मेडिकल स्टोर्स के अलावा किराना दुकान और पेट्रोल पंप पर भी खरीदी जा सकेंगी दवाएं!

सीएनबीसी आवाज़ को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक, ओवर द काउंटर (OTC) बिकने वाली दवाएं अब सुपर मार्केट्स, एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन, पेट्रोलपंप और किराने की दुकानों पर भी खरीदी जा सकेंगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 28, 2019, 12:15 PM IST
  • Share this:
फार्मा कंपनियों के लिए बाजार का दायरा बढ़ाने की तैयारियां तेज हो गई हैं. उन्हें कई नामी ब्रांड्स के‌ विज्ञापन और रिटेल मार्केटिंग की इजाजत भी मिल सकती है. मौजूदा कानून के तहत ऐसा करना गैरकानूनी है. सीएनबीसी आवाज़ को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक, ओवर द काउंटर (OTC) बिकने वाली दवाओं की परिभाषा तय होगी. कौन सी दवाइयां बिना डॉक्टरी प्रिसक्रिप्शन के मिल सकेगी, इसे लेकर सरकार नई गाइडलाइंस बनाने जा रही है.

आपको बता दें कि देश ‌में OTC की कोई परिभाषा तय नहीं है. OTC की आड़ में मनमानी करते हैं कई केमिस्ट मनमानी करते हैं. पैरासीटामॉल इब्रूफेन एंटासिड, रैंटाडीन, पेंटाप्रोजॉल, डाइजीन, वोवरान,  क्वार्डीडर्म, ब्रोजोडेक्स जैसी दवाएं ओटीसी के तहत आती हैं.

नया प्लान तैयार!
>> केंद्र की मोदी सरकार OTC दवाओं के नाम, डोज, पोटेंसी, लेबलिंग, पैकिंग और संख्या तय करेगी.
>> इस कदम से फार्मा सेक्टर को बड़ी राहत मिलेगी.


>> फार्मा कंपनियों के लिए बाजार का दायरा बढ़ाने की योजना है.
>> सनफार्मा, एबॉट, वॉकहार्ड, डा.रेड्डीज, ल्यूपिन जैसी कंपनियों की बिक्री बढ़ेगी
>> इस कदम से ओवर द काउंटर (OTC) बिकने वाली दवाओं की परिभाषा तय होगी

ये भी पढ़ें-मोदी सरकार का सबसे बड़ा फैसला, इस कंडीशन में पुरुषों को भी मिलेगी 2 साल तक की छुट्‌टी

इन जगहों पर भी मिलेंगी दवा
>> केमिस्ट शॉप जैसे सिंगल सेलिंग प्वाइंट की जगह हर जगह ये दवा मिलेंगी
>> सुपर मार्केट्स, एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन, पेट्रोल पंप्स और किराने की दुकानों पर भी दवा मिलेगी.
>> कई नामी ब्रांड्स के‌ विज्ञापन और रिटेल मार्केटिंग की इजाजत होगाी.

खास पैकेंजिंग में आएगी दवा
>>
मौजूदा कानून के तहत ऐसा करना गैरकानूनी है.
>> कौन सी दवाइयां बिना डॉक्टरी प्रिसक्रिप्शन के मिल सकेगी सरकार की गाइडलाइंस तय करेगी
>> सरकार OTC दवाओं के नाम, डोज, पोटेंसी, लेबलिंग, पैकिंग और संख्या तय करेगी
>> OTC दवाओं की पैकिंग विशेष तरह से की जाएगी
>> डॉक्टरी सलाह के बिना कितने दिन दवा ले सकते हैं यह चेतावनी होगी.
>> OTC दवाओं की पैकिंग में सिर्फ जरूरत के मुताबिक दवा होगी
>> 10 से 15 गोली वाली पैकिंग की जगह तीन से आठ गोली की पैकिंग होगी

ये भी पढ़ें-10 लाख रुपये तक का मुद्रा लोन लेने वाले कर रहे हैं ये 3 गलतियां, ऐसे बचें

ऐसा क्यों- देश में छोटी-मोटी बीमारियों के लिए डॉक्टर के पास जाने के बजाय खुद ही दवा लेने का चलन बढ़ रहा है. अनुमानों के मुताबिक, देश में करीब 76 फीसदी लोग डॉक्टर के पास जाने के बजाय खुद ही दवा खरीदते हैं. इसी चलन को देखते हुए सरकार यह कदम उठाने की सोच रही है.

(प्रतीक श्रीवास्तव, वरिष्ठ संवाददाता, सीएनबीसी आवाज़)

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज