• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • शेयर बाजार में रिकॉर्ड तेजी के बीच क्या कह रहे विशेषज्ञ, जारी रहेगा बुल रन या हावी होगा बीयर

शेयर बाजार में रिकॉर्ड तेजी के बीच क्या कह रहे विशेषज्ञ, जारी रहेगा बुल रन या हावी होगा बीयर

 Stock market

Stock market

बाजार में बुल रन ( Bull Run) यानी तेजी कायम रहेगी या फिर बीयर (Bear) यानी गिरावट आएगी, इसको लेकर निवेशक के बीच संशय बना हुआ है. सेंसेक्स निफ्टी अपने उच्चतम स्तर पर कारोबार कर रहे हैं. सेंसेक्स शुक्रवार को 52,975.80 के स्तर बंद हुआ.

  • Share this:
    मुंबई . भारतीय शेयर बाजार में इस समय रिकॉर्ड तेजी चल रही है. सेंसेक्स निफ्टी अपने उच्चतम स्तर पर कारोबार कर रहे हैं. सेंसेक्स शुक्रवार को 52,975.80 के स्तर बंद हुआ. इस तेजी के बीच तमाम निवेशकों को डर है कि बाजार में कोई बड़ी गिरावट न आ जाए. कोरोना के नई लहर का संकट भी सर पर मंडरा रहा है.



    बाजार में बुल रन ( Bull Run) यानी तेजी कायम रहेगी या फिर बीयर (Bear) यानी गिरावट आएगी, इसको लेकर निवेशक के बीच संशय बना हुआ है. हालांकि, ट्रेडर्स का मानना है कि मंहगाई की बढ़ती चिंता के बावजूद मौद्रिक नीति में नरमी जारी रहेगी. जिसके चलते बाजार में अभी हमें तेजी जारी रहती नजर आएगी.

    निफ्टी में रिकॉर्ड तेजी 



    मार्च 2020 के निचले स्तर से एनएसई का निफ्टी 50 इंडेक्स दोगुने से ज्यादा बढ़ चुका है. यह इस अवधि में दुनिया के सबसे बेस्ट परफॉर्मर में से एक रहा है. इस अवधि में निफ्टी लगभग हर महीने में रिकॉर्ड हाई लगाता दिखा है. निफ्टी इस महीने एशिया के भी टॉप गेनर में रहा है.

    यह भी पढ़ें - Zomato Share Price: जोमैटो की वैल्यूएशन और शेयरों की कीमत को लेकर क्यों है मतभेद? जानिए असली रेट



    दूसरे उभरते बाजारों के केंद्रीय बैंक के विपरीत भारतीय रिजर्व बैंक ने मौद्रिक नीति पर नरमी का रुख बनाए रखा है. विदेशी निवेशक भी भारतीय बाजारों में रुचि बनाए हुए हैं. इस साल अब तक भारत में करीब 7 बिलियन डॉलर का विदेशी निवेश आ चुका है. Bloomberg के आकंड़ो के मुताबिक यह किसी इमरजिंग मार्केट में हुआ सबसे बड़ा विदेशी निवेश का आंकड़ा है.



    GW&K Investment Management के Tom Masi और Nuno Fernandes का कहना है कि आरबीआई ने अपनी मौद्रिक पॉलिसी में नरमी बनाए रखी है और उम्मीद है कि अगले आने वाले महीनों में भी आरबीआई का यही रुख कायम रहेगा जिससे शेयर बाजार को सपोर्ट मिलेगा.



    यह भी पढ़ें- Payment Card कितने तरह के होते हैं, जानिए इनसे जुड़ी सभी महत्वपूर्ण बातें और इनके फायदें



    बाजार जानकारों का कहना है कि मई और जून महीनों मे Consumer prices में 6 फीसदी से ज्यादा की बढ़त देखने को मिली है. इसकी वजह से बैंक डिपॉजिट जैसे परंपरागत सोर्स से मिलने वाले रिटर्न को चोट पहुंची है. अब इंडिविजुअल इन्वेस्टर्स कमाई के वैकल्पिक स्रोत की खोज में स्टॉक मार्केट की तरफ रुख कर रहे हैं.



    रिटेल इन्वेस्टरों की भागीदारी बढ़ेगी 



    बाजार दिग्गजों का मानना है कि बाजार में हमें आगे भी रिटेल इन्वेस्टरों की भागीदारी में बढ़त देखने को मिलेगी. सेबी के आंकड़ो के मुताबिक मार्च 2021 में समाप्त वित्तवर्ष में 1.4 करोड़ नए डीमैट अकाउंट खुले हैं. जानकारों का कहना है कि आगे हमें यह संख्या और बढ़ती दिखेगी.



    सेबी के चेयरमैन अजय त्यागी ने गुरुवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेस में कहा कि कम ब्याज दर और बाजार में नकदी की पर्याप्त उपलब्धता स्टॉक मार्केट की तेजी में अहम योगदान दे रही है. नरम मौद्रिक नीतियों में आगे कोई बदलाव मार्केट पर अपना प्रभाव डाल सकता है.



    गौरतलब है कि आरबीआई ने पिछले मई से ब्याज दरों को रिकॉर्ड लो पर बनाए रखा है और बैंकिंग सिस्टम में अभूतपूर्व नकदी डाली है. जिसकी वजह से बाजार में नकदी का प्रवाह काफी ज्यादा है. इसका इक्विटी मार्केट की तेजी में अहम योगदान है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज