अरबों रुपए का स्टार्टअप खड़ा करने वाले यंग बिजनेसमैन की सीवी में क्या है खास, जानिए डिटेल

 startup

startup

मुंबई. भारत में पिछले 20 साल में अरबपति स्टार्टअप खड़ा करने वाले यंग बिजनेसमैन तेजी से बढ़े हैं. क्रेडिट सुईस की एक हालिया रिपोर्ट के मुताबिक वर्तमान में भारत में 100 से ज्यादा यूनिकॉर्न (अनलिस्टेड कंपनी जिसका वैल्यूएशन एक अरब से ज्यादा) स्टार्टअप हैं.

  • Share this:

मुंबई. भारत में पिछले 20 साल में अरबपति स्टार्टअप खड़ा करने वाले यंग बिजनेसमैन तेजी से बढ़े हैं. क्रेडिट सुईस की एक हालिया रिपोर्ट के मुताबिक वर्तमान में भारत में 100 से ज्यादा यूनिकॉर्न (अनलिस्टेड कंपनी जिसका वैल्यूएशन एक अरब से ज्यादा) स्टार्टअप हैं.

इन सफल यूनिकॉर्न फाउंडरों की जब आप सीवी देखेंगे तो उनमें से ज्यादातर में बहुत सी खास बातें एक जैसी मिलेंगी. इनमें से बड़ी संख्या में देश के किसी न किसी टॉप आईआईटी से ग्रेजुएट हैं। कम उम्र में ही अपना बिजनेस शुरू कर लिए थे. इनकी प्रोफाइल का विश्लेषण करने के आधार पर कुछ रोचक तथ्य दिखते हैं.

कहां से आ रहे सबसे ज्यादा अरबपति

नए यूनिकॉर्म में ज्यादातर साल 2005 के बाद बने हैं. इनमें गेमिंग से लेकर बायोटेक तक हर रेंज के बिजनेस हैं. इन 100 यूनिकॉर्न में लगभग आधे किसी न किसी आईआईटी या आईआईएम से डिग्री होल्डर हैं. एक तिहाई किसी प्रतिष्ठित विदेशी यूनिवर्सिटी से पढ़े हैं. इंडियन इंस्टीट्यूट में आईआईटी दिल्ली, आईआई बॉम्बे औऱ आईआईटी खड़कपुर सबसे ज्यादा यूनिकॉर्म पैदा कर रहे हैं. विदेशी यूनिवर्सिटी में हार्वर्ड ने सबसे ज्यादा यूनिकॉर्म फाउंडर पैदा किए हैं. बहुत सारे फाउंडर्स ने हार्वर्ड बिजनेस स्कूल से ग्रेजुएशन किया है.
यह भी पढ़ें- क्या आप भी शेयर या म्यूचुअल फंड में निवेश करते हैं, जानिए कहां- कितना लगता है टैक्स

मजबूत एलुमनी नेटवर्क का फायदा

प्रतिष्ठित कॉलेज से डिग्री का सबसे बड़ा फायदा होता एक मजबूत एलुमनी नेटवर्क, जिससे हायरिंग में सही टैलेंट मिलते हैं और फंडिंग आसाना हो जाती है. आईआईटी, आईआईएम या टॉप फॉरेन यूनिवर्सिटी से पढ़े युवाओं को किसी दूसरे की तुलना में बहुत आसानी से शुरूआती फंडिंग मिल जाती है. शुरुआती फंडिंग किसी स्टार्टअप के लिए सबसे जरूरी और मुश्किल चीज होती है.



आईआईटी दिल्ली और हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से सबसे ज्यादा यूनिकॉर्न

Number of India's unicorns founders to have graduated from

IIT Delhi                                   10

Harvard University               9

IIT Bombay                             8

IIT Kanpur                              8

IIM Ahmedabad                    6

IIM Bangalore                       6

BITS Pilani                             5

IIM Calcutta                            5

University of Pennsylvania 5

Columbia University             3

IIT Kharagpur                        3

INSEAD                                     3

सबसे ज्यादा अरबपति स्टार्टअप फाउंडर इंजीनियरिंग और एमबीए से

100 यूनिकॉर्न में से सबसे ज्यादा संख्या टेक्नोलॉजी और टेक वाली कंपनियों का है. इनमें से एक चौथाई आईटी या सॉफ्टवेयर फर्म हैं. दस में से एक केमिकल, एलर्जी, इंडट्रियल या टेलिकॉम सेक्टर की हैं. अन्य 12 फीसदी इंजीनियरिंग या साइंस में मास्टर्स हैं.

यह भी पढ़ें- RBI ने करोड़ों ग्राहकों को अलर्ट किया! 23 मई को ऑनलाइन पैसा ट्रांसफर करने से पहले जान लें ये बात

एमबीए वाले भी पीछे नहीं है. 37 फीसदी अरबपति फाउंडर मास्टर्स इन बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन यानी एमबीए हैं. इनमें से ज्यादातर ने इंजीनियरिंग के बाद एमबीए कर रखा है.

40 फीसदी यूनिकॉर्न फाउंडरों ने 25 साल की उम्र से पहले कंपनी शुरू की

अपने बिजनेस में ज्यादातर सफल लोगों ने बिजनेस जल्दी स्टार्ट किया. उदाहरण के लिए, रितेश अग्रवाल ने 20 साल की उम्र से पहले ही ओयो रूम्स शुरू कर दिया था. Unacademy के सह-संस्थापक गौरव मुंजाल ने कॉलेज में रहते हुए YouTube ट्यूटोरियल वीडियो अपलोड करना शुरू कर दिया था। रोमन सैनी और हेमेश कुमार सिंह के साथ, गौरव ने केवल 24 वर्ष की उम्र में अपनी कंपनी की स्थापना की. 40% से अधिक यूनिकॉर्न संस्थापक ने 25 वर्ष की उम्र से पहले अपनी कंपनी शुरू की.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज