• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • WHICH INVESTMENT INSTRUMENT WOULD MAKE BETTER PROFIT IN SOVEREIGN GOLD BOND PHYSICAL GOLD OR GOLD FUND KNOW EVERYTHING BEFORE SUBSCRIBING TO SGB TODAY ACHS

सॉवरेन गोल्‍ड बॉन्‍ड में निवेश से पहले जानें कौन-सा सोना देगा ज्‍यादा मुनाफा, कहीं गोल्‍ड ईटीएफ या फिजिकल गोल्‍ड तो नहीं बेहतर

सॉवरेन गोल्‍ड बॉन्‍ड को सब्‍सक्राइब करने पहले जान लें कि एसजीबी, गोल्‍ड या गोल्‍ड ईटीएफ में कहां ज्‍यादा मुनाफा मिल सकता है.

केंद्र सरकार सॉवरेन गोल्‍ड बॉन्‍ड को आज यानी 17 मई 2021 से सब्‍सक्रिप्‍शन (SGB Subscription) के लिए खोल रही है. इसका इश्‍यू प्राइस (Issue Price) 4,777 रुपये प्रति ग्राम तय किया गया है. ऑनलाइन मोड से आवेदन और पेमेंट करने पर 50 रुपये प्रति ग्राम का डिस्काउंट (Discount on SGB) भी मिलेगा.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. केंद्र सरकार ने मई 2021 से सितंबर 2021 के बीच सॉवरेन गोल्‍ड बॉन्‍ड स्‍कीम 2021-21 (SGB Scheme 2021-22) के तहत गोल्ड बांड्स को छह किस्तों में जारी करने का फैसला किया है. इसका पहला ट्रेंच आज यानी 17 मई 2021 को सब्सक्रिप्शन के लिए खुलेगा. इसके लिए इश्यू प्राइस (Issue Price) 4,777 रुपये प्रति ग्राम तय किया गया है. वहीं, ऑनलाइन मोड से आवेदन और भुगतान करने पर 50 रुपये प्रति ग्राम की छूट (Discount Price) भी मिलेगी. माना जाता है कि गोल्ड बांड में निवेश सबसे बेहतर विकल्प है. हालांकि, निवेश से पहले ये जानना जरूरी है कि एसजीबी, फिजिकल गोल्‍ड (Physical Gold) या गोल्‍ड फंड (Gold ETF) में से कौन बेहतर मुनाफा (Return) देता है.

    फिजिकल गोल्‍ड ने 96 महीने में दिया 60 फीसदी मुनाफा
    सॉवरेन गोल्‍ड बॉन्‍ड का मैच्‍योरिटी पीरियड 8 साल यानी 96 महीने है. ऐसे में निवेशकों को सोने में बाकी दोनों तरह के निवेश विकल्‍पों के भी 8 साल के प्रदर्शन यानी मुनाफे या घाटे का आकलन करना चाहिए. सबसे पहले फिजिकल गोल्‍ड के पिछले 8 साल के प्रदर्शन का आकलन करते हैं क्‍योंकि ये सबसे ज्‍यादा चलन में है. ज्‍यादातर भारतीयों के घर या लॉकर में फिजिकल गोल्‍ड वर्षों तक यूं ही पड़ा रहता है. फिजिकल गोल्‍ड का भाव 8 साल पहले 29,600 रुपये प्रति 10 ग्राम था, जो इस समय करीब 47,700 रुपये है. दूसरे शब्‍दों में समझें तो 8 साल में फिजिकल गोल्ड ने करीब 60 फीसदी मुनाफा दिया. इसमें ये ध्‍यान रखना होगा कि ये मुनाफा गोल्‍ड बार पर है. अगर यही रुख जारी रहा तो अगले 8 साल में 47,700 के निवेश की वैल्यू करीब 76,320 रुपये हो जाएगी. अगर ज्‍वेलरी में निवेश किया है तो मुनाफा कम हो जाएगा.

    ये भी पढ़ें- धर्मेंद्र प्रधान ने बताया, रोज 6650 टन मेडिकल ऑक्‍सीजन की आपूर्ति कर रही हैं स्‍टील और पेट्रोलियम कंपनियां

    गोल्‍ड ईटीएफ पर देना होता है टैक्स-एक्‍सपेंस रेशियो
    सोने में निवेश करने वालों के बीच गोल्ड एक्‍सचेंज ट्रेडेड फंड (Gold ETF) भी काफी पसंद किया जाता है. इमें 8 साल पहले किए निवेश पर करीब 6.4 फीसदी का सालाना मुनाफा मिला है. अगर यही रुख जारी रहता है तो अगले 8 साल में 47,700 के निवेश की वैल्यू करीब 78,400 रुपये हो जाएगी. ईटीएफ पर टैक्स भी देना होगा और एक्सपेंस रेशियो भी चुकाना होगा. ऐसे में इस पर मिलने वाला रिटर्न कम हो सकता है. ईटीएफ में निवेश पर इंडेक्सेशन का लाभ भी मिलता है. यह फायदा सिर्फ ईटीएफ में मिलता है.

    ये भी पढ़ें- Sensex दो दशक से गोल्‍ड के मुकाबले दे रहा ज्‍यादा रिटर्न, फिर भी फिलहाल Gold खरीदना ही बेहतर, जानें क्‍यों

    एसजीबी में सिर्फ ब्‍याज पर ही चुकाना होगा टैक्‍स
    सॉवरेन गोल्‍ड बांड पर सालाना 2.5 फीसदी ब्याज मिलेगा. दूसरे शब्‍दों में कहें तो 47,700 रुपये के निवेश पर हर साल 1192.50 रुपये और 8 साल में कुल मिलाकर 9,540 रुपये ब्याज के तौर पर मिल जाएंगे. हालांकि, इस पर स्लैब के हिसाब से टैक्स चुकाना होगा. मैच्योरिटी के समय यानी 8 साल बाद निवेश की वैल्यू 76,320 रुपये हो जाएगी, जिस पर टैक्स नहीं चुकाना होगा. कुल मिलाकर एसजीबी बांड में निवेश किए गए 47,700 रुपये 8 साल में ब्याज मिलाकर 85,860 रुपये हो जाएंगे. इसमें सिर्फ ब्याज के 9540 रुपये पर ही टैक्स देनदारी बनेगी. इस स्कीम में आपका रिटर्न फिजिकल गोल्ड और गोल्ड ईटीएएफ से ज्यादा रहेगा.
    Published by:Amrit Chandra
    First published: