क्या आपको पता है किसी की मौत के बाद उनके Aadhaar-PAN, वोटर कार्ड और पासपोर्ट का क्या करना चाहिए?

काम की बात: क्या आपको पता है कि अगर किसी की मौत हो जाए तो इन दस्तावेजों को क्या करना चाहिए?

काम की बात: क्या आपको पता है कि अगर किसी की मौत हो जाए तो इन दस्तावेजों को क्या करना चाहिए?

  • Share this:
    नई दिल्ली. आधार कार्ड (Aadhaar Card), पैन कार्ड (PAN Card), वोटर आईडी कार्ड (Voter ID Card) और पासपोर्ट (Passport) ये सब कुछ ऐसे जरूरी दस्तावेज होते हैं जो प्रत्येक व्यक्ति के लिए काफी जरूरी होता है. ये दस्तावेज सरकारी पहचान पत्र के तौर पर तो अहम है ही इसके अलावा इन डाक्यूमेंट्स के बिना आप कोई भी महत्वपूर्ण कामकाज नहीं कर सकते हैं. लेकिन क्या आपको पता है कि अगर किसी की मौत हो जाए तो इन दस्तावेजों को क्या करना चाहिए? क्या ये दस्तावेज स्वयं निरस्त हो जाते हैं या जो नॉमिनी होता है उसे जाकर कैंसिल कराना पड़ता है. अगर ऐसा नहीं होता है तो इन दस्तावेजों का क्या करना चाहिए? आइए जानते हैं नियम...

    आधार कार्ड (Aadhar Card)
    आधार नंबर पहचान के प्रमाण और पते के प्रमाण के रूप में कार्य करता है. विभिन्न स्थानों जैसे एलपीजी सब्सिडी (LPG Subsidy) का लाभ उठाते समय, सरकार से छात्रवृत्ति लाभ (Students scholarship), ईपीएफ खातों (EPFO Account) आदि के मामले में आधार संख्या देना जरूरी होता है. ऐसे में आधार से जुड़ी सेवाएं देखने वाली अथॉरिटी भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) के पास मृतक के आधार कार्ड को रद्द कराने की कोई प्रक्रिया नहीं है, लेकिन अगर किसी मृतक ने कोई सरकारी योजना ली हुई थी तो उनके घर वालों को इसकी जानकारी UIDAI को देनी होगी. क्योंकि वह आधार से लिंक होती है.

    ये भी पढ़ें- Raj Kundra ने 18 साल की उम्र में शुरू किया था अपना कारोबार, पढ़ें कुंद्रा का पशमीना से लेकर पोर्न धंधे की कहानी

    पैन कार्ड (PAN Card)
    इनकम टैक्स भरने (Income Tax Return) समेत अन्य वित्तीय सुविधाओं का लाभ उठाने कि लिए पैन कार्ड का होना अनिवार्य डाॅक्यूमेंट है. यह कई अकाउंट्स से लिंक रहता है, ऐसे में अगर किसी व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तो मृतक के परिवार को आयकर विभाग में संपर्क कर पैन कार्ड को सरेंडर कर देना चाहिए. लेकिन सरेंडर करने से पहले यह सुनिश्चित कर लें कि मृतक के सभी खाते बंद हो चुके हैं.

    ये भी पढ़ें- #Tatastories: कहानी उस महिला की जिसने टाटा की कंपनी को डूबने से बचाने के लिए बेच डाला था अपना बेशकीमती सामान

    वोटर आई कार्ड (Voter ID card)
    वोटर कार्ड वोट देने के लिए अनिवार्य डाक्यूमेंट है. यह बताता है कि मतदाता सूची में आपका नाम शामिल है. हालांकि, मौत के बाद वोटर आईडी कार्ड को रद्द कराया जा सकता है. निर्वाचक पंजीकरण नियम, 1960 के तहत मतदाता पहचान पत्र मृत्यु के बाद रद्द करने का प्रावधान है. एक्सपर्ट के मुताबिक, अगर किसी के परिवार में किसी सदस्य की मृत्यु हो जाती है तो परिवार का कोई शख्स चुनाव कार्यालय में जाकर फॉर्म नंबर सात को भरकर इसे रद्द करा सकता है.

    ये भी पढ़ें- सरकार से 35% सब्सिडी लेकर शुरू करें ये कारोबार, ₹30 लाख तक की होगी कमाई, जानें पूरी डिटेल

    पासपोर्ट (Passport)
    मौत के बाद पासपोर्ट को रद्द करने का कोई प्रावधान नहीं है. हालांकि, जब पासपोर्ट की समय-सीमा समाप्त हो जाती है, तो यह अपने आप रिन्यू नहीं कराने के चलते अमान्य हो जाता है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.