जुलाई में थोक महंगाई दर 0.58 फीसदी नीचे रही, खाद्य वस्तुओं के दाम बढ़े

जुलाई में थोक महंगाई दर 0.58 फीसदी नीचे रही, खाद्य वस्तुओं के दाम बढ़े
खाद्य वस्तुओं की महंगाई जुलाई के चार महीने का उच्चतम स्तर है.

WPI Data: वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय द्वारा जारी बयान में कहा गया, ‘‘मासिक डब्ल्यूपीआई पर आधारित मुद्रास्फीति की वार्षिक दर जुलाई, 2020 में शून्य से 0.58 फीसदी (अनंतिम) प्रतिशत नीचे रही, जो पिछले साल की समान अवधि में 1.17 फीसदी थी.’’

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 14, 2020, 8:50 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. थोक कीमतों पर आधारित महंगाई की दर जुलाई में शून्य से 0.58 फीसदी नीचे रही. इस दौरान खाद्य वस्तुओं की कीमतों में बढ़ोतरी देखी गई जिससे थोक मुद्रास्फीति पिछले माह से ऊंची हुई. थोक मुद्रास्फीति जून में शून्य से 1.81 फीसदी नीचे, जबकि मई और अप्रैल में यह क्रमश: शून्य से 3.37 फीसदी और शून्य से 1.57 फीसदी नीचे थी. थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) मद्रास्फीति पिछले चार महीनों से शून्य से नीचे है. इसके शून्य से नीच होने का अर्थ है कि सामान्य कीमतें पिछले साल की तुलना में घटी हैं

वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय द्वारा जारी बयान में कहा गया, ‘‘मासिक डब्ल्यूपीआई पर आधारित मुद्रास्फीति की वार्षिक दर जुलाई, 2020 में शून्य से 0.58 फीसदी (अनंतिम) प्रतिशत नीचे रही, जो पिछले साल की समान अवधि में 1.17 फीसदी थी.’’

सब्जियों की महंगाई दर
खाद्य वस्तुओं की महंगाई जुलाई के दौरान 4.08 फीसदी थी, जो चार महीने का उच्चतम स्तर है. इस दौरान खासतौर से सब्जियों की कीमत में तेजी देखने को मिली. सब्जियों की महंगाई दर जुलाई में 8.20 फीसदी थी, जबकि जून में सब्जियों का भाव एक साल पहले की तुलना में 9.21 फीसदी नीचे था.
यह भी पढ़ें: किसान क्रेडिट कार्ड: SBI ने YONO कृषि प्लेटफॉर्म पर लॉन्च किया नया फीचर



इस दौरान दलहन की कीमतों में 10.24 फीसदी का इजाफा हुआ, जबकि आलू जुलाई में 69.07 फीसदी महंगा हुआ. प्रोटीन की बहुलता वाले खाद्य पदार्थों जैसे अंडा, मीट और मछली की कीमतों में 5.27 फीसदी की बढ़ोतरी हुई. हालांकि, प्याज और फल सस्ते हुए. हालांकि, जुलाई में ईंधन और बिजली की मुद्रास्फीति (-) 9.84 फीसदी रही गई, जो इससे पिछले महीने में शून्य से 13.60 फीसदी नीचे थी. विनिर्मित उत्पादों की मुद्रास्फीति जुलाई में 0.51 प्रतिशत थी, जो जून में 0.08 प्रतिशत थी.

क्यों हुआ इजाफा
आईसीआरए की प्रधान अर्थशास्त्री अदिति नायर ने कहा कि पिछले महीने की तुलना में जुलाई 2020 में डब्ल्यूपीआई अवस्फीति में काफी कमी हुई है और ऐसा कच्चे तेल के साथ ही खाद्य वस्तुओं की कीमतों में तेजी के चलते हुआ है.

यह भी पढ़ें: ₹1 लाख से अधिक की ज्वेलरी खरीद की देनी होगी जानकारी, जानिए और क्या बदला

उन्होंने कहा कि टमाटर की कीमतों में बढ़ोतरी दो अंकों में रही, जबकि खाद्यान्न की मुद्रास्फीति में राहत देखने को मिली. आरबीआई ने पिछले सप्ताह अपनी नीतिगत समीक्षा में ब्याज दरों को अपरिवर्तित रखते हुए कहा था कि मुद्रास्फीति का जोखिम बना हुआ है. केंद्रीय बैंक का अनुमान है कि अक्टूबर-मार्च की अवधि में खुदरा मुद्रास्फीति कुछ नरम पड़ेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज