अपना शहर चुनें

States

आपकी किचन का मसाला असली है या नकली, घर में ही यूं करें शुद्धता की पहचान

आपकी किचन का मसाला असली है या नकली, घर में ही यूं करें शुद्धता की पहचान
आपकी किचन का मसाला असली है या नकली, घर में ही यूं करें शुद्धता की पहचान

अच्छे मसाले खाने में स्वाद लाते हैं इसके साथ ही यह किसी बोरिंग से बोरिंग डिश को भी टेस्टी बना देते हैं. मसालों का इस्तेमाल केवल स्वाद के लिए ही नहीं बल्कि सेहद के लिए भी किया जाता है. मसालों में विटामिन, खनिज, एंटीऑक्सिडेंट, आवश्यक तेल, फाइटोन्यूट्रिएंट आदि पाए जाते हैं. जो अच्छे स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 3, 2020, 12:39 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. मसालों (Spices) के बेताज बादशाह कहे जाने वाले महाशय धर्मपाल गुलाटी (Mahashay Dharmpal Gulati)  अब इस दुनिया में नहीं रहे हैं. आज सुबह हार्ट अटैक से उनका निधन हो गया है. लेकिन उनके नाम के साथ मसालों का ज़िक्र होना स्वाभाविक है. मसाले खरीदने के दौरान सबसे बड़ी परेशानी होती है कि वो असली (Pure) हैं या मिलावटी. अगर किसी भी खाने में आप चार मसाले इस्तेमाल कर रहे हैं और उसमे से तीन बहुत बढ़िया हैं और एक अगर मिलावटी है, तो वो एक मसाला पूरे खाने के स्वाद को बिगाड़ देगा. वैसे तो इसका एक सबसे बढ़िया इलाज यह है कि हम खड़े (साबुत) मसाले इस्तेमाल करें, अगर ऐसा नहीं करते हैं तो पिसे मसाले खरीदने के दौरान इन सावधानियों को ज़रूर बरतें.

यह देखकर खरीदें हल्दी पाउडर-जामा मस्जिद के मुकीम पंसारी (मसाले वाले) बताते हैं कि हमेशा प्योर हल्दी हल्के पीले रंग पर होती है. अगर आप बाज़ार से खुली हुई या पैकिंग वाली पिसी हल्दी खरीद रहे हैं और उसका रंग गहरा पीला है तो यह तय मान लिजिए कि वो सौ फीसद मिलावट वाली हल्दी है. इसकी एक और पहचान यह भी है कि इस तरह की हल्दी को पानी में डालिए. अगर पानी में डालते ही हल्दी का रंग जल्दी ही गायब हो जाए तो वो मिलावटी है.

Kisan Andolan: आंदोलन से किसान भी डरे, कहीं दूध-अंडे की सप्लाई न हो जाए ठप्प



मिलावटी धनिया की ऐसे होती है पहचान-मुकीम पंसारी का कहना है कि धानिया में मिलावट के बारे में बहुत सारी बातें सामने आती हैं. लेकिन धानिया में सबसे ज़्यादा जंगली घास पीस कर मिलाई जाती है. सूखने के बाद इस घास का रंग भी धानिए जैसा ही हो जाता है. असली धानिए की खुशबू बहुत तेज होती है. अगर पिसे धानिए से खुशबू नहीं आ रही है या कम आ रही है तो माल लिजिए की वो मिलावटी है.
नमक भी होता है असली-नकली-सभी तरह के मसालों में नमक की अपनी एक अहमियत है. खाना वैज हो या नॉन वैज सभी में नमक का भरपूर इस्तेमाल होता है. लेकिन नमक में मिलावट की वजए उसका आयोडाइज होना या सामान्य नमक है यह चेक किया जाता है. इसे चेक करने का तरीका यह है कि एक आलू को दो हिस्सों में काटकर उस पर नमक लगा दें. नीबू के रस की कुछ बूंदें डाल दें. 10 मिनट बाद चेक करें कि अगर उसका रंग नीला हो जाए तो वो आयोडाइज है, अगर नहीं होता है तो वो सामान्य नमक है.

केसर के बारे में भी मुकीम पंसारी का कहना है कि वैसे तो केसर हर कोई नहीं खरीदता है, लेकिन फिर भी इसकी पहचान आना जरूरी है. असली केसर का बाल हाथ से तोड़ने पर जल्दी नहीं टूटता है. जबकि नकली बाल जल्दी टूट जाता है. केसर में भुटटा के बाल रंग का मिलाए जाते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज