ATM से पैसा निकालना हुआ महंगा, ये तरीका अपनाएंगे तो नहीं लगेगा कोई चार्ज

अब दूसरे बैंक के एटीएम से पैसे निकालना ग्राहकों के लिए महंगा हो चुका है.

अब दूसरे बैंक के एटीएम से पैसे निकालना ग्राहकों के लिए महंगा हो चुका है.

कई बैंक अनलिमिटेड फ्री विड्रावल (unlimited free withdrawal) का ऑफर करते हैं, यदि कस्टमर्स ज्यादा राशि डिपॉजिट करने के लिए तैयार रहते हैं. यह सामान्य तौर पर प्रीमियम बैंक अकाउंट होते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 11, 2021, 10:06 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने बैंकों को एटीएम (ATM) से पैसा निकालने के लिए लगने वाले चार्ज को बढ़ाने की अनुमति हाल ही में दी है. जिसके बाद अब एटीएम से पैसा निकालने के लिए तय लिमिट से ज्यादा विड्राल के लिए ज्यादा पैसा लगेगा. हालांकि इसमें बहुत ज्यादा बढ़ोत्तरी नहीं हुई है. पहले जहां 20 रुपये लगता था वहीं अब 21 रुपये लगेगा. कस्टमर्स को अभी को पांच ट्रांजैक्शन किसी भी अन्य बैंक के एटीएम से फ्री रहेंगे. बढ़ा हुआ चार्ज उसके बाद लगेगा. वृद्धि के बावजूद यदि आप पहले भी एटीएम विड्राल चार्ज में कटौती कर सकते हैं या फिर पूरी तरह इससे बच भी सकते हैं. तो आज जानते हैं वो कौन से तरीके हैं…

अपने बैंक खाते को अपग्रेड करें

कई बैंक अनलिमिटेड फ्री विड्राल (Unlimited Free Withdrawal) का ऑफर करते हैं यदि कस्टमर्स ज्यादा राशि डिपॉजिट करने के लिए तैयार रहते हैं. यह सामान्य तौर पर प्रीमियम बैंक अकाउंट होते हैं. जहां कस्टमर को न्यूनतम 20 हजार रुपये महीने का बैंक बैलेंस मेंटेंन करना होता. उदाहरण के तौर पर कोटर महिंद्रा बैंक को ले लें. बैंक की आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार इसका प्रो सेविंग अकाउंट बैंक के वीजा एटीएम के माध्यम से मुफ्त कैश निकासी की अनुमति देता है. लेकिन इसके लिए न्यूनतम 20,000 रुपये का मासिक बैलेंस बैंक में रखना और हर लेनदेन की सीमा 10,000 रुपये हैं. एचडीएफसी बैंक के पास बचत मैक्स खाता है, जहां यह सभी एटीएम और अन्य लाभों पर मुफ्त लेनदेन प्रदान करता है. इसके लिए जमाकर्ता को 25 हजार का मासिक बैलेंस बैंक में रखना जरूरी होता है.

ये भी पढ़ें- इकोनॉमी के मोर्चे पर सरकार को राहत, अप्रैल में 134 फीसदी बढ़ी IIP की ग्रोथ
डिजिटल तरीका अपनाए पेमेंट का

अब कई शॉपकीपर्स डिजिटल पेमेंट स्वीकार करते है. यूनीफाइड पेमेंट इंटरफेस यानि यूपीआई इसका सबसे सामान्य तरीका है. इसलिए डिजिटल पेमेंट को अपनाकर आप आसानी से अपने खर्चों पर भी नजर रख सकते हैं. ज्यादातर डिजिटल ट्रांजेैक्शन पर किसी भी प्रकार का चार्ज नहीं लगता है. वर्तमान में यूपीआई के अलावा भी कई विकल्प है. यूपीआई के अलावा आप डेबिट कार्ड,  क्रेडिट कार्ड या ई-वॉलेट का इस्तेमाल भी किया जा सकता है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज