COVID 19 के बाद घर खरीदने के मामले में पुरुषों से आगे निकलीं महिलाएं, उठाना चाहती हैं ये लाभ, पढ़ें पूरी खबर

Women Home buyers

Women Home buyers

ज्यादातर महिलाएं रियल एस्टेट (real estate) में निवेश करना चाहती है. एक रिपोर्ट के मुताबिक, वर्तमान में महिलाएं घर खरीदारी में मुख्य भूमिका में हैं. करीब 71% महिलाएं तैयार घर (Rady to move) खरीदना ज्यादा पसंद करती हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 4, 2021, 11:06 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. घर खरीदने में पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में अधिक दिलचस्पी बढ़ी है. कोरोनावायरस महामारी (Corona Virus Pandemic) के बाद ज्यादातर भारतीय महिलाएं घर खरीदने के प्रति इच्छुक है. ज्यादातर महिलाएं रियल एस्टेट (real estate) में निवेश करना चाहती है. एक रिपोर्ट के मुताबिक, वर्तमान में महिलाएं घर खरीदारी में मुख्य भूमिका में हैं. करीब 71% महिलाएं तैयार घर (Rady to move) खरीदना ज्यादा पसंद करती हैं. वहीं, 62%महिलाएं जो कि प्रोपर्टी में निवेश करना चाहती है. प्रॉपर्टी कंसल्टेंट कंपनी एनरॉक (Anarock Survey) के हालिया रिपोर्ट के मुताबिक, कोरोना से पहले जहां रियल एस्टेट में निवेश पर 57% महिलाओं ने वोट किया था वहीं अब ताजा सर्वे में यह बढ़कर 62% हो गया. सर्वे में कहा गया है कि अब अधिकतर महिलाएं होम बायर्स रेडी टू मूव प्रॉपर्टी को प्राथमिकता दे रहीं हैं, यानी वे अधूरे प्रॉपर्टी में निवेश से बच रहीं हैं.

जानिए कैसा घर चाहती हैं महिलाएं

रिपोर्ट के मुताबिक, करीब 70% से अधिक महिलाओं ने कहा कि घर खरीदने का यह सबसे उत्तम समय है. इसमें करीब 66% महिलाएं ऐसी हैं जो कि अर्फोडेबल हाउसिंग (affordable and mid-segment housing) में निवेश करना चाहति है. यानी कि 90 लाख रुपए व उससे कम तक की प्रॉपर्टी में रुचि रखती हैं. वहीं, 5% महिलाएं 2.5 करोड़ रुपए की प्रॉपर्टी में निवेश करने के प्रति इच्छुक हैं. अधिकतर महिलाओं ने बेडरूम, किचन और हॉल (BHK) फॉर्मेट में खरीदना चाहती है. करीब 46% महिलाएं 3BHK, केवल 30% 2BHK और 10% 4BHK के लिए इंट्रस्टेड रहीं.

ये भी पढ़ें- I-T Refund: आयकर विभाग ने 11 महीने में 1.95 करोड़ टैक्सपेयर्स को भेज दिए 1.98 लाख करोड़
सस्ते होम लोन से प्रभावित हैं महिलाएं

सर्वे के मुताबिक, 82% महिलाएं घर पर्सनल इस्तेमाल के लिए खरीदना चाहती है वहीं, केवल 18% महिलाएं इसे निवेश के लिहाज खरीदना चाहती है. रिपोर्ट में बताया गया है कि महिलाएं डेवलपर्स के आकर्षक आॅफर्स, डिस्काउंट और सस्ते होम लोन के चलते खरीदना चाह रही हैं. एनरॉक प्रॉपर्टी कंसल्टेंट के रिसर्च हेड और डायरेक्टर प्रशांत ठाकुर ने कहा कि भारतीय महिलाएं अब फाइनेंशियल सिक्योरिटी के बजाय निवेश पोर्टफोलियो को विविध बना रही हैं. करीब 62% महिलाएं रियल एस्टेट को प्राथमिकता दिया, जबकि सर्वे में शामिल 54% पुरुषों ने शेयर बाजार, FD और गोल्ड में निवेश की इच्छा जताई. बता दें कि एनरॉक की यह फरवरी में किया गया था. 3,900 लोगों पर आधारित सर्वे है. इसमें 39% महिलाएं रहीं.

ये भी पढ़ें- पॉलिसीधारकों के लिए जरुरी खबर! सरकार ने बनाए बीमा से जुड़े नए नियम, ग्राहकों को मिलेगी ये सुविधा



सरकारी योजनाओं का मिलता है लाभ

बता दें कि महिला घर खरीदारों के लिए कई तरह की सरकारी पाॅलिसीज भी उपलब्ध हैं. इसके लिए 2015 में प्रधानमंत्री आवास योजना को लॉन्च किया था, जिसके तहत महिला को को-ओनर बनाना अनिवार्य है. इसके अलावा खरीदारी के समय महिलाओं को स्टैंप ड्यूटी को कम देने की व्यवस्था दी गई है. कई बैंक पुरुषों की तुलना में महिलांओं को कम ब्याज दर पर लोन देते हैं. दोनों के बीच करीब 0.25% का अंतर होता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज