जानिए देबाशीष के बारे में, कैसे एक बिजनेस आइडिया ने दिलाई सफलता

Amazon ऐप के ज़रिए आप पे बैलेंस में 15,000 रुपये जीत सकते हैं.

किसी ने ठीक ही कहा है कि नेतृत्व असल मे एक सोच को अपनी क्षमता द्वारा हकीकत में बदलने की कला है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. किसी ने ठीक ही कहा है कि नेतृत्व असल मे एक सोच को अपनी क्षमता द्वारा हकीकत में बदलने की कला है. एक अच्छा नेतृत्व किसी भी व्यवसाय ले लिए बेहद ज़रूरी होता है क्योंकि असल जिंदगी में सिर्फ अनुमान के तौर पर काम नही किया जा सकता. आपको ठोस फैसले लेने वाले एक नेतृत्व की आवश्यता ज़रूर पड़ती है. आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बता रहे हैं जिसने अपनी दूरदर्शी सोच की वजह से सफलता की नए आयाम स्थापित कर रहे है. ये शख्स हैं- देबाशीष तालुकदार (Debashish Talukdar).

    जानिए क्या है कारोबार?
    Valetudo Systems, देबाशीष की ऐसी ही सोच का एक नमूना है. यह कंपनी विज्ञान और स्वास्थ्य उद्योग साझेदारी से एक ऐसी वस्तु तैयार की है जो बैक्टीरिया वायरस का सफाया करता है साथ ही साथ उन कीटाणुओं को भी मारता है जो आगे जाकर घातक बीमारियां फैलाते हैं. उनका पहला प्रोडक्ट, हेलिओस, एक ओवन के आकार में आता है और यह भोजन को साफ करने के लिए यूवीसी और मैग्नेट्रोन का उपयोग करता है. यह इन-बिल्ट कैमरा के साथ भी आता है. एक बार खाना तैयार हो जाने के बाद, शेफ इसे खाने में डाल देता है. सबसे पहले, यूवीसी भोजन की सतह पर कीटाणुओं को नष्ट करने का काम करता है और मैग्नेट्रॉन माइक्रोवेव एनर्जी का इस्तेमाल करके खाने के अंदर वाटर मॉलिक्यूल को एक्टिवेट कर देता है और इस तरह से पूरे खाने को समान रूप से गर्म ऊर्जा का अहसास होता है.

    ये भी पढ़ें- 7th pay commission: 52 लाख केंद्रीय कर्मचारियों और 60 लाख पेंशनर्स के लिए खुशखबरी! 26 जून को मिलेगा DA का तोहफा

    आप कर सकते हैं इसे ट्रैक
    इस पूरे घटनाक्रम को कस्टमर अपने मोबाइल पर भी देख सकता है इसके लिए उसे एक ओटीपी लेना होगा जिसे Valetudo Systems की वेबसाइट पर डालकर वो इस पूरे घटना क्रम को देख पायेगा और यह सुनिश्चित कर पायेगा कि उसका खाना सुरक्षीत है व कीटाणुओं से मुक्त है. दूसरा प्रोडक्ट, फालियन, एक सेल्फ-ड्राइविंग सैनिटरी रोबोट है जो होटलों और कार्यक्षेत्रों को COVID-19 के लिए सरकारी नियमों और प्रोटोकॉल के आयामों को पूरा करने में मदद करता है. यह सिर्फ 5 मिनट में 120sqft की जगह को सैनिटाइज करके करता है. इसमें एक GPS भी लगा हुआ है जो यह जानने में मदद करता है कि किसी कमरे को सैनिटाइज किया गया था या नहीं. विश्वास स्थापित करने के लिए UVC हेलिओस में उपयोग की गई वही ब्लॉकचेन तकनीक यहां भी उपयोग की जाती है. फालियन को होटल के कमरे, मीटिंग स्पेस और कार्यस्थलों पर लागू किया जा सकता है.

    क्या कहते हैं देबाशीष?
    देबाशीष ने कहा कि महामारी की वजह से रेस्ट्रॉन्ट और होटल के व्यवसाय को बहुत नुकसान हुआ है. इसलिए हमें ऐसे योजनाओं पर काम करना होगा जिससे इसके नुकसान की भरपाई की जा सके.उन्होंने यह भी कहा कि उनकी कंपनी भविष्य को ध्यान में रखते हुए प्रोडक्ट्स का निर्माण करता है. समाज का कल्याण करना व आने वाले समय में जिन उपकरणों की ज़रूरत पड़ने वाली है उन्हें लोगो को तक पहुंचाना ही उनका मकसद है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.