होम /न्यूज /व्यवसाय /Mutual Fund से Aadhaar को लिंक करना क्यों है जरूरी, जानिए आसान तरीका

Mutual Fund से Aadhaar को लिंक करना क्यों है जरूरी, जानिए आसान तरीका

इक्विटी म्युचुअल फंड में 25 से 30 साल तक निवेश पर 15 फीसदी सालाना रिटर्न की उम्मीद की जा सकती है.

इक्विटी म्युचुअल फंड में 25 से 30 साल तक निवेश पर 15 फीसदी सालाना रिटर्न की उम्मीद की जा सकती है.

बैंकिंग सेक्टर हो या फिर इनकम टैक्स से जुड़ा कोई काम पैन कार्ड और आधार कार्ड का आपस में लिंक होना अनिवार्य कर दिया है. ...अधिक पढ़ें

Investment Tips: पिछले कुछ सालों में देश में म्यूचुअल फंड में निवेश का ट्रेंड तेजी सेबढ़ा है. अगर आप भी म्यूचुअल फंड में निवेश करते हैं तो कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखना जरूरी है. अब म्यूचुअल फंड में निवेश करने वालों के लिए पैन कार्ड को आधार कार्ड से जोड़ना ज़रूरी हो गया है. ऐसा नहीं करने पर आपको म्युचुअल फंड पर राशि जोड़ने व निकालने में परेशानी आ सकती है.

जैसा कि आप जानते है कि बैंकिंग सेक्टर हो या फिर इनकम टैक्स से जुड़ा कोई काम पैन कार्ड और आधार कार्ड का आपस में लिंक होना अनिवार्य कर दिया है. निवेश के मामले में भी कई दफा पैन और आधार को जोड़ने की बात कही जाती है. इसलिए आज ही आप म्यूचुअल फंड में निवेश करते हैं तो यहां भी इन दोनों को आपस में जोड़ना जरूरी हो जाता है.

तब तक लिंक कराना जरूरी

अगर आपने अभी तक अपने पैन और आधार कार्ड को आपस में लिंक नहीं किया है तो 31 मार्च से पहले-पहले यह काम जरूर कर लें. अगर 31 मार्च तक आपका आधार-पैन कार्ड लिंक नहीं होता है तो इसका असर म्यूचुअल फंड निवेश पर पड़ेगा. क्योंकि इस तारीख के बाद आपका आधार कार्ड अमान्य हो जाएगा. इतना ही नहीं और फिर आप म्यूचुअल फंड में ना तो नया निवेश कर सकेंगे और न ही अपना पैसा निकाल सकेंगे. म्यूचुअल फंड में निवेश के लिए पैन कार्ड का उल्लेख करना जरूरी कर दिया है.

यह भी पढ़ें- EPF में क्या आप भी बदलना चाहते हैं नॉमिनी का नाम, आसान है प्रक्रिया, जानिए डिटेल

एसआईपी भी बंद हो जाएगी 

पैन इसलिए भी जरूरी म्यूचुअल फंड में निवेश करने के लिए, आपको दो दस्तावेजीकरण प्रक्रिया से गुजरना होगा. एक, आपको अपने ग्राहक को जानिए (केवासी) मानदंडों का पालन करना होगा और दूसरा, आपके पास एक वैध पैन होना चाहिए. ऐसे में आधार से लिंक न होने के कारण अगर आपका पैन अमान्य हो जाता है तो आप म्यूचुअल फंड में निवेश नहीं कर पाएंगे.

अगर आपका पैन इनवैलिड हो जाता है तो सिस्टमैटिक इंवेस्टमेंट प्लान (एसआईपी) से किए जाने वाला निवेश भी रुक जाएगा. यानी आप अपने म्यूचुअल फंड स्कीम में नई यूनिट नहीं जोड़ सकेंगे. रिडेंप्शन और एसडब्‍लूपी नहीं करेगा काम अगर किसी म्यूचुअल फंड स्कीम में निवेश किया है तो पैन इनवैलिड होने पर उसे निकाल नहीं सकेंगे. यानी रिडेंप्शन रिक्वेस्ट्स रिजेक्ट हो जाएगी. वहीं, सिस्टमैटिक विदड्रॉल प्लान (एसडब्‍लूपी) भी रुक जाएगा.

यह भी पढ़ें- विदेशी निवेशक झोला भर-भर के बेच रहें हैं शेयर, FY22 में 2.22 लाख करोड़ के शेयर की बिकवाली

क्या है ऑनलाइन प्रक्रिया – 

https://eiscweb.camsonline.com/plkyc पर जाना होगा.

– अगर यूजर आईडी पासवर्ड है तो लॉग इन करें, अगर नहीं है तो पहले साइन अप करें.

– साइन के बाद आप आधार सीडिंग फॉर्म भरें. इस फॉर्म में आपसे आपके पैन कार्ड का नंबर भी पूछा जाएगा. फॉर्म पूरा भरने के बाद सब्मिट कर दें.

– आधार ऑथेंटिकेशन कम्पलीट होने पर ओटीपी आएगा. इसे डालें, जिसके बाद आपके पास एक कंफर्मेशन का मैसेज आएगा कि आपका म्यूचुअल फंड आधार कार्ड से लिंक हो चुका है.

क्या है प्रक्रिया

अगर आप चाहते हैं कि आधार कार्ड लिंक करने की प्रक्रिया ऑनलाइन न हो कर ऑफलाइन हो तो इस तरीके को फॉलो करें.

– रजिस्ट्रार की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर सबसे पहले केवाईसी फॉर्म डाउनलोड कर लें.

– फॉर्म में पूछे गए जरूरी डिटेल्स मसलन पैन कार्ड, आधार नंबर, ये सब भरना न भूलें. आधार कार्ड को सेल्फ अटेस्ट भी करें. इस फॉर्म को नजदीक स्थित रजिस्ट्रार कार्यालय में जमा कर दें.

– डॉक्यूमेंट का पूरा वेरिफिकेशन होने के बाद आपका म्यूचुअल फंड आधार कार्ड से लिंक कर दिया जाएगा. इसकी सूचना आपको एसएमएस के जरिए मिलेगी.

Tags: Aadhaar pan linking deadline, Aadhar card, Mutual fund, Mutual funds, Returns of mutual fund SIPs

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें