब-वैसे तो कुछ इंश्योरेंस कंपनियां शादी के लिए पहले से पैकेज तैयार करके रखती हैं, लेकिन कुछ कंपनियां आपकी जरूरत के मुताबिक भी पैकेज बनाती हैं. ये आपके ऊपर निर्भर करता है कि आप किस तरह का पैकेज लेना चाहते हैं. चलिए आपको बताते हैं क्या-क्या शामिल हो सकता है इस कवर में..>> केटरर को दिया गया एडवांस
>>  शादी के लिए बुक किए हुए किसी हॉल या रिसॉर्ट के एडवांस पैसे
>>  ट्रैवल एजेंसियों को दिया गया एडवांस
>>  होटल की एडवांस बुकिंग पेमेंट
>>  शादी के कार्ड छपने पर दी गई पेमेंट
>>  सजावट और म्यूजिक के लिए
>>  शादी के वेन्यू सेट से लेकर अन्य सजावट

सवाल- कौन से कंपनियां वेडिंग इंश्योरेंस करती है?
जवाब-भारत में आईसीआईसीआई लोम्‍बार्ड, फ्यूचर जनराली, एचडीएफसी अर्गो, बजाज ऑलियांज जनरल इंश्योरेंस जैसी कंपनियां वेडिंग इंश्योरेंस देती हैं.



सवाल- कितना मिल सकता है क्लेम?
जवाब-वेडिंग इंश्योरेंस का सम एश्‍योर्ड इस बात पर तय होता है कि आपने कितने का बीमा कराया है. ध्यान दें कि शादी की तारीख बदलने पर भी आप दावा क्लेम कर सकते हैं. वैसे तो प्रीमियम आपके इंश्योर्ड राशी से सिर्फ 0.7 फीसदी से लेकर 2 फीसदी तक ही लगता है. उदाहरण के तौर पर अगर आपने 10 लाख रुपए का वेडिंग इंश्योरेंस कराया है तो आपको 7,500 से 15,000 रुपए तक का प्रीमियम देना होता है.

सवाल-कौन सी चीजें वेडिंग इंश्योरेंस में कवर नहीं होती हैं?
जवाब-पॉलिसी होल्डर कुछ परिस्थितियों में पैसे क्लेम नहीं कर सकते. जानिए वो कौनसे मुख्य कारण हैं जिनकी वजह से आप क्लेम के लिए अप्लाई नहीं का सकते..
>> किसी भी तरह का आकंतकवादी हमला
>> हड़ताल
>> शादी का अचानक से कैंसल हो जाना
>> दूल्हे या दुल्हन का किडनैप हो जाना
>> शादी में दूल्हा या दुल्हन के खुद की गलती से फ्लाइट या ट्रेन का मिस हो जाना
>> शादी के कपड़े या किसी पर्सनल चीजों का नुकसान होना
>> शादी के वेन्यू का अचानक से बदल देना या कैंसल होना
>> किसी भी तरह से इलेक्ट्रिकल या मैकेनिकल खराबी की वजह से
>> शादी के वेन्यू की गलत देखरेख से हुआ नुकसान
>> खुद को जानबूझकर किसी तरह का नुकसान पहुंचाना या आत्महत्या करना

बेकार हो जाएगा आपका PAN कार्ड! अगर 31 दिसंबर तक नहीं कराया ये काम

सवाल- इंश्योरेंस के पैसों को क्लेम करने का क्या तरीका है?
जवाब-इंश्योरेंस लेने से पहले हमेशा ध्यान रखें कि शादी के खर्च से पहले से लेकर शादी के लोकेशन की सारी जानकारी इंश्योरेंस एजेंसी को देनी होती है.
>> जैसे ही आपको नुकसान हो अपने इंश्योरेंस कंपनी को तुरंत सूचित करें.
>> अपने चोरी हुई चीजों की जानकारी पुलिस को दें और एफआईआर की कॉपी इंश्योरेंस कंपनी को सौंपे.
>> क्लेम करने के लिए फॉर्म भरें और उसे अपने सभी कागज़ात के साथ जमा करें.
>> आपकी इंश्योरेंस कंपनी से जांच पड़ताल के लिए रिप्रजेंटेटिव भेजकर पूरी जानकारी ली जाएगी और उसके बाद ही क्लेम किए हुए पैसे वापस मिलेंगे.
>> अगर आपका किया हुआ क्लेम सही साबित होता है तो नुकसान की पूरी भरपाई बीमा कंपनी करेगी गलत होने पर क्लेम की हुई राशी की भरपाई नहीं होगी और क्लेम रिजेक्ट हो जाएगा.
>>इंश्योरेंस कपंनी अगर चाहे तो सीधे शादी के वेन्यू या वेंडर को पैसे दे सकती है.
>>अगर किसी भी तरह से पॉलिसी होल्डर क्लेम की हुई राशी से खुश नहीं होता है तो वो सीधे कोर्ट जाकर अपने मामले को रख सकता है.
>>किसी भी सूरत में वेडिंग इंश्योरेंस क्लेम दुर्घटना होने के 30 दिनों के अंदर सेटल होती है.

सवाल-आखिरी कौन सी ऐसी बातें है जिनका ख्याल रखना बेहद जरूरी है?
जवाब-बीमा लेते समय ये ध्यान से की पॉलिसी के तहत क्‍या-क्‍या कवर किया जाएगा.अगर पहले से कोई बीमा कवर है तो पहले पता करें कि कवर आपको किन हालातों में मिलेगा.  ध्यान दें कि प्राथमिक पॉलिसी कवर में वेडिंग समारोह रद्द होना भी शामिल हो.किसी भी तरह की दुर्घटना जैसे आग लगना या फिर चोरी होने के लिए आप अलग से पॉलिसी ले सकते हैं.

SBI की खास सर्विस! ATM से जितनी बार भी चाहें बिना चार्जेस निकालें पैसे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 14, 2019, 11:59 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर