बंद हो चुके बैंक खाते में जमा है आपका भी पैसा तो ऐसे कभी भी निकाल सकते हैं ये रकम

बैंकों में दस साल तक यूं पड़ा हुआ जमा आरबीआई को दे दिया जाता है.

बैंकों में दस साल तक यूं पड़ा हुआ जमा आरबीआई को दे दिया जाता है.

वित्त मंत्रालय ने फरवरी 2021 में एक रिपोर्ट जारी कर यह बताया था कि भारत में इनएक्टिव बैंक खातों में एक-दो लाख नहीं बल्कि 35 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा ऐसा पैसा जमा है, इस पैसे को कोई निकालने आता ही नहीं है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 27, 2021, 4:37 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. अक्सर लोग एक से ज्यादा बैंक अकाउंट (Bank account) रखते हैं. कई बार ये अकाउंट सेविंग्स (Savings) के होते हैं तो कई बार करंट (Current) भी. लेकिन, उनका इस्तेमाल नहीं करते. यदि उन खातों में भी आपके पैसे जमा हों तो उस स्थिति में क्या होगा? यदि आप सोचते हैं कि लंबे समय से ऐसे किसी खाते का इस्तेमाल नहीं करने के चक्कर में उसके इनएक्टिव (inactive) हो जाने पर आपका पैसा डूब जाता है तो ऐसा भी नहीं है. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) की गाइडलाइंस के अनुसार, ऐसे खाते जिनमें दो साल से कोई लेनदेन नहीं है, उन्हें इनएक्टिव जरूर कर दिया जाता है लेकिन यदि उसमें ग्राहक का पैसा है तो वो उसे निकाल सकता है.



फरवरी 2021 में वित्त मंत्रालय ने एक रिपोर्ट जारी कर यह बताया था कि भारत में ऐसे ही इनएक्टिव बैंक खातों में एक-दो लाख नहीं बल्कि 35 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा ऐसा पैसा जमा है, जिसे कोई निकालने आता ही नहीं. इन्हें अनक्लेम्ड डिपॉटिज (Unclaimed Deposits) कहा जाता है. इतना सारा पैसा बैंकों में फिक्स डिपॉजिट (Fixed Deposits) ही नहीं बल्कि सेविंग करंट अकाउट्स (Saving & Current Accounts) में दस साल से ज्यादा के वक्त के बाद भी पड़ा है.  



ये भी पढ़ें- Gold Price Today: सोना के दाम में आया उछाल, चांदी हुई महंगी, फटाफट देखें नए भाव



ऐसे मिल सकता है आपको अपना पैसा
बैकिंग विशेषज्ञ जितेश श्रीवास बताते हैं कि कई लोग एक से ज्यादा बैंक में खाता खुलवाते हैं. जहां उनके 500 से 1000 रुपये तक जमा रहते हैं, लेकिन वो उन्हें यह सोचकर नहीं निकालते हैं कि शायद बैंक ने कई चार्जेज लगाकर पैसा काट लिया होगा. हालांकि, ऐसा सिर्फ उन खातों में होता है, जहां न्यूनतम राशि बैंक में रखना अनिवार्य होती है. अगर मिनिमम बैलेंस रखना अनिवार्य नहीं है तो आप जब चाहें अपना पैसा निकाल सकते हैं. यही नहीं आपको बैंक ब्याज सहित पैसा वापस करेगा. इसके लिए आप बैंक जाकर केवाईसी (KYC) दिखाकर अपना पैसा वापस ले सकते हैं.  



ये भी पढ़ें - घर बैठे बस एक काॅल से चेक करें आधार कार्ड का स्टेटस, बेहद आसान है प्रोसेस



तो आखिर यूं ही पड़ा यह पैसा जाता कहां है




बैंकों में दस साल तक यूं पड़ा हुआ जमा आरबीआई को दे दिया जाता है. आरबीआई इसे अपनी स्कीम डिपॉजिटर एजुकेशन एंड अवेयरनेस फंड (DEAF) में जमा करती है, जिसका मुख्य काम जमाकर्ताओं के हितों को बढ़ावा देने और ऐसे अन्य उद्देश्यों के लिए उपयोग करना होता है. दूसरी तरफ इंश्योरेंस पॉलिसी के पास पड़ा अनक्‍लेम्‍ड अमाउंट मैच्योरिटी के 10 साल बाद भी क्लेम नहीं करने पर केंद्र सरकार की सीनियर सिटिजन वेलफेयर फंड (SCWF) में जमा कर दिया जाता है, जहां से बुजुर्गों की सुविधाएं बढ़ाने के लिए इस राशि को खर्च किया जाता है.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज