Kisan Rail- बेंगलुरु और दिल्ली के बीच 19 सितंबर से चलेगी किसान रेल

Kisan Rail- बेंगलुरु और दिल्ली के बीच 19 सितंबर से चलेगी किसान रेल
किसान रेल 19 सितंबर से लेकर 19 अक्टूबर तक चलेगी.

Indian Railways New Kisan Rail-बेंगलुरू और दिल्ली के बीच ‘किसान रेल’ (Kisan Rail) कर्नाटक से 19 सितंबर से लेकर 19 अक्टूबर तक चलेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 16, 2020, 2:19 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दक्षिण-पश्चिम रेलवे (South Western Railway) 19 सितंबर से बेंगलुरु और दिल्ली के बीच ‘किसान रेल’ (Kisan Rail) चलाएगी. ये ट्रेन 19 सितंबर से लेकर 19 अक्टूबर तक चलेगी. किसान रेल ऐसी ट्रेन है, जिनमें विभिन्न वस्तुओं की ढुलाई होगी. दक्षिण पश्चिम रेलवे ने बताया कि यह ट्रेन मैसुरू, हुबली और पुणे के रास्ते चलेगी. इस ट्रेन को चलाने का फैसला केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा दूध, मांस और मछलियों समेत जल्द खराब होने वाले खाने-पीने के सामान की बिना किसी रुकावट के सप्लाई के लिए 2020-21 के बजट में किया था.

किसान रेल की शुरुआत महाराष्ट्र से बिहार के बीच हुई. भारतीय रेल ने पहली किसान रेल को महाराष्ट्र के देवलाली रेलवे स्टेशन (Devlali Railway Station) से बिहार स्थित दानापुर रेलवे स्टेशन (Danapur Railway Station) तक चलाई. 7 अगस्त को पहली किसान रेल चलाई गई. किसान रेल ने इन दो स्टेशनों के बीच लगभग 1519 किमी का सफर करीब 32 घंटे में तय किया.





किसान रेल की मुख्य बातें
किसान रेल निर्धारित स्थानों के बीच चलेगी और रास्ते में ठहराव होंगे जहां सामानों को उतारने और चढ़ाने की अनुमति होगी.ट्रेन में 10 हाई कैपेसिटी वाले पार्सल वैन, एक ब्रेक कम जेनरेटर कार और एक सेकेंड क्लास लगेज कम ब्रेक वैन होगा. उसमें 12 एलएचबी डिब्बे होंगे.
इस ट्रेन को चलाने का फैसला केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा दूध, मांस और मछलियों समेत जल्द खराब होने वाले खाने-पीने के सामान की बिना किसी रुकावट के सप्लाई के लिए 2020-21 के बजट में किया था.
किसान रेल एक तरह की स्पेशल पार्सन ट्रेन है जिसमे अनाज, फल और सब्जियों के लिए इस्तेमाल किया जाता है.
किसानों की फसलों जैसे अनाज, फल-सब्जी, मीट, मछली को समय से सुरक्षित तरीके से देश के कोने-कोने तक पहुंचाना. पहली किसान ट्रेन 7 अगस्त को महाराष्ट्र से बिहार के बीच चलाई गई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज