देश में नहीं उड़ेंगे बोइंग 737 मैक्स हवाई जहाज! सरकार ने लिया फैसला

बोइंग 737 मैक्स 8 (Boeing 737 MAX 8) विमानों पर नागरिक विमानन मंत्रालय की अहम बैठक खत्म हो गई है. बैठक में फिलहाल बोइंग 737 मैक्स के सभी विमानों पर प्रतिबंध जारी रखने का फैसला हुआ है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 13, 2019, 6:58 PM IST
  • Share this:
बोइंग 737 मैक्स 8 (Boeing 737 MAX 8) विमानों पर नागरिक विमानन मंत्रालय की अहम बैठक खत्म हो गई है. बैठक में फिलहाल बोइंग 737 मैक्स के सभी विमानों पर प्रतिबंध जारी रखने का फैसला हुआ है. इस बैठक में नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA) और सिविल एविएशन मिनिस्टर शामिल थे. आपको बता दें कि इथियोपिया में रविवार को हुए विमान हादसे के बाद नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA) ने बोइंग 737 मैक्स 8 (Boeing 737 MAX 8) विमानों पर रोक लगा दी थी. भारत में इस बैन का सीधा असर स्पाइस जेट और जेट एयरवेज पर पड़ा. स्पाइसजेट के पास बोइंग 737 मैक्स 8 के 12 विमान हैं, जबकि जेट एयरवेज के पास 5 विमान हैं. (ये भी पढ़ें: SBI की ग्राहकों को चेतावनी! इस वॉट्सऐप मैसेज को भूलकर भी ना खोलें, लग सकता है लाखों का चूना)

40% खड़े हुए बोइंग विमान
भारत समेत 45 देशों ने बोइंग 737 मैक्स 8 विमानों पर रोक लगा दी है. रोक लगाने वाले देशों में 28 यूरोप के हैं. यूरोप के 28 देशों के अलावा चीन, ऑस्ट्रेलिया, मैक्सिको, ब्राजील, अर्जेंटीना, इंडोनेशिया, इथोपिया, दक्षिण अफ्रीका, मलेशिया, सिंगापुर, वियतनाम, ओमान, मोरक्को, मंगोलिया और दक्षिण कोरिया ने उड़ान पर रोक लगाई. पूरी दुनिया में अब तक 40% बोइंग 737 मैक्स विमान खड़े कर दिए गए.

आपको बता दें कि बोइंग 737 मॉडल के दुनियाभर में 10 हजार प्लेन इस्तेमाल किए जा रहे हैं. वहीं, एयरबस के ए320 मॉडल के 8000 से ज्यादा विमान इस्तेमाल हो रहे हैं. बोइंग का 737 मैक्स-8 सबसे ज्यादा बिकने वाला पैसेंजर एयरक्राफ्ट है. कंपनी ने 2017 में इसे लॉन्च किया था. यह 50 साल पुराने बोइंग 737 का नया वर्जन है.



ये भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव 2019: आसमान में भी चल रही है एक लड़ाई, BJP ने बुक कराए 60% हेलिकॉप्टर



क्यों बंद हो रहा है बोइंग 737 मैक्स
>> इथियोपिया में प्लेन क्रैश के बाद बोइंग को 777 एक्स मॉडल की लॉन्चिंग रोकनी पड़ी है. यह मैक्स 8 से भी बड़ा विमान है जिसमें 425 यात्री बैठ सकते हैं. इसकी लॉन्चिंग बुधवार को होनी थी. पहले 777 एक्स की डिलिवरी 2020 में होनी थी.
>> चीनी कंपनियां बोइंग 737 मैक्स 8 की सबसे बड़ी कंज्यूमर हैं. देश में इस बोइंग 737 के 97 मॉडल का इस्तेमाल हो रहा है.
>> ये विमान एयर चाइना, चाइना ईस्टर्न और चाइना सदर्न के बेड़े का हिस्सा हैं. तीनों कंपनियों ने मैक्स 8 विमानों का इस्तेमाल फिलहाल रोक दिया है.
>> इंडोनिशिया की विमानन कंपनियों गरुड़ इंडोनेशिया को सरकार से बोइंग मैक्स-8 का अभी इस्तेमाल नहीं करने के निर्देश मिले हैं.
>> गरुड़ एक और लॉयन एयर 10 बोइंग मैक्स-8 का इस्तेमाल करती है.
>> कैरेबियाई कंपनी केयमैन एयरलाइन्स ने अस्थायी तौर पर बोइंग 737 मैक्स को ऑपरेशन्स से हटा लिया है.

भारत में कितने मैक्स बोइंग- भारत में जेट एयरवेज ने मैक्स कैटेगरी के बोइंग के 225 विमानों का ऑर्डर दिया था. इनमें से कुछ की डिलिवरी हो चुकी है. जेट एयरवेज के बेड़े में अभी 8 मैक्स-8 विमान हैं. स्पाइसजेट ने भी 155 मैक्स-8 विमानों समेत 205 बोइंग प्लेन का ऑर्डर दिया है. स्पाइसजेट के पास अभी 13 मैक्स-8 विमान हैं.

(रोहन सिंह, संवाददाता- CNBC आवाज़)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading