Home /News /business /

what happens if you donot file itr by 31 march for the current assessment year kcnd

ITR Filling : रिटर्न दाखिल करने के लिए बचे हैं सिर्फ चार दिन, नहीं भरने पर जाना पड़ सकता है जेल, जानें पूरी डिटेल्स

टैक्स चोरी के आरोप में टैक्सपेयर्स को तीन महीने से लेकर दो साल तक की जेल हो सकती है.

टैक्स चोरी के आरोप में टैक्सपेयर्स को तीन महीने से लेकर दो साल तक की जेल हो सकती है.

ITR Filling : 31 मार्च 2022 तक अगर टैक्सपेयर्स ने आईटीआर नहीं भरा तो उन्हें काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है. उनके खिलाफ न सिर्फ कारण बताओ नोटिस जारी हो सकता है बल्कि दो साल तक की जेल भी हो सकती है. जुर्माना भी लग सकता है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट (Income Tax Department) ने टैक्सपेयर्स (Taxpayers) को इनकम टैक्स रिटर्न (Income Tax Return-ITR)दाखिल करने के लिए 31 दिसंबर 2021 तक का समय दिया था. इसके बाद टैक्सपेयर्स की सुविधा के लिए आईटीआर भरने की तारीख को बढ़ाकर 31 मार्च 2022 कर दिया. यह एसेसमेंट ईयर 2021-22 के लिए आईटीआर भरने का आखिरी मौका है, जिसके लिए सिर्फ चार दिन बचे हैं.

इस अवधि तक भी अगर टैक्सपेयर्स ने आईटीआर नहीं भरा तो उन्हें काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है. नांगिया एंडरसन एलएलपी के पार्टनर नीरज अग्रवाल का कहना है कि बिलेटेड रिटर्न (Belated Return) को स्वेच्छा (Voluntarily) से आईटीआर भरने का अंतिम अवसर माना जाता है. अगर आप देरी से रिटर्न दाखिल करने की नियत तारीख से चूक जाते हैं तो स्वेच्छा से आईटीआर भरने का मौका खो देते हैं. इसके बाद इसे तभी भर सकते हैं, जब इनकम टैक्स डिपार्टमेंट स्क्रूटनी शुरू करता है.

ये भी पढ़ें- महंगे क्रूड ऑयल की कीमत जनता को ही चुकानी पड़ेगी, पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों में राहत मुश्किल, समझिए कैसे

शुरू हो सकती है जांच

डेलॉय इंडिया के पार्टनर पूर्वा प्रकाश का कहना है कि 31 मार्च 2022 के बाद भी अगर टैक्सपेयर्स रिटर्न नहीं भरते हैं तो सेक्शन 142(1) या 148 के तहत आपके खिलाफ जांच की जा सकती है. 142(1) के तहत कारण बताओ नोटिस जारी भी हो सकता है. आमतौर पर यह वैसे टैक्सपेयर्स पर लागू होता है, जिनकी कमाई न्यूनतम टैक्सेबल इनकम सीमा से कम हो, लेकिन उसके लिए आईटीआर दाखिल करना जरूरी है.

ये भी पढ़ें- अगर आप रखते हैं Credit Card का बैलेंस जीरो तो मार रहे खुद के पांव पर कुल्‍हाड़ी, जानें क्‍यों

भरना पड़ सकता है 200 फीसदी तक जुर्माना

पूर्वा प्रकाश का कहना है कि सेक्शन 148 के तहत नोटिस तब जारी किया जाता है, जब एसेसिंग ऑफिसर मानता है कि आईटीआर दाखिल नहीं करने की वजह से कमाई का पूरी तरह मूल्यांकन नहीं हो सका है. ऐसे मामलों में वह कुल टैक्स का 50 फीसदी से लेकर 200 फीसदी तक जुर्माना लगा सकता है. इसके अलावा, नियत समय पर आईटीआर नहीं भरने पर सेक्शन 234ए के तहत बकाया टैक्स पर हर महीने एक फीसदी ब्याज लगना शुरू हो जाता है.

हो सकती है दो साल जेल की सजा

पूर्वा प्रकाश का कहना है कि आईटीआर दाखिल नहीं करने की वैलिड वजह नहीं होने पर टैक्सपेयर्स के खिलाफ कार्रवाई भी की जा सकती है. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट सेक्शन 276सीसी के तहत कार्रवाई शुरू कर सकता है. टैक्स चोरी के आरोप में टैक्सपेयर्स को तीन महीने से लेकर दो साल तक की जेल हो सकती है. इसके साथ ही जुर्माना भी लगाया जा सकता है.

Tags: Income tax, ITR, ITR filing, Taxpayer

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर