Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    Explained : जानिए क्या होता है बाजार पूंजीकरण और फ्री फ्लोट मार्केट कैप

    मार्केट कैप खुले बाजार में किसी कंपनी के मूल्य को आंकने का काम करता है.
    मार्केट कैप खुले बाजार में किसी कंपनी के मूल्य को आंकने का काम करता है.

    मार्केट कैप (Market Capitalization) के जरिए पता लगाया जाता है कि निवेशक अपने स्टॉक के लिए क्या भुगतान करने वाला है. साथ ही साथ निवेशकों को एक कंपनी को दूसरे कंपनी के सापेक्ष आकार को समझाने में मदद करता है.

    • News18Hindi
    • Last Updated: October 19, 2020, 8:51 PM IST
    • Share this:
    नई दिल्ली. आप आए दिन खबरों में पढ़ते या देखते होंगे​ कि किसी कंपनी का बाजार पूंजीकरण घट गया या बढ़ गया. शेयर बाजार से जुड़े या ट्रेडिंग करने वाले लोग तो इस शब्द का मतलब जानते होंगे, लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि इसका क्या मतलब है. अगर आप बाजार पूंजीकरण या मार्केट कैपिटलाइजेशन का मतलब नहीं जानते हैं तो चिंता न करें. आज हम आपको इस बारे में पूरी जानकारी देते हैं. आइए जानते हैं इसके बारे में...

    बाजार पूंजीकरण (Market Capitalization) किसी कंपनी के मौजूदा शेयर मूल्यों (Stock Values) और बकाया शेयरों (Outstanding Shares) की कुल संख्या के आधार पर एक मूल्यांकन होता है. यह बकाया शेयरों की संख्या का एक शेयर की कीमत से गुणनफल के बराबर होता है, चूंकि बकाया स्टॉक (Outstanding stock) सार्वजनिक बाजारों में खरीदा और बेचा जाता है, इसलिए पूंजीकरण का उपयोग किसी कंपनी के कुल मूल्य (Net Worth) पर सार्वजनिक राय के संकेतक (Indicators) के रूप में किया जा सकता है. इसे मार्केट कैप (Market Cap) के नाम से भी जाना जाता है. मार्केट कैप किसी कंपनी के मूल्य को आंकने का काम करता है.

    यह भी पढ़ें: एक और प्रोत्‍साहन पैकेज लेकर आएगी सरकार! वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने दिया संकेत



    बाजार पूंजीकरण चेन
    बाजार पूंजीकरण में मार्केट कैप के जरिए पता लगाया जाता है कि निवेशक अपने स्टॉक के लिए क्या भुगतान करने वाला है. साथ ही साथ निवेशकों को एक कंपनी को दूसरे कंपनी के सापेक्ष आकार को समझाने में मदद करता है. बाजार पूंजीकरण को तीन श्रेणियों बड़े कैप, मिड कैप और छोटी कैप में बांटा गया है. प्रत्येक श्रेणी के लिए बाजार में अलग-अलग मार्केट कैप कटऑफ होती है. लेकिन इन तीनों श्रेणियों का बाजार स्वरूप अलग-अलग होता है.

    लार्ज कैप स्टॉक
    मार्केट कैप वाली कंपनियों को आमतौर पर लार्ज कैप के रूप में पहचाना जाता है. ये कंपनियां वो फर्म हैं जिन्होंने देश के बाजारों में खुद को अपने दम पर स्थापित किया है और आज यह बाजार में अग्रणी कंपनियों में से एक हैं. बाजार में खुद की स्थिति को मजबूत बनाए रखने के लिए इनके पास नियमित रूप से लाभांश का भुगतान करने का एक बेहतरीन ट्रैक रिकॉर्ड होता है. भारतीय स्टेट बैंक, भारती एयरटेल, एक्सिस बैंक, कोल इंडिया, इंफोसिस कंप्यूटर, मारुति सुजुकी, आईसीआईसीआई बैंक, महिंद्रा बॉक्स, एचडीएफसी आदि भारत में कुछ लार्ज कैप कंपनियां हैं.

    यह भी पढ़ें: Harshad Mehta Scam: 1992 से भारतीय शेयर बाजार में बदल गईं ये 8 चीजें

    मार्केट कैप इक्विटी मूल्य को दर्शाता है
    बता दें कि मार्केट कैप केवल एक कंपनी के इक्विटी मूल्य ( Equity Value) को दर्शाता है. एक फर्म की पूंजी संरचना (Capital Structure) चयन इस बात पर महत्वपूर्ण प्रभाव छोड़ता है कि उस कंपनी का कुल मूल्य इक्विटी और ऋण के बीच कैसे आवंटित किया जाएगा. एक अधिक व्यापक उपाय उद्यम मूल्य (Enterprise Value) है, जो बकाया ऋण, पसंदीदा स्टॉक और अन्य कारकों को सकारात्मक प्रभाव देता है. बीमा फर्मों के लिए, इम्बेडेड मूल्य नामक मूल्य का उपयोग किया जाता है.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज