कोरोना संकट के बीच महंगाई की मार! अप्रैल 2021 में ऑलटाइम हाई पर पहुंची थोक मुद्रास्‍फीति दर, जानें क्‍या हुआ महंगा

अप्रैल 2021 में थोक महंगाइ्र दर रिकॉर्ड स्‍तर पर पहुंच गई. (सांकेतिक तस्वीर)

अप्रैल 2021 में थोक महंगाइ्र दर रिकॉर्ड स्‍तर पर पहुंच गई. (सांकेतिक तस्वीर)

थोक महंगाई दर (WPI) अप्रैल 2021 में पिछले सभी रिकॉर्ड तोड़ते हुए सर्वोच्‍च स्‍तर (All-Time High) पर पहुंच गई है. मार्च 2021 में थोक मुद्रास्‍फीति 7.39 फीसदी पर थी. केंद्र सरकार का कहना है कि पेट्रोल-डीजल के दाम (Petrol-Diesel Price) बढ़ने के कारण थोक महंगाई में बढ़ोतरी आई है.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. कोरोना संकट के बीच आम आदमी पर हर तरफ से मार पड़ रही है. कोविड-19 की दूसरी लहर में जहां लाखों लोगों का रोजगार छिन (Job Loss) गया है, वहीं अब महंगाई (Inflation) ने भी उनकी मुसीबतें बढ़ा दी हैं. देश में अप्रैल 2021 के दौरान थोक महंगाई (WPI) में रिकॉर्डतोड़ तेजी देखने को मिली है. अप्रैल में थोक मंहगाई दर बढ़कर 10.49 फीसदी पर पहुंच गई है, जो अब तक सर्वोच्‍च स्‍तर (All-Time High) है. मार्च 2021 में थोक महंगाई दर 7.29 फीसदी पर थी, जो 8 साल में सबसे ज्यादा थी. बता दें कि थोक महंगाई में लगातार तेजी देखने को मिल रही है. फरवरी में थोक महंगाई दर 4.17 फीसदी पर थी.

पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ने से थोक महंगाई में वृद्धि

केंद्रीय वाणिज्य मंत्रालय (Commerce Ministry) ने कहा कि अप्रैल 2021 में थोक मूल्य आधारित मुद्रास्फीति 10.49 फीसदी रही. मंत्रालय ने कहा कि कच्चे तेल, पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ने के कारण अप्रैल 2021 में थोक महंगाई दर बढ़ गई है. इसी तरह मैन्युफैक्चर्ड प्रोडक्‍ट्स के दाम भी बढ़े हैं. मार्च 2021 के मुकाबले अप्रैल में प्राथमिक वस्तुओं जैसे धातुओं, कच्चे तेल व गैस, खाद्य वस्तुओं और गैर खाद्य वस्तुओं के दाम 3.83 फीसदी बढ़े हैं. मैन्युफैक्चर्ड प्रोडक्ट की थोक महंगाई दर मार्च के 7.34 फीसदी से बढ़कर अप्रैल में 9.01 फीसदी पर आ गई है. अप्रैल 2021 में प्राइमरी आर्टिकल्स की थोक महंगाई मार्च के 6.40 फीसदी से बढ़कर 10.16 फीसदी पर पहुंच गई है.

ये भी पढ़ें- WHO की सख्‍त चेतावनी: हफ्ते में 55 घंटे से ज्‍यादा किया काम तो बढ़ जाएगा मौत का खतरा, हृदय रोग के बढ़े मामले
अप्रैल 2021 में दाल, दूध, सब्‍जी, प्‍याज के दाम घटे

अप्रैल 2021 के दौरान ईंधन और ऊर्जा महंगाई मार्च 2021 के 10.25 फीसदी से बढ़कर 20.94 फीसदी पर आ गई है. इस दौरान बिजली, कच्चा तेल, पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस के दाम बढ़े हैं. मासिक आधार पर अप्रैल में खाद्य थोक महंगाई मार्च के 5.28 फीसदी से 7.58 फीसदी पर पहुंच गई. हालांकि, इस दौरान दालों की महंगाई दर में गिरावट देखने को मिली है. ये मार्च के 13.14 फीसदी से घटकर 10.74 फीसदी पर आ गई है. वहीं, अंडा-मीट, मछली पर महंगाई मार्च 2021 के 5.38 फीसदी से बढ़कर अप्रैल में 10.88 फीसदी रही है. प्याज की महंगाई मार्च के 5.15 फीसदी के मुकाबले (-) 9.03 फीसदी पर रही है. अप्रैल में दूध की महंगाई मार्च के 2.65 फीसदी से घटकर 2.04 फीसदी पर रही है. सब्जियों की थोक महंगाई मार्च के 5.19 फीसदी के मुकाबले (-) 9.03 फीसदी पर आ गई है. आलू की थोक महंगाई दर मार्च के -33.40 फीसदी के मुकाबले -30.44 फीसदी पर रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज