• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • आपराधिक गतिविधियाें के लिए अनुमति देता है क्रिप्टोकरेंसी, इससे छुटकारा पाना ही अच्छाः बिल गेट्स

आपराधिक गतिविधियाें के लिए अनुमति देता है क्रिप्टोकरेंसी, इससे छुटकारा पाना ही अच्छाः बिल गेट्स

बिल गेट्स ने फोन के मामले में अपनी पसंद बताई है.

बिल गेट्स ने फोन के मामले में अपनी पसंद बताई है.

वॉल स्ट्रीट जर्नल के साथ हाल ही में एक साक्षात्कार में गेट्स ने क्रिप्टोकरेंसी और डिजिटल संपत्ति के लिए सीधे ताैर पर एतराज जताया.

  • Share this:

    नई दिल्ली. माइक्रोसॉफ्ट के सह-संस्थापक बिल गेट्स का मानना है कि क्रिप्टोकरेंसी कुछ आपराधिक गतिविधियों के लिए मार्ग प्रशस्त करती है और इससे छुटकारा पाने ही बेहतर हाेगा. मार्केट स्ट्रीट वॉच की रिपोर्ट के अनुसार, वॉल स्ट्रीट जर्नल के साथ हाल ही में एक साक्षात्कार में गेट्स ने क्रिप्टोकरेंसी और डिजिटल संपत्ति के लिए सीधे ताैर पर एतराज जताया.

    क्रिप्टाेकरेंसी काे लेकर भारत सरकार भी अपना कड़ा रूख पहले ही जता चुकी है, वहीं प्रमुख टेक्नोलॉजिस्ट का यह भी मानना है कि क्रिप्टोज को हैकर्स द्वारा दुरुपयोग करने का खतरा है और इसका उपयोग मनी लॉन्ड्रिंग के लिए किया जाता है.

    दो साल पहले सीएनबीसी को दिए एक पुराने साक्षात्कार में बिल गेट्स ने कहा था “मेरे पास बिटकॉइन नहीं है. मैं छोटा बिटकॉइन नहीं हूं, इसलिए मैंने तटस्थ दृष्टिकोण लिया है.” गेट्स ने कहा, “मुझे लगता है कि पैसे को अधिक डिजिटल रूप में ले जाने और लेनदेन की लागत कम होने की संभावना है. 

    ये भी पढ़े – सरकारी अधिकारी और मंत्रियों के लिए अनिवार्य होगी इलेक्ट्रिक गाड़ी! नितिन गडकरी ने दिया सुझाव

    गेट्स, जिनकी कुल संपत्ति $ 123 बिलियन है, ने उन्हें दुनिया का दूसरा सबसे धनी व्यक्ति बना दिया, उनका मानना है कि  “बिटकॉइन केवल उन्माद के आधार पर या नीचे जा सकते हैं या जो भी विचार हैं, और मेरे पास भविष्यवाणी करने का तरीका नहीं है कि कैसे यह प्रगति करेगा. ” गेट्स ने यहां तक कहा कि “एसेट क्लास” के रूप में, आप कुछ भी उत्पादन नहीं कर रहे हैं और इसलिए आपको यह उम्मीद नहीं करनी चाहिए कि यह ऊपर जाएगा. यह एक शुद्ध fool अधिक से अधिक मूर्ख सिद्धांत ’का निवेश है.”

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज