Home /News /business /

रूस पर प्रतिबंध की वजह से भारत के एग्री, फार्मा और पेट्रोलियम प्रोडक्ट के निर्यात पर क्या होगा असर ?

रूस पर प्रतिबंध की वजह से भारत के एग्री, फार्मा और पेट्रोलियम प्रोडक्ट के निर्यात पर क्या होगा असर ?

 27 फरवरी को अमेरिका की फाइनेंशियल इंटेलिजेंस एजेंसी Office of Foreign Assets Control (OFAC) ने रूस पर कई तरह के प्रतिबंधों की घोषणा की थी.

27 फरवरी को अमेरिका की फाइनेंशियल इंटेलिजेंस एजेंसी Office of Foreign Assets Control (OFAC) ने रूस पर कई तरह के प्रतिबंधों की घोषणा की थी.

दुनिया भर से रूस पर लगते प्रतिबंधों की वजह से भारतीय निर्माता और निर्यातकों ने अपनी चिंता जाहिर की है. इस पर वाणिज्य मंत्रालय द्वारा नियंत्रित फेडरेशन ऑफ इंडियन एक्सपोर्ट ऑर्गनाइजेशन (FIEO) ने अपने दायरे में आने वाली 25 एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल को जरूरी दिशा-निर्देश दिए हैं.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली . रूस-यूक्रेन संकट के बीच दुनिया भर में स्थितियां जटिल हो गई हैं. रूस से भारत के गहरे व्यापारिक संबंध की वजह से भारत के लिए युद्ध का बढ़ना चिंता की बात है. इस बीच दुनिया भर से रूस पर लगते प्रतिबंधों की वजह से भारतीय निर्माता और निर्यातकों ने अपनी चिंता जाहिर की है.

इस पर वाणिज्य मंत्रालय द्वारा नियंत्रित फेडरेशन ऑफ इंडियन एक्सपोर्ट ऑर्गनाइजेशन (FIEO) ने अपने दायरे में आने वाली 25 एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल को कहा है कि agriculture, pharmaceutical और petroleum products के निर्यात को लेकर टेंशन न लें.

यह भी पढ़ें- युद्ध के प्रभाव और ग्लोबल कारणों से अगले हफ्ते बाजार में रहेगा उतार-चढ़ाव, एक्सपर्ट से समझिए मार्केट की चाल

रूस पर कई तरह के प्रतिबंध
FIEO का यह कहना रूस पर अमेरिका सहित तमाम देशों द्वारा रूस पर लगाए जा रहे प्रतिबंधों के बीच काफी महत्व रखता है. 27 फरवरी को अमेरिका की फाइनेंशियल इंटेलिजेंस एजेंसी Office of Foreign Assets Control (OFAC) ने रूस पर कई तरह के प्रतिबंधों की घोषणा की थी.

ओएफएसी (OFAC) अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा और विदेश नीति के उद्देश्यों के समर्थन में आर्थिक और व्यापार प्रतिबंधों को लागू और मैनेज करता है. यूक्रेन पर रूस के हमले के जवाब में यह रूसी व्यक्तियों और संस्थाओं पर पिछले कुछ दिनों में लगातार कई तरह के प्रतिबंध लगा रहा है.

आयात-निर्यात के लिए आठ लाइसेंस जारी
FIEO ने अपने निर्यात संवर्धन परिषदों (export promotion councils) से सदस्यों को इस संबंध में छूट और दिशानिर्देशों से अवगत कराने के लिए कहा है जो OFAC ने जारी किए है. साथ लेन-देन के लिए आठ लाइसेंस के बारे में भी बताने को कहा है.

यह भी पढ़ें- EPF में क्या आप भी बदलना चाहते हैं नॉमिनी का नाम, आसान है प्रक्रिया, जानिए डिटेल

FIEO के शीर्ष अधिकारियों ने कहा है कि इन दिशा-निर्देशों के तहत रूस को कृषि, फार्मा और पेट्रोलियम उत्पादों के हमारे निर्यात को प्रतिंबधों के अंदर नहीं रखा जाएगा.

वाणिज्य मंत्रालय के निर्यात संगठन निकाय ने अपने सदस्यों को बताया कि “विशेष रूप से, OFAC ने आठ सामान्य लाइसेंस जारी किए हैं. इसके तहत अंतरराष्ट्रीय संगठनों और संस्थाओं को कृषि और चिकित्सा वस्तुओं व COVID-19 महामारी, ओवरफ्लाइट व आपातकालीन लैंडिंग, ऊर्जा, ऋण में लेनदेन से संबंधित कुछ ट्रांजेक्शन को अधिकृत करते हैं.

Tags: Export, Import-Export, Indian export, Manufacturing and exports, Organization of the Petroleum Exporting Countries

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर