कोरोना संकट में यहां करें निवेश मिलेगा मोटा पैसा, सिर्फ 500 रुपये से कर सकते हैं शुरुआत, ये है प्रोसेस 

कंपनी होने वाले मुनाफे का कुछ हिस्सा आपको देगी

कंपनी होने वाले मुनाफे का कुछ हिस्सा आपको देगी

Investment Planning: कोरोना के इस संकट काल (corona crisis) में लोगों को फंड की काफी जरूरत पड़ रही है. ऐसे में अगर आप निवेश की योजना (Investment Planning) बनाते हैं तो आज ही 500 रुपये से निवेश शुरू कर दें. इससे आपको बेहतर रिटर्न मिलेगा और भविष्य में पैसों के लिए इधर-उधर नहीं भटकना पड़ेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 23, 2021, 12:00 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना के इस संकट काल (corona crisis) में लोगों को फंड की काफी जरूरत पड़ रही है. ऐसे में अगर आप निवेश की योजना (Investment Planning) बनाते हैं तो आज ही 500 रुपये से निवेश शुरू कर दें. इससे आपको बेहतर रिटर्न मिलेगा और भविष्य में पैसों की दिक्कतें दूर होंगी. आज हम आपको ऐसे ही एक बचत योजना के बारे में बता रहे हैं जिसका नाम है- SIP या सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान. इन दिनों SIP म्युचुअल फंड में निवेश करने का सबसे पॉपुलर तरीका हो गया है. इसके नाम से ही पता चलता है कि इसके तहत आप अपनी पसंद के म्युचुअल फंड में अपनी सुविधा के हिसाब से अलग-अलग किश्तों में एक निश्चित धनराशि जमा कर सकते हैं. बता दें कि 2019-20 में SIP के जरिए 1,00,084 करोड़ रुपये जुटाए गए थे.

आइए जानते हैं कि क्या होता है एसआईपी (What is SIP) और इसमें कैसे लगाते हैं पैसे (how SIP works)और इससे क्या फायदा (benefits of SIP) होता है...

SIP क्या होता है?

आपने वो कहावत तो सुनी ही होगी कि 'बूंद-बूंद सागर भरता है... यह कहावत SIP प्लान पर बिल्कुल सटी बैठता है। सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान में भी ऐसा ही होता है. SIP में आपको कम से कम 500 रुपये का निवेश करना होता है. आप ये निवेश साप्ताहिक, मासिक, तिमाही, छमाही या सालाना जैसे चाहे वैसे कर सकते हैं. जितना अधिक निवेश करेंगे, उतना अधिक फायदा मिलेगा. थोड़े-थोड़े पैसे जमा कर के आप कुछ समय बाद एक बड़ी रकम जुटा लेते हैं. SIP ऐसे लोगों के लिए बेहतर होता है जो लोग शेयर बाजार में सीधे या एकमुश्त निवेश नहीं करना चाहते.
ये भी पढ़ें- 1995 में Elon Musk ने इस कंपनी में भेजा था Job के लिए रिज्यूमे, फिर कुछ ऐसा हुआ और खड़ी कर दी खुद की कंपनी

ऐसे करें शुरु करें ऑनलाइन एसआईपी

एसआईपी शुरु करने के लिए आपको पैनकॉर्ड, एड्रेसप्रूफ, पासपोर्ट आकार के फोटोग्रॉफ और चेकबुक की जरुरत होती है. बता दें कि म्युचुअल फंड में निवेश करने के लिए KYC की प्रक्रिया अनिवार्य होती है. ऑनलाइन SIP शुरु करने के लिए आप किसी फंड हाउस के वेबसाइड पर जाकर अपने पसंद की एसपीआई चुन सकते हैं. इसके लिए पहले आपके KYC के नियम पूरे करने होते हैं. नए अकाउंट के लिए Register Now लिंक पर जाना होगा. फॉर्म सब्मिट करने के पहले आपको यहां अपनी सभी पर्सनल डिटेल और कॉन्टैक्ट इनफार्मेशन भरने होगें.



ऑनलाइन ट्रांसजैक्शन के लिए आपको एक यूजर नेम और पॉसवर्ड बनाना होगा. इसके अलावा SIP पेमेंट के डेबिट के लिए आपको बैंक अकाउंट डिटेल भी देने होंगे. उसके बाद आप अपने यूजर नेम के साथ लॉगइन करने के बाद अपने पसंद की स्कीम चुन सकते है. रजिस्ट्रेशन कम्प्लीट होने और फंड हाउस से इसका कंन्फर्मेशन भेजने के बाद SIP शुरु हो सकता है. सामान्य तौर एसपीआई 15 से 40 दिन के गैप के बाद शुरु होती है.

ये भी पढ़ें- बढ़ सकती है होम लोन और कार लोन की EMI, जानिए नए और मौजूदा ग्राहकों को क्या करना चाहिए?

जानें, SIP के फायदे

एसआईपी इक्विटी या डेट फंड में निवेश शुरु करने वाले ऐसे नए या पुराने निवेशकों के लिए एक बेहतर विकल्प है जो बाजार की जोखिम को कम करना चाहते हैं. इसके जरिए बिना किसी परेशानी के हम बाजार में छोटे एमाउंट और किश्तों में निवेश कर सकते हैं. इसके तहत फंड हाउस को SI (स्टैंडिंग इंस्ट्रक्शन) देकर बैंक अकाउंट से ऑटो डेबिट की सुविधा भी ले सकते हैं जिससे हर महीने आपके बैंक अकाउंट से अपने आप किश्त की राशि कट जाएगी. एसआईपी में आपको कम्पाउंडिग (चक्रवृद्धि ब्याज) का फायदा मिलता है यानी अगर आप किसी म्युचुअल फंड में 1000 रुपये , 10 फीसदी के रिटर्न रेट पर निवेश करते हैं तो एक साल में आपके द्वारा कमाया हुआ ब्याज 100 रुपये होगा.तो अगले साल आपकी ब्याज की कमाई 1100 रुपये के आधार पर होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज